Home | National | Latest News | National | election commission case on voter ID counterfoils in Bengaluru Assembly seat

बेंगलुरु में मिले 10 हजार फर्जी वोटर आईडी, कांग्रेस-भाजपा ने एक-दूसरे की साजिश बताया

मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि बेंगलुरु के राजराजेश्वरी इलाके में 4 लाख 35 हजार 439 वोटर हैं।

DainikBhaskar.com| Last Modified - May 09, 2018, 09:57 PM IST

1 of

 

  • जिस फ्लैट में फर्जी वोटर आईडी, प्रिंटर और लैमिनेशन मशीन मिली, उसे मंजुला नांजामुरि नाम की महिला का बताया जा रहा है
  • कांग्रेस का कहना है कि मंजुला भाजपा से जुड़ी है, वहीं भाजपा का दावा है कि उसने मौजूदा कांग्रेस विधायक के लिए प्रचार किया

 

बेंगलुरु. कर्नाटक में वोटिंग से महज तीन दिन पहले एक फ्लैट से करीब 10 हजार फर्जी आईडी मिली हैं। जिस महिला के फ्लैट से ये आईडी मिली हैं, उसे कांग्रेस और भाजपा एक-दूसरे से जुड़ा बता रही हैं। भाजपा ने चुनाव आयोग से मांग की है कि राजराजेश्वरी विधानसभा क्षेत्र में ये फ्लैट है और वहां का चुनाव रद्द किया जाए। कर्नाटक के मुख्य चुनाव अधिकारी संजीव कुमार ने कहा कि ये गंभीर मसला है और हम जल्द से जल्द सच तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जांच जारी है और दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। कुमार ने और लोगों की गिरफ्तारी की संभावना भी जताई है।

 

 

फ्लैट में फर्जी वोटर आईडी की प्रिंटिंग फैक्ट्री चल रही थी- भाजपा
- भाजपा नेता प्रकाश जावड़ेकर ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि कांग्रेस कैंडिडेट और मौजूदा विधायक मुनिरत्न नायडू का इस कथित गिरोह में हाथ है, जिसका भंडाफोड़ एक भजापा कार्यकर्ता ने किया है। जब कार्यकर्ता ने शिकायत की तो पुलिस ने फ्लैट से हजारों फर्जी कार्ड, लैमिनेशन मशीन और कम्प्यूटर जब्त किए। इस पूरे मामले की फॉरेंसिक जांच होनी चाहिए।
- उन्होंने कहा, "ये कांग्रेस की विचारधारा है कि अगर वोटर वोट नहीं देते हैं तो आप फर्जी वोटर बना लो। मंजुला के फ्लैट में फर्जी वोटर आईडी की प्रिंटिंग फैक्ट्री चल रही थी। मंजुला पहले भाजपा से जुड़ी रही, लेकिन अब वो कांग्रेस के साथ है। उसने मुनिरत्न नायडू के लिए पिछले विधानसभा चुनाव में प्रचार किया था। उसे तुरंत गिरफ्तार किया जाए।'
- अमित शाह ने कहा, "कांग्रेस फर्जी वोटर आईडी के सहारे सरकार बनाना चाहती है।"

 

हार सामने देख झूठ बोल रही है-कांग्रेस
- रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि फ्लैट की मालिक मंजुला नांजामारि और राकेश के तार भाजपा से जुड़े हैं और वे इसी पार्टी के टिकट पर बेंगलुरु म्युनिसिपल कॉरपोरेशन का चुनाव भी लड़ चुके हैं।
- उन्होंने कहा, "भाजपा इस तरह के आरोप इसलिए लगा रही है, क्योंकि उसे अपनी निश्चित हार का आभास हो गया है। उनके नेता और कार्यकर्ता फर्जी वोटर आईडी के जरिए चुनावों का नतीजा प्रभावित करने की कोशिश में रंगेहाथों पकड़े गए हैं। पुलिस ने फ्लैट से आईडी कार्ड और उपकरण नहीं बरामद किए हैं, बल्कि भाजपा कार्यकर्ता ने ये बरामद किए। ये फ्लैट एक भाजपा कार्यकर्ता का है। प्रकाश जावड़ेकर लोगों को भ्रमित करने के लिए झूठ बोल रहे हैं कि मंजुला भाजपा से जुड़ी हुई नहीं है। वो (मंजुला) पूर्व भजपा पार्षद रही है और 2015 में राकेश भी भाजपा की टिकट पर म्युनिसिपल चुनाव लड़ा था। जावड़ेकर झूठ की फैक्ट्री चलाते हैं। क्या जावड़ेकर और अमित शाह में अभी भी इतना दुस्साहस है कि वे जनता के सामने झूठ बोलें।"

 

फ्लैट किराए या लीज पर देती हूं- मंजुला
- जिस महिला को लेकर भाजपा-कांग्रेस एक-दूसरे पर आरोप लगा रही हैं, उसने एक टीवी चैनल से कहा, "जिस जमीन पर अपार्टमेंट बना है, वो जमीन मेरी है। एक बिल्डर के साथ मैंने साझा प्रोजेक्ट शुरू किया था। मैं फ्लैट किराए पर देती हूं या फिर लीज पर। अगर राकेश को ये पता था कि फ्लैट में कुछ गलत हो रहा है, तो उसे मुझे इसकी सूचना देनी चाहिए थी। राकेश मेरा बेटा नहीं है, बल्कि वो मेरा भतीजा है। हालांकि, पारिवारिक तनाव के चलते उससे मेरा कोई संपर्क नहीं है।'

 

फ्लैट मंजुला का, राकेश को किराए पर दिया- चुनाव अधिकारी
- कर्नाटक के मुख्य चुनाव अधिकारी द्वारा भेजी गई प्रेस रिलीज कुछ अखबारों में प्रकाशित हुई। इसमें कहा गया कि फ्लैट मंजुला नांजामारि के नाम पर है और इसे राकेश नाम के एक शख्स को किराए पर दिया गया है। इसके साथ फॉर्म 6A भी मिले हैं। इस फॉर्म के जरिए विदेश में रह रहा शख्स वोटर लिस्ट में अपना नाम शामिल करने की एप्लीकेशन देता है।

 

चुनाव आयोग के अधिकारियों से मिलीं स्मृति ईरानी

- चुनाव आयोग के अधिकारियों से मिलने के बाद बीजेपी नेता स्मृति ईरानी ने कहा, “वोटर आईडी मतदाताओं के विश्वास का प्रमाण है और इसे बनाए रखने के लिए राजराजेश्वरी क्षेत्र में चुनाव रद्द कर दिए जाने चाहिए। हमने इस मांग को चुनाव आयोग के सामने रखा है।” 

election commission case on voter ID counterfoils in Bengaluru Assembly seat
शिकायत मिलने के बाद चुनाव आयोग ने एक टीम मौके पर भेजी। बाद में आयोग ने माना-वोटर आईडी फर्जी नहीं थे।
prev
next
Topics:
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now