--Advertisement--

टैक्स बचाने के इन तरीकों को जानकर फायदे में रहेंगे आप

आयकर अधिनियम 1961 टैक्सपेयर्स को विभिन्न प्रावधानों के तहत टैक्स में छूट देता है।

Dainik Bhaskar

Jul 09, 2018, 02:32 PM IST
एनपीएस में निवेश कर बचा सकते ह एनपीएस में निवेश कर बचा सकते ह

नई दिल्ली. आयकर अधिनियम 1961 टैक्सपेयर्स को विभिन्न प्रावधानों के तहत टैक्स में छूट देता है। लेकिन कभी-कभी करदाता कुछ तरीकों के बारे में जानकारी ना होने के कारण इसका लाभ नहीं उठा पाते। इस कारण उन्हें लाभ नहीं मिल पाता। वित्तवर्ष 2017-18 के लिए आईटीआर दाखिल करने की अंतिम तारीख 31, जुलाई है। इसबार भी अगर करदाता नियोक्ता से अपने निवेश संबंधी जानकारी साझा करने से चूक गए हैं तो परेशान होने की जरुरत नहीं है। भारतीय आयकर अधिनियम के प्रावधानों के तहत करदाता आयकर रिटर्न दाखिल करते समय इन लाभों के लिए क्लेम कर सकते हैं।

हम आपको बताते हैं ऐसे दस तरीकों के बारे में जिनका क्लेम आयकर रिटर्न दाखिल करते समय करके आप कर लाभ पा सकते हैं :
1. मकान किराया भत्ता (एचआरए) पर कर लाभ

मकान किराया भत्ता वेतनभोगी व्यक्ति के कुल वेतन का एक बड़ा हिस्सा होता है। इसे आमतौर पर एचआरए के नाम से जाना जाता है। आयकर अधिनियम के सेक्शन 10(13A) के तहत करदाता को मकान किराए भत्ते पर कर छूट मिलती है। अगर करदाता खुद के घर में रहता है या मकान का किराया अदा नहीं करता तो उसको मिलने वाला मकान किराया भत्ते पर उसे कर देना होगा। अगर वेतनभोगी अपने माता-पिता के मकान में रहते हैं और इसके लिए उन्हें किराया देते हैं तो करदाता एचआरए में कर लाभ पाने योग्य हैं। एचआरए के तहत कर लाभ प्राप्त करने के लिए करदाता को किराए की रसीद या रेंट एग्रीमेंट देना होता है। निम्मलिखित में जो सबसे कम अमाउंट होगा, उस पर करदाता को आयकर छूट मिलेगी -

(i) साल भर में चुकाए गए मकान के कुल किराए में से बेसिक सैलरी का 10 फीसदी घटाने पर जो अमाउंट बचता है
(ii) वेतनभोगी को मिला वास्तविक मकान किराया भत्ता
(iii) मूल सैलरी और डीए का 40 फीसदी (मेट्रो शहरों में 50 फीसदी)

2. 80C के तहत मिलने वाली छूट
आयकर अधिनियम की धारा 80C के तहत करदाता डेढ़ लाख रुपए तक का निवेश कर बचा सकते हैं। कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ), सामान्य भविष्य निधि (पीपीएफ), सुकन्या समृद्धि योजना, राष्ट्रीय बचत प्रमाण पत्र, कुछ फिक्स्ड डिपोजिट्स के साथ-साथ जीवन बीमा प्रीमियम, राष्ट्रीय पेंशन स्कीम और कर राहत वाले कुछ म्यूचुअल फंड्स में निवेश करके करदाता आयकर अधिनियम के इस सेक्शन के तहत कर लाभ प्राप्त कर सकते हैं। ये ऐसे निवेश हैं, जिनमें निवेश करने से करदाता कर लाभ तो लेते ही हैं, इसके अलावा इन निवेशों से उनकी आमदनी भी बढ़ती है। बच्चों की ट्यूशन फीस, स्टाम्प ड्यूटी और घर के रजिस्ट्रेशन शुल्क के साथ-साथ होम लोन के मूलधन जमा करने पर भी कर लाभ प्राप्त किया जा सकता है।

3. एनपीएस में निवेश कर बचा सकते हैं टैक्स
आयकर अधिनियम के इस सेक्शन को पहली बार 2015-16 के बजट के दौरान पेश किया गया था। इस सेक्शन के तहत करदाता राष्ट्रीय पेंशन स्कीम (एनपीएस) के टियर वन एकाउंट में 50,000 तक के निवेश पर आयकर में मिलने वाली छूट का लाभ उठा सकते हैं। यह छूट 80C के तहत मिलने वाली छूट के अतिरिक्त होगी। सबसे ऊंचे टैक्स स्लैब (30 फीसदी) में आने वाले करदाता एनपीएस में 50,000 निवेश करके 15,450 रुपए तक बचा सकते हैं।

