• Hindi News
  • National
  • भारत में क्यों बढ़ रही है गर्मी?/ Cause of heat wave in India
विज्ञापन

देश में क्यों बढ़ रही है गर्मी? एक्सपर्ट से जानिए 5 कारण

Dainik Bhaskar

May 24, 2018, 06:07 PM IST

देश के 23 शहरों में तापमान 45 डिग्री को क्रॉस कर गया है।

भारत में क्यों बढ़ रही है गर्मी?/ Cause of heat wave in India
  • comment

नेशनल डेस्क। देश के 23 शहरों में तापमान 45 डिग्री सेल्शियस को क्रॉस कर गया है। बढ़ती गर्मी को देखते हुए मौसम विभाग ने अगले 4 दिनों के लिए हरियाणा, राजस्थान और पश्चिमी उत्तरप्रदेश में रेड अलर्ट जारी कर संबंधित एजेंसियों को सतर्क कर दिया है।

पिछले सालों की तुलना में इस साल गर्मी बहुत ज्यादा लग रही है। क्या इस साल गर्मी वाकई ज्यादा है, यह जांचने के लिए हमने एडवांस्ड विज्ञान के क्षेत्र में सबसे प्रतिष्ठित जर्नल में से एक Science Advances की एक स्टडी की पड़ताल की। इस स्टडी के अनुसार तो 1960 से अब तक भारत के औसत तापमान में केवल 0.5 डिग्री सेल्शियस की बढ़ोतरी हुई है। तो फिर भी इतनी गर्मी क्यों फील हो रही है? इस संबंध में हमने भोपाल मौसम केंद्र के एक्स-डायरेक्टर डॉ. डीपी दुबे और स्कायमेट नई दिल्ली में सीनियर वेदर साइंटिस्ट जीपी शर्मा से बात की। उन्होंने बताए ये 3 कारण :

1. कांक्रेटाइजेशन :
कांक्रेटाइजेशन होने से गर्मी दो तरह से बढ़ती है। एक, कांक्रीट सोलर रेडिएशन को ज्यादा रिफ्लैक्ट करता है। दूसरा, कांक्रेटाइजेशन के कारण जमीन के भीतर पानी का रिसाव कम होता है। जमीन के भीतर पानी कम होने से जमीन के ऊपर सूखापन बढ़ जाता है। इससे भी गर्मी ज्यादा फील होती है।

क्या है सोलर रेडिएशन?

सोलर रेडिएशन सूरज से निकलने वाली एनर्जी होती है जिसमें विजिबल लाइट, हीट (इंफ्रारेड किरणें) और अल्ट्रा वॉयलेट किरणें शामिल होती हैं। इनमें गर्मी के लिए जिम्मेदार इंफ्रारेड होती हैं।

इस समय क्यों बढ़ रहा है सोलर रेडिएशन?

मार्च से लेकर 21 जून तक सूर्य धरती के करीब आते जाता है। सूरज जैसे-जैसे धरती के करीब आता है, उससे निकलने वाले रेडिएशन को भी धरती ज्यादा जज्ब करती है। यानी धरती पर गरमी अधिक होती है। जून माह में गर्मी का असर कम होते जाता है, क्योंकि इस समय तक आसमान में बादल छाने लगते हैं जो सोलर रेडिएशन को कम कर देते हैं।

(अन्य 2 कारण जानने के लिए आगे की स्लाइड् पर क्लिक करें...)

कैसे निकाला जाता है किसी देश का औसत तापमान?

किसी भी देश का औसत तापमान उस देश के चुनिंदा शहरों के औसत तापमान का एवरेज होता है। यह एवरेज पूरे 365 दिनों का निकाला जाता है। इसे सालाना औसत तापमान कहते हैं। साल 1960 में भारत में सालाना औसत तापमान 24 डिग्री सेल्शियस था। इसके बाद के सालों में यह 24 से 25 डिग्री सेल्शियस के बीच रहा।

कैसे निकालते हैं किसी शहर का सालाना औसत तापमान?

किसी शहर का सालाना औसत तापमान निकालने के लिए उस शहर के दैनिक औसत तापमान का एवरेज निकाला जाता है।

कैसे निकालते हैं दैनिक औसत तापमान :

किसी एक शहर का दैनिक औसत तापमान उस शहर के मैग्जिमम और मिनिमम तापमान का एवरेज होता है। उदाहरण के लिए हम भोपाल के एक दिन का औसत तापमान निकालते हैं। 24 मई को भोपाल का मैग्जिमम तापमान 44.2 डिग्री और मिनिमम तापमान 30.4 डिग्री रहा। तो इस दिन का भोपाल का दैनिक औसत तापमान 37.3 रहा।

(Science Advances पूरी स्टडी पढ़ने के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं...)

X
भारत में क्यों बढ़ रही है गर्मी?/ Cause of heat wave in India
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन