कब, कैसे, कौन कराएगा प्रवेश परीक्षाएं, जानिए 10 सवालों के जवाब

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

नई दिल्ली. मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शनिवार को कहा कि अगले सत्र (2018-19) से जेईई मेन्स, नीट,  नेट, सीमैट और जीपैट की परीक्षाएं नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (एनटीए) की तरफ से आयोजित कराई जाएंगी। इसके साथ ही जेईई मेन्स और नीट की परीक्षाएं अब से साल में दो बार आयोजित होंगी। अभी तक ये परीक्षाएं सीबीएसई कराता था और साल में सिर्फ एक बार ही होती थीं।

 

उन्होंने बताया कि ये सभी एग्जाम कंप्यूटर बेस्ड यानी ऑनलाइन ही होंगे, ताकि पेपर लीक जैसी घटनाओं पर रोक लगाई जा सके।  सरकार के इस फैसले से उच्च शिक्षा में सुधार आने की उम्मीद है और इससे देशभर के 40 लाख छात्रों को फायदा होगा। इस फैसले के बाद छात्रों में मन में कई तरह के सवाल होंगे, जिनके जवाब हम आपको बताने जा रहे हैं।

 

सवाल 1. सीबीएसई की जगह एनटीए क्यों? 
 

जवाब: दरअसल, जेईई और नीट एग्जाम सीबीएसई करिकुलम बेस्ड थे। ऐसे में सीबीएसई बोर्ड स्टूडेंट्स को ज्यादा दिक्कत नहीं होती थी, लेकिन स्टेट बोर्ड और अन्य बोर्ड वाले स्टूडेंट्स को इन एग्जाम को क्रैक करने के लिए अलग से किताबें खरीदनी पड़ती थी। अब एनटीए सभी बोर्ड को ध्यान में रखते हुए पेपर को डिजाइन करेगी।

 

सवाल 2. साल में दो बार एग्जाम कराने की जरुरत क्यों पड़ी?
 

जवाब: साल में नीट और जेईई की परीक्षाएं दो बार कराने का फैसला इसलिए लिया गया ताकि छात्रों को बराबर मौका मिले। अभी तक 12वीं बोर्ड की परीक्षाओं के साथ ही ये एग्जाम भी होते थे, जिसकी वजह से छात्रों को एक बार में दोनों परीक्षाओं में फोकस कर पाना मुश्किल होता था, लेकिन दो बार होने की वजह से छात्र एक बार में एक परीक्षा पर फोकस कर सकेंगे।

 

सवाल 3. क्या दोनों बार परीक्षा में शामिल हो सकते हैं?
 

जवाब: हां, अगर छात्र चाहें तो वे दोनों बार इन परीक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। 

 

सवाल 4. दो बार शामिल होने पर स्कोर कैसे काउंट होगा?
 

जवाब: प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि दो बार परीक्षा देने वाले छात्रों का स्कोर उनके दोनों स्कोर में से बेस्ट स्कोर को ही काउंट किया जाएगा। इसका मतलब पहली बार परीक्षा देने पर कम स्कोर आता है और दूसरी बार में ज्यादा स्कोर करते हैं, तो दूसरी बार की परीक्षा का स्कोर ही काउंट किया जाएगा।

 

सवाल 5. क्या सिलेबस और फॉर्मेट में भी बदलाव होगा?
 

जवाब: नहीं, जावड़ेकर ने साफ कहा है कि परीक्षाओं के सिलेबस और फार्मेट में किसी भी तरह का बदलाव नहीं किया जाएगा। हालांकि पैटर्न में थोड़ा बहुत बदलाव हो सकता है।

 

सवाल 6. क्या जेईई एडवांस्ड की परीक्षा भी दो बार होगी और इसे कौन कराएगा?
 

जवाब: नहीं, जेईई एडवांस्ड की परीक्षा साल में एक ही बार 12वीं बोर्ड की परीक्षा के बाद ही होगी। इस परीक्षा को आईआईटी की तरफ से ही कराया जाएगा।

 

सवाल 7. अब कब होगी नीट और जेईई मेन की परीक्षा?
 

जवाब: नीट की परीक्षा 2019 से फरवरी और मई में होगी, जबकि जेईई मेन की परीक्षा जनवरी और अप्रैल में होगी। 

 

सवाल 8. अभी कब होती थी ये परीक्षाएं?
 

जवाब: अभी तक ये परीक्षाएं साल में एक ही बार होती थी। नीट की परीक्षा इस साल 6 मई को हुई थी, जबकि जेईई मेन की परीक्षा अप्रैल में और जेईई एडवांस्ड की परीक्षा 20 मई को हुई थी। 

 

सवाल 9. सीमैट और जीपैट की परीक्षा भी दो बार होगी और इन्हें अब कौन कराएगा?
 

जवाब: नहीं, कॉमन मैनेजमेंट एडमिशन टेस्ट (सीमैट) और ग्रेजुएट फार्मेसी एप्टीट्यूड टेस्ट (जीपैट) की परीक्षा साल में एक ही बार होगी। ये दोनों परीक्षाएं अभी तक ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्नीकल एजुकेशन (एआईसीटीई) द्वारा कराई जाती थी, लेकिन 2019 से ये परीक्षाएं एनटीए ही कराएगी।

 

सवाल 10.  एनटीए क्या है और इसका काम क्या रहेगा?
 

जवाब:  एनटीए की घोषणा बजट 2017-18 में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने की थी। इसका गठन भारतीय सोसायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट-1860 के तहत किया गया है। ये एक ऑटोनॉमस बॉडी है, जो उच्च शिक्षण संस्थानों के लिए प्रवेश परीक्षाएं आयोजित कराएगी।

खबरें और भी हैं...