Hindi News »National »Ayodhya Vivad »Latest News» Before Walmart Deal Flipkart Buy 13 Companies Of India

वॉलमार्ट का होने से पहले 13 कंपनी खरीद चुकी है फ्लिपकार्ट, स्नैपडील के लिए लगाई थी 5000 करोड़ कीमत

फ्लिपकार्ट ने एमेजॉन के भारत आने के बाद 3 बड़ी कंपनियों मिंत्रा, जबॉन्ग और ईबे इंडिया को भी खरीदा है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - May 13, 2018, 10:25 AM IST

  • वॉलमार्ट का होने से पहले 13 कंपनी खरीद चुकी है फ्लिपकार्ट, स्नैपडील के लिए लगाई थी 5000 करोड़ कीमत
    +1और स्लाइड देखें
    फ्लिपकार्ट ने 2017 में ईबे में 50 करोड़ डॉलर का निवेश किया था। - फाइल
    • वॉलमार्ट ने फ्लिपकार्ट की 77% हिस्सेदारी खरीदने की डील की है
    • डील के बाद देश में ई-कॉमर्स वाली दोनों बड़ी कंपनियां अमेरिका की होंगी

    नई दिल्ली.देश की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट, दुनिया की तीसरी बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी वॉलमार्ट के हाथों बिकने जा रही है। हालांकि इससे पहले फ्लिपकार्ट अपने से छोटी 13 कंपनियों अधिग्रहण कर चुकी है या उनके अधिकांश शेयर अपने नाम कर चुकी है। यह सिलसिला उसने स्थापना के 3 साल बाद यानी 2010 में ही शुरू कर दिया था। वह स्नैपडील को खरीदने के प्रयास भी कर चुकी है। फ्लिपकार्ट ने स्नैपडील को खरीदने के लिए 70-80 करोड़ डॉलर (4500-5000 करोड़ रुपए) कीमत लगाई थी। वहीं कभी 6 अरब डॉलर की कीमत रखने वाली स्नैपडील के मालिक कम से कम 1 अरब डॉलर चाहते थे। ऐसे में डील नहीं हो सकी।

    संकट में फंस सकती है डील

    - अमेरिकी कंपनी वॉलमार्ट ने बुधवार 9 मई को फ्लिपकार्ट की 77 फीसदी हिस्सेदारी खरीदने की योजना का खुलासा किया था।

    - मॉर्गन स्टैनली ने 2016 में फ्लिपकार्ट की कीमत 2015 के 15.2 अरब डॉलर के मुकाबले घटाकर 5.54 अरब डॉलर कर दिया था। इसी बीच कंपनी को वॉलमार्ट से ऑफर मिला, जिसे उसकी वैल्यूएशन को 2.8 अरब डॉलर आंका।

    - हालांकि अब फ्लिपकार्ट की सबसे बड़ी निवेशक जापानी कंपनी सॉफ्टबैंक अपनी 22% हिस्सेदारी वॉलमार्ट को बेचने पर असमंजस में है।

    - वह इस हिसाब-किताब में व्यस्त है कि उसे हिस्सेदारी बेचने पर कितना टैक्स देना पड़ेगा। वह यह विचार कर रही है कि भविष्य में यदि फ्लिपकार्ट ने अच्छी ग्रोथ की तो उसका शेयर बेचने का फैसला गलत साबित हो सकता है।

    - इससे यह डील संकट में फंस सकती है, क्योंकि सॉफ्टबैंक पीछे हटा तो वॉलमार्ट सिर्फ 55 फीसदी हिस्सेदारी का ही सौदा करेगा।

    एमेजॉन भी फ्लिपकार्ट को खरीदना चाह रहा था

    - वॉलमार्ट के साथ एमेजॉन भी फ्लिपकार्ट को खरीदने की दौड़ में शामिल था। उसने वॉलमार्ट की 20.8 अरब डॉलर (1.39 लाख करोड़ रुपए) की तुलना में फ्लिपकार्ट की वैल्यू 22.5 अरब डॉलर आंकी थी।

    - मगर रेगुलेटर्स की ओर से क्लीयरेंस की आसानी को देखते हुए फ्लिपकार्ट ने वॉलमार्ट से करार किया।

