• Hindi News
  • National
  • Income Tax Returns : What Are Tax Slabs And How Much You Will Get Tax Deduction

इनकम टैक्स रिटर्न : क्या हैं टैक्स स्लैब और आपको कितनी मिलेगी टैक्स में छूट, जानिए हर सवाल का जवाब

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

नई दिल्ली. आयकर विभाग ने वित्त वर्ष 2017-18 का इनकम टैक्स रिटर्न भरने की अंतिम तारीख 31 अगस्त तय की है। इस बार इनकम टैक्स नियमों में कुछ बदलाव हुए हैं जिनकी जानकारी ना होने से करदाताओं को आईटीआर भरने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। नए नियमों के तहत ITR फार्म में क्या बदलाव हुए हैं और टैक्स छूट के नियमों में क्या बदलाव हुए हैं। इसके साथ ही नया टैक्स स्लैब क्या है इसके बारे में बता रही हैं चार्टर्ड अकाउंटेंट पूनम गुप्ता :

 

 

टैक्स रेट    

सामान्य पुरुष-महिला

सीनियर सिटिजन(60-80 साल)

सुपर सीनियर सिटिजन (80 साल से ज्यादा)

0%

2.5 लाख तक

3.0 लाख तक

5.0 लाख तक

5%

2.5-5.0 लाख

3.0-5.0 लाख

NIL

20%

5.0-10.0 लाख

5.0-10.0 लाख

5.0-10.0 लाख

30%

10 लाख से ज्यादा

10 लाख से ज्यादा

10 लाख से ज्यादा

इन पर ध्यान दें : -  इनकम टैक्स पर 3% एजुकेशन और हेल्थ सेस अतिरिक्त लगेगा। 
- 50 लाख रुपये से ज्यादा की कमाई पर 10% सरचार्ज लगेगा। 
- एक करोड़ रुपये से ज्यादा की कमाई पर 15% सरचार्ज लगेगा। 
- किसी भी उम्र की महिलाओं के लिए कोई अलग छूट या टैक्स रेट नहीं है। 
 

कहां कितने पैसे निवेश कर पा सकते हैं टैक्स छूट 
आयकर 1961 की कई धाराएं हैं जो आपको टैक्स छूट दिलाने में मदद करती हैं। कहां निवेश कर या खर्च कर आप आप टैक्स छूट पा सकते हैं इसके बारे में नीचे खबर पढ़कर समझिए -

 

1. Section 80C -  आयकर की धारा 80सी के तहत कुल 1.50 लाख रुपये तक के निवेश या खर्च पर आप छूट पा सकते हैं। इसमें जीवन बीमा, EPF, PPF, सुकन्या समृद्धि योजना, टैक्स सेविंग म्यूचुअल फंड, टैक्स सेविंग FD। पर आप निवेश कर सकते हैं। 

-  दो बच्चों की पढ़ाई में सिर्फ ट्यूशन फीस, होम लोन की किस्त में शामिल मूलधन का हिस्सा, घर की खरीद में स्टांप ड्यूटी और रजिस्ट्रेशन चार्ज में छूट।  

- नेशनल पेंशन सिस्टम (NPS) के टियर-1 अकाउंट में 50 हजार रुपये तक के निवेश पर छूट।

 

2. Section 80EE - अगर आपने घर खरीदने या बनाने के लिए लोन लिया है और इसे चुकाने के लिए किश्त दे रहे हैं। इसमें सालाना 2 लाख रुपये तक के ब्याज पर छूट मिलती है। 

 

3. Section 80D -  आपने कोई फैमिली फ्लोटिंग हेल्थ इंश्योरेंस लिया है, तो इस पर आपको प्रीमियम की रकम (25 हजार) पर टैक्स छूट मिलती है।

 - इसके अलावा पैरेंट्स के लिए अलग से हेल्थ इंश्योरेंस खरीदते हैं, तो उस पर भी 25 हजार रुपये के प्रीमियम पर छूट मिलती है। तीसरी कंड़ीशन में आपके पैरेंट्स सीनियर सिटिजन हैं और आप उनके लिए हेल्थ इंश्योरेंस लेते हैं, तो 30 हजार रुपये के प्रीमियम पर छूट मिलती है। इस हिसाब से खुद और सीनियर सिटिजन पैरेंट्स के लिए हेल्थ इंश्योरेंस लेकर 55 हजार तक प्रीमियम पर टैक्स बचाया जा सकता है।  

- आप अपने पति/पत्नी और बच्चों के हेल्थ चेक-अप के लिए 5,000 रुपये तक का लाभ ले सकते हैं। आपके पैरेंट्स सुपर सीनियर सिटीजन (उम्र 80 से अधिक है ) हैं और उनका मेडिकल इंश्योरेंस नहीं लिया है ऐसे में  उनकी चिकित्सा पर अधिकतम 30,000 तक की राशि पर छूट ले सकते हैं। 

 

4. Section 80E - आपने अपने लिए या फिर पति/पत्नी या बच्चे की पढ़ाई के लिए एजुकेशन लोन लिया है तो इस पर लगने वाली ब्याज की पूरी रकम सेक्शन 80E के तहत टैक्स फ्री होगी। 

 

5. Section 80TTA-  आपका अकाउंट किसी बैंक या पोस्ट ऑफिस में है और उसमे जमा राशि पर मिलने वाले ब्याज पर टैक्स लगता है। सेक्शन 80TTA के तहत इसमें आप साल में ब्याज पर

अधिकतम 10 हजार रुपए की छूट ले सकते हैं। 

 

ध्यान दें :-  आगे चार्टर्ड अकाउंटेंट रविन्द्र सोनी बता रहे हैं ITR नियमों के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें।

खबरें और भी हैं...