--Advertisement--

देश में बेंगलुरु में मिलती है सबसे ज्यादा सैलरी, फार्मा-हेल्थकेयर फर्म पैसा देने में अव्वल

देश में बेंगलुरु में मिलती है सबसे ज्यादा सैलरी, फार्मा-हेल्थकेयर फर्म पैसा देने में अव्वल

Danik Bhaskar | Apr 16, 2018, 06:07 PM IST
रिपोर्ट के मुताबिक, 6 से 10 साल तक रिपोर्ट के मुताबिक, 6 से 10 साल तक

नई दिल्ली. बेंगलुरु देश का ऐसा शहर है, जहां प्रोफेशनल्स को सबसे ज्यादा सैलरी मिलती है। इस मामले में फार्मा और हेल्थकेयर इंडस्ट्रीज अव्वल है। वह अपने इम्प्लॉई को सबसे ज्यादा पैसा देती है। बेंगलुरू में हर लेवल और फंक्शंस पर कर्मचारियों की सालाना औसत सीटीसी (कॉस्ट टू कंपनी) 10.8 लाख रुपए है। रैंडस्टैड इंडिया की रिसर्च एंड एनालिसिस डिवीजन रैंडस्टैड इनसाइट्स के अध्ययन में यह बातें सामने आई हैं।

पुणे दूसरे नंबर पर, तीसरे पर एनसीआर

नंबर शहर औसत सीटीसी
1 बेंगलुरु 10.8 लाख
2 पुणे 10.3 लाख
3 एनसीआर 9.9 लाख
4 मुंबई 9.2 लाख
5 हैदराबाद 7.9 लाख

- ये ऐसे शहर हैं, जो अपने आस-पास के राज्यों के बीच जॉब्स के लिए बड़े हब माने जाते हैं। नौकरी के लिए युवाओं के ये मनपसंद शहर हैं।

सैलरी देने में प्रोफेशनल सर्विस सेक्टर दूसरे नंबर पर

नंबर शहर औसत सीटीसी
1 फार्मा-हेल्थकेयर 9.6 लाख
2 प्रोफेशनल सर्विस 9.4 लाख
3 एफएमसीजी 9.2 लाख
4 आईटी सेक्टर 9.1 लाख
5 इंफ्रास्ट्रक्चर-रियल एस्टेट 9.0 लाख

- रिपोर्ट के मुताबिक जीएसटी के लागू होने के बाद इंप्लीमेंटेशन और कंप्लायंस स्पेशलिस्ट्स की डिमांड में खासी बढ़ोत्तरी देखने को मिली है। यही वजह है कि प्रोफेशनल सर्विसेज में सैलरी भी बढ़ी है।

अनुभवी प्रोफेशनल्स में डॉक्टर सबसे आगे

- रिपोर्ट के मुताबिक, 6 से 10 साल तक अनुभव रखने वाले प्रोफेशनल्स को तुलनात्मक रूप से ज्यादा सैलरी मिलती है।

- इस मामले में स्पेशलिस्ट डॉक्टर 18.4 लाख रुपए सालाना सीटीसी के साथ टॉप पर हैं।

- इसके बाद आर्किटेक्ट (15.1 लाख रुपए ), प्रोडक्ट इंजीनियरिंग स्पेशलिस्ट्स (14.8 लाख रुपए) और ब्लॉक चेन टेक्नोलॉजी एक्सपर्ट्स (14.6 लाख रुपए) आते हैं।

- रैंडस्टैड इंडिया के एमडी और सीईओ पॉल डुपुइस ने कहा, "मजबूत सैलरी स्ट्रक्चर में इंटरनल और एक्सटर्न पे इक्विटी के बीच अच्छा संतुलन होता है। इससे बेहतरीन टैलेंट को जोड़ने में मदद मिलती है और प्रोत्साहन मिलता है।"

- इस रिपोर्ट में 20 इंडस्ट्री वर्टिकल्स और 15 फंक्शंस की 1 लाख नौकरियों का विश्लेषण किया गया।