    - एमेजॉन ने भारत आने से पहले 2012 में भी फ्लिपकार्ट को खरीदने का प्रयास किया था। तब 50 से 70 करोड़ डॉलर की पेशकश की थी। भारत आने के बाद 2015 में भी एमेजॉन 8 अरब डॉलर में फ्लिपकार्ट को खरीदने की इच्छा जताता रहा। हालांकि वह हर बार नाकाम रहा।

    - फ्लिपकार्ट से मुकाबले के लिए एमेजॉन ने अपनी भारतीय यूनिट में पिछले 4 साल में 19511 करोड़ रुपए निवेश किए हैं।

    ई-कॉमर्स की अब तक 5 सबसे बड़ी डील
    - 2017 में पालतु जानवरों से जुड़े प्रोडक्ट बेचने वाली फ्लोरिडा की ई-कॉमर्स कंपनी को एरिजोना की पेटस्मार्ट कंपनी ने खरीदा था। 3.35 अरब डॉलर में सौदा हुआ।
    - 2016 में वॉलमार्ट ने अमेरिका की ही ई-कॉमर्स फर्म जेट.कॉम को खरीदा था। 3.30 अरब डॉलर में सौदा हुआ।
    - 1999 में अमेरिकी सॉफ्टवेयर कंपनी सेप एरिबा ने ई-कॉमर्स कंपनी ट्रेडेक्स को खरीदा था। 1.86 अरब डॉलर में सौदा हुआ।
    - 2000 में लिटावर टेक्नोलॉजीस नामक एक कंपनी ने एशियानेट के 100 फीसदी ई-कॉमर्सबिजनेस का अधिग्रहण किया था। 1.20 अरब डॉलर में सौदा हुआ।
    - 2009 में दुनिया की सबसे बड़ी ई-कॉमर्स कंपनी एमेजॉन ने अमेरिका के एक ऑनलाइन फैशन ब्रैंड जेपोस.कॉम को खरीदा। 1.13 अरब डॉलर में सौदा हुआ।

    देश की टॉप 5 ई-कॉमर्स कंपनियां

    कंपनीशुरुआतसंस्थापकरोजाना ऑर्डर
    फ्लिपकार्ट2007सचिन बंसल-बिन्नी बंसल5 लाख
    एमेजॉन इंडिया2013जेफ बेजॉस4.5 लाख
    पेटीएम मॉल2017वीएस शर्मा50 से 55 हजार
    मिंत्रा2007अनंत नारायण (सीईओ)45 से 50 हजार
    स्नैपडील2010कुणाल बहल तथा रोहित बंसल45 हजार

    अब तक 13 कंपनियों का अधिग्रहण कर चुकी है फ्लिपकार्ट

    सालकंपनी
    दिसंबर 2010वीरीड.कॉम (किताबों की जानकारी देने वाला प्लेटफॉर्म)
    अक्टूबर 2011माइम-360 (डिजिटल म्यूजिक स्टोर)
    नवंबर 2011चकपक.कॉम (बॉलीवुड न्यूज साइट)
    फरवरी 2012लेट्सबाय. कॉम (इलेक्ट्रॉनिक्स रिटेलर)
    मई 2014मिंत्रा (लाइफस्टाइल रिटेलर)
    सितंबर 2014एनजीपे (पेमेंट प्लेटफॉर्म)
    नवंबर 2014जीव्स (कस्टमर सर्विस)
    मार्च 2015एडइक्विटी (मोबाइल एडवर्टाइजिंग कंपनी)
    अप्रैल 2015एपइटरेट (मोबाइल मार्केटिंग फर्म)
    सितंबर 2015एफएक्स मार्ट (पेमेंट प्लेटफॉर्म स्टार्ट अप)
    अप्रैल 2016फोनपे (यूपीआई आधारित पेमेंट स्टार्टअप)
    जुलाई 2016जबॉन्ग (फैशन एंड लाइफस्टाइल रिटेलर)
    अप्रैल 2017ईबे (कंज्यूमर टू कंज्यूमर सेल्स)
  • वॉलमार्ट का होने से पहले 13 कंपनी खरीद चुकी है फ्लिपकार्ट, स्नैपडील के लिए लगाई थी 5000 करोड़ कीमत
    +1और स्लाइड देखें
    फ्लिपकार्ट ने जबॉन्ग को 7 करोड़ डॉलर में खरीदा था। - फाइल
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Latest News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×