--Advertisement--

शेयरधारक के लिए डिविडेंड पर लगता है 20.5% तक टैक्स

हाल के वर्षों में डीडीटी के कंसेप्ट और इसे लागू करने के तरीके में कई बदलाव हुए हैं।

Danik Bhaskar | Aug 08, 2018, 07:33 PM IST
डिविडेंड की रकम 10 लाख से ज्यादा डिविडेंड की रकम 10 लाख से ज्यादा

नई दिल्ली. भारत में लंबे समय तक इक्विटी पर मिलने वाले डिविडेंड पर निवेशक को टैक्स नहीं देना पड़ता था। उसे टैक्स काटने के बाद ही डिविडेंड मिलता था। बाद में इस पर दो तरह से टैक्स लगने लगा। पहला, कोई भारतीय कंपनी शेयर होल्डर को डिविडेंड देती है तो 15% डिविडेंड डिस्ट्रीब्यूशन टैक्स (डीडीटी) देना होगा।

डिविडेंड की रकम 10 लाख से ज्यादा है तो उसे उस पर 10% अलग से टैक्स देना पड़ेगा। इस डिविडेंड पर 3 बार टैक्स लगने लगा है। पहला, कंपनी टैक्स चुकाने के बाद डिविडेंड का आकलन करती है। दूसरा, जब डिविडेंड देते वक्त टैक्स काटकर सरकार के पास जमा करती है। तीसरा, डिविडेंड आय 10 लाख से ज्यादा पर 10% अतिरिक्त कर लगता है। इसलिए कंपनियां बड़े शेयरधारकों को शेयर बायबैक से पुरस्कृत करने लगी हैं।डीडीटी में निवेश और उससे जुड़ी कई बारीकियों के बारे में बता रहे हैं केआर चौकसे इन्वेस्टमेंट के एमडी देवेन चौकसे:


डीडीटी के बारे में जानिए कुछ खास बातें
हाल के वर्षों में डीडीटी के कंसेप्ट और इसे लागू करने के तरीके में कई बदलाव हुए हैं। इसकी कुछ खास बातें इस प्रकार हैं -

1.भारतीय कंपनी द्वारा दिए डिविडेंड पर टैक्स कटेगा। डिविडेंड की घोषणा के 14 दिनों के भीतर उसे सरकार के खाते में जमा करना पड़ेगा। देरी पर सालाना 1% की दर से रोज पेनाल्टी।

2. 2013-14 में डीडीटी में बदलाव हुए। नेट रकम की जगह ग्रॉस पर टैक्स काटा जाने लगा। नए नियम के बाद 100 रु. के डिविडेंड पर टैक्स की दर 17.65% (15%x100/85) हो जाती है। इस पर 12% सरचार्ज और 4% सेस भी लगता है। इसलिए शेयरहोल्डर के लिए टैक्स की प्रभावी दर 20.56% (17.65%x1.12x1.04) होती है। मुनाफे पर टैक्स की देनदारी न हो लेकिन डिविडेंड पर टैक्स देना पड़ता है। अगर कंपनी 100% एक्सपोर्ट ओरिएंटेड है तो भी डीडीटी देना पड़ेगा। उसे क्रेडिट भी नहीं मिलता।

3.इस साल तक डीडीटी सिर्फ डेट फंड और इक्विटी पर लागू था। लेकिन 2018 के बजट में इक्विटी फंडों पर 10% टैक्स लगाया। इससे इक्विटी फंड पर रिटर्न काफी कम हो गया है।

मद 2016 से पहले डिविडेंड इनकम 2016 के बाद डिविडेंड इनकम

शेयरहोल्डिंग

डिविडेंड रेट

टैक्सेबल डिविडेंड

बेसिक टैक्स रेट

12% सरचार्ज

4% सेस

कुल टैक्स रेट

कुल टैक्स

5 लाख शेयर

5 रुपए/शेयर

25 लाख रुपए

शून्य

नहीं

नहीं

0.4

नहीं

नहीं

5 लाख शेयर
5 रुपए/शेयर
25 लाख रुपए
15 लाख
10%
नहीं

1.2%
48%
11.648%

1,74,720 रुपए

10 लाख से ज्यादा डिविडेंड पर अतिरिक्त टैक्स
2016 के बजट में नियम बना कि निवेशक को साल में सभी स्रोतों से 10 लाख से ज्यादा डिविडेंड मिलता है तो उसे 10% अतिरिक्त टैक्स देना होगा। यह कंपनी द्वारा काटे गए डीडीटी के अतिरिक्त होगा। 2016 से पहले और बाद टैक्स के असर को इस टेबल से समझा जा सकता है।