--Advertisement--

हाफिज सईद को पाकिस्तान से बाहर भेजने की सिफारिश वाली रिपोर्ट को चीन ने नकारा, कहा ये बेबुनियाद

हाफिज सईद को पकड़ ने के लिए पाकिस्ता पर अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों का दबाव बढ़ता जा रहा है।

Dainik Bhaskar

May 24, 2018, 03:20 PM IST
भारत और अमेरिका पाक पर आतंकवादियों को पनाह देने का आरोप लगाते रहे हैं। -फाइल भारत और अमेरिका पाक पर आतंकवादियों को पनाह देने का आरोप लगाते रहे हैं। -फाइल

- आतंकी हाफिज सईद के सिर पर अमेरिका ने 1 करोड़ डॉलर का ईनाम रखा, गिरफ्तारी नहीं होने पर अमेरिका ने चिंता जताई थी

- भारत मुंबई हमलों में सईद के शामिल होने के सबूत पाकिस्तान को दे चुका है, पर अब तक पाकिस्तान ने कोई ठोस कार्रवाई नहीं की

बीजिंग. पाकिस्तान मुंबई आतंकी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद को पश्चिम एशिया के किसी देश में शिफ्ट कर सकता है। दरअसल, एक अंग्रेजी अखबार ने दावा किया है कि इसके लिए चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने पाक प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी को सलाह दी थी। हालांकि, चीनी विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को रिपोर्ट को बेबुनियाद करार दिया। कहा कि खबर में किए गए दावे चौंकाने वाले हैं, चीन ने कभी ऐसा नहीं कहा। बता दें कि हाफिज जमात-उद-दावा का प्रमुख है और अमेरिका ने उसे अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित करते हुए 1 करोड़ डॉलर का ईनाम रखा है। पिछले दिनों नवाज शरीफ ने पहली बार एक इंटरव्यू में कबूला कि मुंबई हमले में पाकिस्तानी आतंकियों का हाथ था।

चीन चाहता है कि हाफिज दुनिया की नजर से दूर रहे: रिपोर्ट

- न्यूज एजेंसी के मुताबिक, मीडिया रिपोर्ट में पाक प्रधानमंत्री के एक करीबी के हवाले से कहा गया है कि जिनपिंग और अब्बासी के बीच हाफिज के मुद्दे पर 10 मिनट तक चर्चा हुई थी। तब मार्च में दोनों नेता बीओएओ फोरम फॉर एशिया (बीएफए) की बैठक में मिले थे। इस दौरान जिनपिंग ने पाकिस्तान को हाफिज सईद को पश्चिमी एशिया के किसी देश में शिफ्ट करने की सलाह दी थी। ताकि अंतरराष्ट्रीय दबाव के चलते उसे दुनिया की नजरों से दूर रखा जा सके।

- दूसरी ओर, 18 मई को अमेरिका ने हाफिज सईद की गिरफ्तारी नहीं होने पर चिंता जाहिर की थी। अमेरिकी विदेश विभाग ने कहा था कि हमारी सरकार ने सईद के सिर पर ईनाम रखा है और वह पाकिस्तान में खुलेआम घूम रहा है। यह अमेरिका के लिए गंभीर चिंता का कारण है।

आतंक के मुद्दे पर पाक का बचाव करता रहा है चीन

- बता दें कि चीन आतंकवाद के मुद्दे पर कई बार पाकिस्तान का बचाव कर चुका है। चीन ने आतंक के खिलाफ पाकिस्तान के प्रयासों की तारीफ भी की। इसके पीछे पाकिस्तान में उसके द्वारा इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट पर करीब 34 लाख 17 हजार करोड़ (50 बिलियन डॉलर) का निवेश एक वजह हो सकती है।

- इतना ही नहीं चीन पठानकोट आतंकी हमले के सरगना मौलाना मसूद अजहर प्रतिबंध लगाने वाली भारत, अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस की पहल पर तकनीकी तौर पर अड़ंगा लगा चुका है।

मुंबई में कब हुआ था हमला?

- 26 नवंबर 2008 को लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादी मुंबई के ताज होटल में घुस गए और चार दिनों तक वहां कब्जा जमाए रखा था। शहर के सात जगहों पर फायरिंग की थी।
- इस हमले में 6 अमेरिकी नागरिकों समेत 166 लोग मारे गए थे। जबकि 300 लोग घायल हो गए थे। 10 में से 9 आतंकियों को मार गिराया गया था। अजमल कसाब को जिंदा पकड़कर फांसी दे दी गई थी।
- हाफिज सईद 2008 मुंबइ बम धमाकों का मास्टरमाइंड है। उस पर अमेरिका ने 10 मिलियन करीब 68 करोड़ का इनाम घोषित किया है। अमेरिका ने जून 2014 में लश्कर ऐ तैयबा को आतंकवादी संगठन घाषित किया था।

कौन है हाफिज सईद?

- सईद आतंकी संगठन जमात-उद-दावा का चीफ है। ये एक दूसरे आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा का को-फाउंडर भी है। इन संगठनों का मुंबई के 26/11 हमले समेत भारत में कई आतंकी हमलों में हाथ पाया गया है। इसके बाद अमेरिका ने उसे अंतरराष्ट्रीय आतंकियों की सूची में शामिल किया था।

- हाफिज के खिलाफ इंटरपोल का रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी हो चुका है। पाक सरकार ने हाफिज का नाम एग्जिट कंट्रोल लिस्ट (ECL) में भी शामिल किया है। यानी यह पाक छोड़कर नहीं जा सकता। पाकिस्तान ने हाफिज सईद को आतंकी भी माना है। पंजाब प्रोविन्स की सरकार ने सईद का नाम एंटी-टेररिज्म एक्ट (ATA) के 4th शेड्यूल में शामिल कर रखा है।

- भारत पाकिस्तान से लगातार मुंबई हमले की जांच दोबारा से करने मांग करता रहा है। भारत की ये भी मांग है कि हाफिज और लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर जकीउर रहमान लखवी पर केस चलाया जाए। इसके लिए भारत पहले ही पाक को सबूत दे चुका है।

26 नवंबर 2008 को लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादियो ने मुंबई के ताज होटल में बम धमाके किए थे। जिसमें 166 लोगों की मौत हुई थी। -फाइल 26 नवंबर 2008 को लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादियो ने मुंबई के ताज होटल में बम धमाके किए थे। जिसमें 166 लोगों की मौत हुई थी। -फाइल
X
भारत और अमेरिका पाक पर आतंकवादियों को पनाह देने का आरोप लगाते रहे हैं। -फाइलभारत और अमेरिका पाक पर आतंकवादियों को पनाह देने का आरोप लगाते रहे हैं। -फाइल
26 नवंबर 2008 को लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादियो ने मुंबई के ताज होटल में बम धमाके किए थे। जिसमें 166 लोगों की मौत हुई थी। -फाइल26 नवंबर 2008 को लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादियो ने मुंबई के ताज होटल में बम धमाके किए थे। जिसमें 166 लोगों की मौत हुई थी। -फाइल
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..