एप के जरिए आचार संहिता का उल्लंघन करने वालों की वोटर कर सकेंगे शिकायत, 100 मिनट में आयोग करेगा कार्रवाई

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक


नई दिल्ली.  चुनाव के दौरान होने वाली गड़बड़ियों को रोकने के लिए चुनाव आयोग (ईसी) ने बड़ा कदम उठाया है। मंगलवार को आयोग ने 'सिटीजन विजिल' नाम से एंड्रॉयड एप को लॉन्च किया। इस एप की मदद से कोई भी शख्स गुप्त तरीके से चुनाव के दौरन भड़काऊ भाषण देने वालों की शिकायत ईसी से कर सकता है। अगर शिकायत सही पाई जाती है तो आयोग 100 मिनट के अंदर कार्रवाई करेगा। इस साल के अंत में तीन राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं। इनमें मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान शामिल हैं। इन राज्यों में पहली बार वोटर इस एप का इस्तेमाल कर सकेंगे। 

 

एप लॉन्चिंग के दौरान चुनाव आयुक्त ओपी रावत ने कहा कि चुनाव के दौरान होने वाली गड़बड़ियों पर तत्काल लगाम लगाने के लिए तकनीक के माध्यम से वोटरों को निगरानी की जिम्मेदारी से लैस करने की दिशा में यह क्रांतिकारी कदम साबित होगा। शिकायतकर्ता की पहचान और उसका मोबाइल नंबर गुप्त रखा जाएगा। जिससे बिना किसी खतरे के लोग शिकायत कर सकें। वोटर इस एप से चुनाव के दौरान मतदाताओं को प्रलोभन देने, भड़काऊ भाषण देने और कालाधन बांटने वालों की रिकॉर्डिंग कर सीधे आयोग को भेज सकते हैं। 

 

उपचुनाव आयुक्त संदीप सक्सेना ने बताया कि कोई भी व्यक्ति एन्ड्रॉयड आधारित 'सी विजिल' एप को मोबाइल फोन में डाउनलोड कर सकता है। वह इसकी मदद से चुनाव के दौरान भ्रष्टाचार सहित अन्य गड़बड़ियों की शिकायत करने के लिए तस्वीर या वीडियो को बतौर साक्ष्य भेज सकेंगे। इसमें शिकायतकर्ता की पहचान गुप्त रखी जाएगी। सक्सेना ने बताया कि सबूत आधारित शिकायत का समयबद्ध निस्तारण करने के लिए अधिकतम 100 मिनट की समयसीमा तय की गयी है। उन्होंने बताया कि जीपीएस की मदद से शिकायत वाले स्थान की पहचान कर संबद्ध क्षेत्र के निर्वाचन अधिकारी उक्त स्थान पर पहुंच कर कार्रवाई करेंगे।

 

 

खबरें और भी हैं...