• Hindi News
  • National
  • Jagannath Rath Yatra Start In Ahmedabad: Gujarat CM Vijay Rupani Performs Ritual

अहमदाबाद और पुरी में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा शुरू, सोने की झाड़ू लगाकर नगर भ्रमण पर किया रवाना

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

- विदेश में रहने वाले भक्त ने 9.5 किलो सोने का मुकुट दान दिया
- इस बार रथ यात्रा की थीम धरोहर रखी गई

 

अहमदाबाद/पुरी. भगवान जगन्नाथ की 141वीं रथयात्रा शनिवार को देश के कई हिस्सों में निकाली जा रही है। मुख्य समारोह पुरी में हो रहा है। दूसरा बड़ा आयोजन अहमदाबाद में है। यहां मुख्यमंत्री विजय रूपाणी और उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने सोने के हत्थे वाली झाड़ू से रास्ता साफ करके भगवान के रथों को रवाना किया। उन्होंने भगवान का रथ भी खींचा। अहमदाबाद में होने वाली रथ यात्रा 20 किलोमीटर दूर सरसपुर तक जाएगी और देर शाम तक लौट आएगी। उधर, पुरी में रथयात्रा समारोह नौ दिन तक चलता है।

पुरी के कुछ हिस्से को यूनेस्को ने विश्व धरोहर का दर्जा दिया है। लिहाजा, इस बार रथयात्रा की थीम भी धरोहर रखी गई है। रथ यात्रा के दौरान भगवान जगन्नाथ, भगवान बालभद्र और देवी सुभद्रा अपने घर, यानी जगन्नाथ मंदिर से रथ में बैठकर गुंडिचा मंदिर जाते हैं। गुंडिचा मंदिर को भगवान जगन्नाथ की मौसी का घर माना जाता है। वे यहां नौ दिन तक रहते हैं। 

 

भगवान ने 9.5 किलो सोने का मुकुट पहना : अहमदाबाद में भगवान जगन्नाथ को पहली बार 9.5 किलो सोने का मुकुट पहनाया गया। इसे विदेश में रहने वाले भक्त रमेश पटेल ने दान दिया। इसे वाराणसी में तैयार करवाया गया। जगन्नाथजी ने गुलाबी रंग के वस्त्रों में दर्शन दिए।

 

इजरायली ड्रोन से नजर : अहमदाबाद में रथ यात्रा की सुरक्षा के लिए इजरायली ड्रोन का इस्तेमाल किया जा रहा है। यह प्रणाली रडार तकनीक और मल्टीपल सेंसर के जरिए कम ऊंचाई पर उड़ने वाली वस्तु का तुरंत पता लगा लेती है और उसे मार गिराती है। इसे इजरायल एयरोस्पेस लिमिटेड ने विकसित किया है। जगन्नाथ यात्रा पर नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को बधाई दी। और देश की तरक्की की कामना की।

 

 

Greetings on the auspicious occasion of Rath Yatra.

With the blessings of Lord Jagannath, may our country scale new heights of growth. May every Indian be happy and prosperous.

Jai Jagannath! pic.twitter.com/1Ifrxueaiu

— Narendra Modi (@narendramodi) July 14, 2018
खबरें और भी हैं...