--Advertisement--

चिदंबरम की पत्नी, बेटे और बहू के खिलाफ कालाधन में 4 चार्जशीट, विदेशों में मौजूद संपत्तियों का खुलासा नहीं करने का आरोप

Dainik Bhaskar

May 12, 2018, 06:33 AM IST

चिदंबरम के बेटे कार्ति के सह स्वामित्व वाली कंपनी चेस ग्लोबल एडवाइजरी ने भी इसकी जानकारी नहीं दी।

सारदा चिटफंड मामले में नलिनी च सारदा चिटफंड मामले में नलिनी च

चेन्नई. अायकर विभाग ने पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के परिवार के तीन सदस्यों के खिलाफ काला धन कानून के तहत चार चार्जशीट दायर की हैं। ये चार्जशीट चिदंबरम की पत्नी नलिनी, बेटे कार्ति और बहू श्रीनिधि के खिलाफ हैं। इन पर विदेशों में मौजूद संपत्तियों का खुलासा नहीं करने का आरोप लगा है। काले धन के खिलाफ अभियान के तहत मोदी सरकार ने 2015 में काला धन (अघोषित विदेशी आय और संपत्तियां) और कराधान कानून लागू किया था।

चार्जशीट में यूके और अमेरिका में करोड़ों की संपत्ति होने की बात

- चेन्नई में स्पेशल कोर्ट के समक्ष दायर चार्जशीटों के मुताबिक, चिदंबरम के परिवार के इन सदस्यों की यूनाइटेड किंगडम के कैंब्रिज में 5.37 करोड़ की और इसी देश में 80 लाख की एक और संपत्ति है। अमेरिका में 3.28 करोड़ रुपए की अचल संपत्ति है।

- चार्जशीट में दावा है कि इस निवेश की जानकारी टैक्स अधिकारियों को नहीं दी गई। चिदंबरम के बेटे कार्ति के सह स्वामित्व वाली कंपनी चेस ग्लोबल एडवाइजरी ने भी इसके बारे में नहीं बताया। यह नियमों का उल्लंघन है।

चिदंबरम परिवार और चेस ग्लोबल एडवाइजरी की सफाई
- चारों ने 27 अप्रैल को आयकर अधिकारियों को अलग-अलग जवाब भेजकर कहा था कि उन्होंने किसी तरह का डिफॉल्ट नहीं किया है। उन्होंने संशोधित आयकर रिटर्न दाखिल कर विदेशी संपत्ति की जानकारी भी दी है। कार्ति चिदंबरम की पत्नी श्रीनिधि का कहना है कि उन्होंने सीए की सलाह पर ओरिजनल और संशोधित रिटर्न दाखिल किए थे।

पत्नी नलिनी के खिलाफ जारी हो चुका है समन

- चिदंबरम की पत्नी नलिनी चिदंबरम जो कि पेशे से सुप्रीम कोर्ट में वकील हैं, को ईडी ने नए सिरे से समन जारी किया है। उनको सारदा चिटफंड मामले की मनी लॉन्ड्रिंग की जांच के सिलसिले में 7 मई को कोलकाता दफ्तर में पेश होने को कहा गया था।

- इस मामले में उनको सबसे पहला समन सितंबर 2016 में जारी किया गया था। उनसे सीबीआई और ईडी पहले पूछताछ कर चुकी है। सारदा समूह द्वारा नलिनी चिदंबरम को कोर्ट और कंपनी लॉ बोर्ड में पेशी के लिए 1.26 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया था। नलिनी ने कहा था कि आरोपी की ओर से पेश होने के लिए वकील का फीस लेना कोई अपराध नहीं है।

बेटा कार्ति INX मामले में पहले ही है आरोपी

- आईएनएक्स मीडिया केस में कार्ति आरोपी हैं। 28 फरवरी को लंदन से लौटते ही चेन्नई एयरपोर्ट पर उन्हें गिरफ्तार किया गया था। बाद में दिल्ली लाया गया।

क्या है INX मामला, कार्ति पर क्या हैं आरोप?
- मनी लॉन्ड्रिंग का ये मामला आईएनएक्स मीडिया कंपनी से जुड़ा है। इसकी डायरेक्टर शीना बोरा हत्याकांड की आरोपी इंद्राणी मुखर्जी थी।
- कार्ति पर आरोप है कि उन्होंने आईएनएक्स मीडिया के लिए गलत तरीके से फॉरेन इन्वेस्टमेंट प्रमोशन बोर्ड (FIPB) की मंजूरी ली। इसके बाद आईएनएक्स को 305 करोड़ का फंड मिला।
- इसके बाद आईएनएक्स मीडिया और कार्ति से जुड़ी कंपनियों के बीच डील के तहत 3.5 करोड़ का लेन देन हुआ।
- कार्ति पर यह भी आरोप है कि उन्होंने इंद्राणी की कंपनी के खिलाफ टैक्स का एक मामला खत्म कराने के लिए अपने पिता के रुतबे का इस्तेमाल किया।

पी चिदंबरम की क्या भूमिका थी?
- आईएनएक्स मामले में दर्ज एफआईआर में पी चिदंबरम का नाम नहीं है। हालांकि, आरोप है कि उन्होंने 18 मई 2007 की फॉरेन इन्वेस्टमेंट प्रमोशन बोर्ड (एफआईपीबी) की एक मीटिंग में आईएनएक्स मीडिया में 4.62 करोड़ रुपए के फॉरेन इन्वेस्टमेंट को मंजूरी दी थी।

X
सारदा चिटफंड मामले में नलिनी चसारदा चिटफंड मामले में नलिनी च
Astrology

Recommended

Click to listen..