Hindi News »National »Latest News »National» Siachen: Indian President Visits The Highest Battlefield In The World

सियाचिन बेस कैम्प में कोविंद, दुनिया के सबसे ऊंचे युद्ध के मैदान में पहुंचने वाले दूसरे राष्ट्रपति

कलाम के बाद सियाचिन का दौरा करने वाले कोविंद दूसरे राष्ट्रपति, कहा- हर भारतीय की दुआएं जवानों के साथ।

DainikBhaskar.com | Last Modified - May 10, 2018, 10:44 PM IST

  • सियाचिन बेस कैम्प में कोविंद, दुनिया के सबसे ऊंचे युद्ध के मैदान में पहुंचने वाले दूसरे राष्ट्रपति, national news in hindi, national news
    +3और स्लाइड देखें

    सियाचिन.राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद गुरुवार को लद्दाख स्थित सेना के सियाचिन बेस कैंप पहुंचे। कोविंद सियाचिन का दौरा करने वाले दूसरे राष्ट्रपति बन गए हैं। इससे पहले 2004 में पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम यहां दौरे पर गए थे। कोविंद के साथ आर्मी चीफ बिपिन रावत भी मौजूद रहे।

    देश की जनता जवानों का सम्मान करती है
    - राष्ट्रपति कोविंद ने यहां सैनिकों को संबोधित करते हुए कहा, " मैं आप सब को ये खुद बताने आया हूं कि देश के सबसे ऊंचे बॉर्डर की रक्षा करने वाले जवानों के लिए देश की जनता के मन में अलग ही सम्मान है।"
    - उन्होंने कहा, "सियाचिन दुनिया का सबसे ऊंचा युद्ध का मैदान है और यहां सामान्य जीवन जीना काफी मुश्किल है। यहां हमेशा अपने दुश्मनों से लड़ने के लिए तैयार रहना और भी कठिन काम है। यह मेरे लिए सौभाग्य की बात है कि मुझे इतने बहादुर जवानों से मिलने का मौका मिला।"

    ऑपरेशन मेघदूत के तहत सेना ने किया था प्रवेश

    - कोविंद ने कहा, "अप्रैल 1984 में ऑपरेशन मेघदूत के तहत भारतीय सेना ने सियाचिन में प्रवेश किया था। तब से लेकर आज तक, आप जैसे वीर जवानों ने मातृ-भूमि के सबसे ऊंचे इस भू-भाग पर शत्रु के कदम नहीं पड़ने दिए हैं।

    - उन्होंने कहा, "राष्‍ट्र के गौरव का प्रतीक हमारा तिरंगा इस ऊंचाई पर पूरी शान के साथ सदैव लहराता रहे, इसके लिए आप सब बेहद कठिन चुनौतियों का सामना करते रहते हैं। अनेक सैनिकों ने यहां सर्वोच्‍च बलिदान भी दिया है। मैं ऐसे सभी बहादुर सियाचिन वॉरियर्स को नमन करता हूं।"

    राष्ट्रपति को शहीदों की शहादत हमेशा याद रहती है

    - उन्होंने कहा, "राष्ट्रपति को अपने जवानों की शहादत हमेशा याद रहती है। मैं उन जवानों को नमन करता हूं जो यहां शहीद हुए हैं।"
    - राष्ट्रपति ने कहा, " मैं आप लोगों को बताना चाहता हूं कि देश का प्रत्येक नागरिक आप लोगों के परिवार के साथ खड़ा है। हर एक भारतीय की प्रार्थना में आपके लिए दुआएं होती हैं।"

    राष्ट्रपति भवन आने का दिया न्यौता
    - रामनाथ कोविंद ने सभी जवानों को राष्ट्रपति भवन आने का न्यौता दिया। उन्होंने कहा कि जब भी आप दिल्ली आएं। राष्ट्रपति भवन जरूर आएं। उन्होंने जवानों से बात भी की।

    दुनिया का सबसे ऊंचा बेटलफील्ड है सियाचिन
    - सियाचिन दुनिया का सबसे ऊंचा बैटलफील्ड है। यहां ऊंचाई समुद्र तल से 5,400 मीटर से ज्यादा है। यहां सबसे बड़ी लड़ाई बर्फ से होती है। यही वजह है कि 1984 के पहले तक यहां जवानों को तैनात नहीं किया जाता था। लेकिन अचानक पाकिस्तान यहां कब्जे की कोशिश करने लगा। 1984 में यहां पहली बार हमारी आर्मी की तैनाती हुई।
    - सियाचिन तीन तरफ से पाकिस्तान और चीन से घिरा है। सबसे अहम ये कि इतनी ऊंचाई से दोनों देशों पर नजर रखना भी आसान है। इसलिए यह स्ट्रैटजिक नजरिए से अहम है।
    - यहां भारतीय फौज की 150 पोस्ट हैं, जिसके लिए 10 हजार सैनिक तैनात किए गए हैं।

  • सियाचिन बेस कैम्प में कोविंद, दुनिया के सबसे ऊंचे युद्ध के मैदान में पहुंचने वाले दूसरे राष्ट्रपति, national news in hindi, national news
    +3और स्लाइड देखें
  • सियाचिन बेस कैम्प में कोविंद, दुनिया के सबसे ऊंचे युद्ध के मैदान में पहुंचने वाले दूसरे राष्ट्रपति, national news in hindi, national news
    +3और स्लाइड देखें
  • सियाचिन बेस कैम्प में कोविंद, दुनिया के सबसे ऊंचे युद्ध के मैदान में पहुंचने वाले दूसरे राष्ट्रपति, national news in hindi, national news
    +3और स्लाइड देखें
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए India News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Siachen: Indian President Visits The Highest Battlefield In The World
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From National

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×