4. एजुकेशन लोन के एवज में चुकाए गए ब्याज पर कर लाभ
खुद के, अपने बच्चों या अपने पति-पत्नी की शिक्षा के लिए एजुकेशन लोन लिया जाता है। इस तरह के एजुकेशन लोन पर करदाता जो ब्याज अदा करता है, उस पर उसे आयकर अधिनियम की धारा 80E के तहत कर लाभ मिलता है। इसके तहत मिलने वाली छूट की कोई लिमिट नहीं है। मतलब किसी सीमा तक चुकाए गए ब्याज पर करदाता को कर में छूट मिलेगी। इस सेक्शन के तहत कर लाभ पाने के लिए जरूरी शर्त यह है कि एजुकेशन लोन फुल टाइम हायर एजुकेशन के लिए ही लिया जाए और लोन लेने के लिए वित्तीय संस्थाओं या चैरिटेबल संस्थाओं का ही चुनाव किया गया हो।

5. होम लोन के ब्याज पर मिलने वाली छूट (सेक्शन 24B)
होम लोन के एवज में चुकाए गए ब्याज पर करदाता आयकर अधिनियम की धारा 24B के तहत कर छूट का हकदार होता है। इसके तहत करदाता को एक वित्त वर्ष में कुल 2 लाख रुपए तक की ब्याज अदायदी पर कर लाभ मिल सकता है। यानी अगर करदाता सबसे ऊंचे टैक्स स्लैब में आता है तो वह 60,000 रुपए की बचत कर सकता है। यदि आपने गृह सुधार ऋण लिया है, तो इस खंड के तहत उसे 30,000 रुपए तक की ब्याज अदायगी पर कर छूट मिलेगी।

6. पहली बार घर खरीदने पर मिलने वाला कर लाभ
आयकर अधिनियम के इस सेक्शन को साल 2016 के बजट के दौरान फिर से शुरू किया गया है। इस सेक्शन के तहत करदाता यदि पहली बार घर खरीद रहा है तो लिए गए होम लोन के ब्याज भुगतान पर 50,000 रुपए तक का अतिरिक्त कर लाभ मिलेगा। 80EE के तहत मिलने वाला यह कर लाभ सेक्शन 24B के तहत मिलने वाले कर लाभ के अलावा है। इस सेक्शन के तहत लाभ पाने के लिए जरूरी है कि घर की कीमत 50 लाख रुपए से कम हो और होम लोन 35 लाख रुपए से कम या उसके बराबर होना चाहिए। इसके साथ ही घर 1, अप्रैल 2016 के बाद खरीदा हुआ होना चाहिए।

7. स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम पर कर लाभ
अपने और अपने परिजनों के स्वास्थ्य बीमा के लिए चुकाए गए प्रीमियम अमाउंट पर करदाता 80D के अन्तर्गत कर लाभ पाने का हकदार होता है। अगर करदाता 60 साल से कम उम्र का है तो उसे 25,000 रुपए तक के स्वास्थ्य बीमा पर कर लाभ मिलता है, जबकि 60 साल से अधिक की उम्र का होने पर वह 30,000 तक के स्वास्थ्य बीमा पर कर लाभ प्राप्त कर सकता है। माता-पिता के लिए स्वास्थ्य बीमा लेने पर करदाता को 25,000 रुपए पर अलग से कर लाभ मिलता है, लेकिन अगर माता-पिता 60 साल से अधिक उम्र के हों तो यह लाभ 30,000 हो जाता है।

8. 80DD के तहत मिलने वाली छूट
अगर किसी करदाता का कोई परिजन दिव्यांग है और उस पर आश्रित है तो करदाता आयकर अधिनियम की धारा 80DD के तहत कर छूट का क्लेम कर सकते हैं। करदाता उसके इलाज आदि के लिए 75,000 रुपए पर कर लाभ प्राप्त कर सकता है, लेकिन यदि आश्रितों की दिव्यांगता गंभीर प्रकृति (80 फीसदी से अधिक) है तो यह छूट बढ़कर 1.25 लाख तक हो सकती है।

9. इलाज के लिए खर्च की गई रकम पर कर लाभ
आयकर अधिनियम के इस सेक्शन के तहत करदाता खुद की या खुद पर आश्रितों की किसी खास बीमारी के इलाज के लिए 40,000 रुपए तक का क्लेम कर सकता है। अगर करदाता 60 साल से ज्यादा की उम्र का है तो यह छूट 60,000 तक हो सकती है और करदाता के 80 साल से अधिक का होने पर यह छूट 80,000 तक हो जाती है। इसके लिए जरूरी है कि बीमारी इनकम टैक्‍स एक्‍ट के रूल 11D में दी गई बीमारियों में से एक होनी चाहिए। इस लाभ का दावा करने के लिए करदाता को हॉस्पिटल या मेडिकल स्‍पेशलिस्‍ट से बीमारी का सर्टिफिकेट देना होगा।

10. बचत पर कर राहत
आयकर अधिनियम की धारा 80TTA के तहत करदाता बैंक या पोस्ट ऑफिस में खोले गए बचत खाते पर मिलने वाले ब्याज में कर राहत पा सकता है। हालांकि इसकी सीमा 10,000 रुपए से ज्‍यादा न होनी चाहिए। फिक्स्ड डिपोजिट और टर्म डिपोजिट पर मिलने वाला ब्याज इस सेक्शन के अंतर्गत छूट का हकदार नहीं होता है।

X
एनपीएस में निवेश कर बचा सकते हएनपीएस में निवेश कर बचा सकते ह
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..