• Hindi News
  • National
  • Income Tax Returns: You Can Also Get A Huge Discount In Tax, Fallow Four Tips

इनकम टैक्स रिटर्न: इन चार टिप्स को अपनाकर आप भी पा सकते हैं टैक्स में भारी छूट

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

नई दिल्ली. वित्त वर्ष 2017-18 के लिए आप इनकम टैक्स रिटर्न भरने जा रहे हैं और टैक्स में छूट के लिए दावा कर रहे हैं तो हम आपको कुछ टिप्स बताते हैं जिनका मदद से आप ज्यादा-से ज्यादा टैक्स बचा सकते हैं। इनकम टैक्स रिटर्न भरते समय कुछ महत्वपूर्ण दस्तावेजों को ना भूलें जो आपको टैक्स में बड़ी छूट दिला सकते हैं। इस बार आईटीआर भरने की अंतिम तारीख 31 अगस्त है। आइए जानते हैं चार तरीके जिनकी सहायता से आप बचा सकते हैं बड़ी रकम :

 

1. एचआरए में छूट : करदाताओं को टैक्स में छूट पाने के लिए मकान किराए की हर महीने की रिसीविंग लेनी चाहिए। जो आईटीआर भरते समय लगानी जरूरी होती है। आयकर अधिनियम 1961 की धारा 80 जीजी के तहत आपको मकान किराए में टैक्स छूट मिलती है। जो भी व्यक्ति किराए के मकान में रहता है इसके लिए दावा कर सकता है। अगर आप अपने माता-पिता के घर में रहते हैं और किराया देते हैं तो  उसकी रिसीविंग देनी होगी।

 

2. दान का रखना होगा हिसाब : नियोक्ता ने अगर किसी एनजीओ या फिर धार्मिक संस्था को दान दिया है तो उसका उसे हिसाब रखना होगा। अगर 2 हजार से ऊपर दान की रकम हैं तो वह ऑनलाइन  बैंकिंग के माध्यम से किया गया होना चाहिए। इसका प्रूफ रखना भी आसान होता है। दान की राशि पर 50 प्रतिशत से 100 प्रतिशत तक टैक्स छूट का दावा कर सकते हैं। दो हजार रुपए से ऊपर जिस संस्था को आप दान देते हैं उसका पैन कार्ड और पता आयकर विभाग को देना होगा। 

 

3. फार्म-16 के तहत टैक्स में छूट :  अगर आप नौकरीपेशा हैं और किन्हीं कारणों से आयकर अधिनियम की धारा 80सी, 80सीसीडी और 80डी के तहत टैक्स छूट के लिए फार्म नहीं भर पाए हैं और का आपका अधिक टीडीएस कटता है। तब आपको एक मौका मिलता है। जिसमें सभी निवेश की जानकारी देनी होती है। फार्म-16 में आप अपनी कुल आय और व्यय के बारे में विवरण देते हैं। इसके बाद ज्यादा काटा गया टीडीएस वापस आ जाता है। 

 

4. हर तरह के घाटे का रखें हिसाब : वित्तीय वर्ष 2017-18 में आपको अगर किसी व्यापार या बाजार पर आधारित निवेश में किसी तरह का घाटा हुआ है तो उसका पूरा रिकार्ड अपने पास रखें। घर या अन्य किसी तरह के प्रॉपर्टी लॉस पर रिकार्ड समेत इनकम टैक्स भरने की आखिरी तारीख से पहले रिटर्न भरें। जिससे वित्तीय वर्ष में टैक्स में छूट का लाभ मिल सके। 

 

खबरें और भी हैं...