24000 फीट ऊंचाई पर वायु सेना के जेट से टकराने से बचा इंडिगो का विमान, दोनों में बची थी 300 फीट की दूरी

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

मुंबई.   वायु सेना का जेट और इंडिगो का विमान 24000 फीट की ऊंचाई पर दुर्घटना का शिकार होने से बच गए। एजेंसी के मुताबिक, 21 मई को चेन्नई एयरस्पेस में दोनों विमान एक-दूसरे से 300 फीट की दूरी पर आ गए थे। तभी रेजोल्यूशन एडवाइजरी       (ऑटोमैटिक अलर्ट) जारी होने के बाद इंडिगो पायलट विमान को सुरक्षित दूरी पर ले गया। जिससे यह हादसा टल गया। बता दें इससे पहले  2 मई को ढाका के हवाई क्षेत्र में इंडिगो और एअर डेक्कन एयरलाइन्स के विमान 9 हजार फीट पर टकराने से बच गए थे।

 

इंडिगो ने घटना की पुष्टि की

- एजेंसी ने बताया कि इंडिगो ने इस घटना की पुष्टि की है। मामले की जांच डीजीसीए ने शुरू कर दी है, हालांकि इंडियन एयरफोर्स की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। 
- इंडिगो के अफसर ने बताया, यह घटना 21 मई को रात 9.49 बजे हुई। A320 विमान 27000 फीट पर विशाखापट्टनम-बेंगलुरु रूट पर उड़ रहा था। तभी अचानक से एयरफोर्स का विमान 300 फीट की दूरी तक आ गया। पायलट ने स्टेंडर्ड ऑपरेटिंग प्रक्रिया का पालन किया और हादसा टालने में सफल रहा।"

 

2 मई को इंडिगो-एअर डेक्कन एयरलाइन्स आ गए थे पास
- इससे पहले 2 मई को इंडिगो-एअर डेक्कन एयरलाइन्स के बीच दूरी सिर्फ 700 फीट रह गई थी। हादसा रेजोल्यूशन एडवाइजरी की वजह से टल गया था।
- इंडिगो के विमान (6E-892)ने कोलकाता से अगरतला के लिए उड़ान भरी थी। इसी दौरान एअर डेक्कन का विमान (DN-602)अगरतला से कोलकाता आ रहा था। तभी यह विमान बांग्लादेश की राजधानी ढाका के ऊपर महज 700 फीट की दूरी से गुजरे। डेक्कन फ्लाइट 9 हजार और इंडिगो 8300 फीट की ऊंचाई पर उड़ान भर रही थी।

 

रेजोल्यूशन एडवाइजरी क्या होती है?
- रेजोल्यूशन एडवाइजरी विमान चालकों के लिए जारी की जाती है ताकि वे संभावित हादसे को अपनी सूझबूझ से टाल सकें।

खबरें और भी हैं...