--Advertisement--

10 महीने बाद भारत-चीन व्यापार के लिए खोला गया नाथू ला पास, डोकलाम मुद्दे के चलते हुआ था बंद

भारत और तिब्बत स्वायत्तशासी क्षेत्र के व्यापारियों ने कहा- उम्मीद है कि इस साल व्यापार करने में दिक्कत नहीं होगी।

Dainik Bhaskar

May 02, 2018, 12:53 PM IST
भारतीय व्यापारी नाथू ला के रास्ते चीन को तेल, घी, कंबल, तांबे के आइटम्स, चावल, कपड़े जैसी चीजें भेजते हैं। (फाइल) भारतीय व्यापारी नाथू ला के रास्ते चीन को तेल, घी, कंबल, तांबे के आइटम्स, चावल, कपड़े जैसी चीजें भेजते हैं। (फाइल)

  • नाथू ला सिक्किम में 12 हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित है
  • 44 साल बंद रहने के बाद 2006 में खोला गया था नाथू ला

गंगटोक. भारत-चीन व्यापार के लिए सिक्किम का नाथू ला पास आखिरकार 10 महीने बाद बुधवार को खोल दिया गया। डोकलाम विवाद के चलते इसे जुलाई में बंद कर दिया गया था। नाथू ला के शुरू होने पर दोनों तरफ के अधिकारियों और व्यापारियों एक-दूसरे को मिठाई और गिफ्ट बांटे। बता दें कि पिछले साल 16 जून को भारत-चीन के बीच डोकलाम विवाद शुरू हुआ था। 73 दिन चला विवाद 28 अगस्त 2017 को हल हो गया था।

उम्मीद है अब दिक्कत नहीं होगी

- भारत और तिब्बत स्वायत्तशासी क्षेत्र के व्यापारियों ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि इस साल नाथू ला से व्यापार करने में कोई दिक्कत नहीं होगी।
- इंडो-चाइना बॉर्डर ट्रेडर्स वेलफेयर एसोसिएशन के महासचिव तेनजिंग त्सेपल ने कहा, "पिछले साल हुए डोकलाम विवाद के चलते केवल दो हफ्ते कारोबार हो पाया था। इसके चलते हमें काफी नुकसान उठाना पड़ा। लेकिन इस साल हम अच्छे व्यापार की उम्मीद कर रहे हैं।"
- एक अधिकारी के मुताबिक, 2016-17 के दौरान नाथू ला पास से 3 करोड़ 54 लाख का व्यापार हुआ था।

भारत-चीन के अफसरों की हुई थी मीटिंग
- ट्रेडर्स एसोसिएशन ने बताया कि पास को खोले जाने को लेकर इंडो-तिब्बत बॉर्डर पुलिस (आईटीबीपी) और चीनी आर्मी के अफसरों की मीटिंग हुई थी। इसमें इस साल व्यापार शांतिपूर्ण तरीके से हो, इस पर चर्चा हुई।
- बैठक में करंसी एक्सचेंज, रोड कनेक्टिविटी और मौसम बिगड़ने पर होने वाले दिक्कतों पर चर्चा हुई।
- भारतीय व्यापारी नाथू ला के रास्ते चीन को तेल, घी, कंबल, तांबे के आइटम्स, चावल, कपड़े जैसी चीजें भेजते हैं। चीन से भारत ज्यादातर रजाइयां और जैकेट मंगाता है।

12 हजार फीट की ऊंचाई पर है नाथू ला
नाथू ला पास 12,400 फीट की ऊंचाई पर स्थित हैा 44 साल बंद रहने के बाद इसे 2006 में खोला गया था।

नाथू ला पास को खोले जाने को लेकर इंडो-तिब्बत बॉर्डर पुलिस (आईटीबीपी) और चीनी आर्मी के अफसरों की मीटिंग हुई थी। (फाइल) नाथू ला पास को खोले जाने को लेकर इंडो-तिब्बत बॉर्डर पुलिस (आईटीबीपी) और चीनी आर्मी के अफसरों की मीटिंग हुई थी। (फाइल)
X
भारतीय व्यापारी नाथू ला के रास्ते चीन को तेल, घी, कंबल, तांबे के आइटम्स, चावल, कपड़े जैसी चीजें भेजते हैं। (फाइल)भारतीय व्यापारी नाथू ला के रास्ते चीन को तेल, घी, कंबल, तांबे के आइटम्स, चावल, कपड़े जैसी चीजें भेजते हैं। (फाइल)
नाथू ला पास को खोले जाने को लेकर इंडो-तिब्बत बॉर्डर पुलिस (आईटीबीपी) और चीनी आर्मी के अफसरों की मीटिंग हुई थी। (फाइल)नाथू ला पास को खोले जाने को लेकर इंडो-तिब्बत बॉर्डर पुलिस (आईटीबीपी) और चीनी आर्मी के अफसरों की मीटिंग हुई थी। (फाइल)
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..