• Home
  • National
  • jammu kashmir ramgarh samba sector pakistan ceasefire violation BSF martyr
--Advertisement--

जम्मू के सांबा सेक्टर में पाकिस्तान ने तोड़ा संघर्षविराम, बीएसएफ के 4 जवान शहीद

पाकिस्तान इस साल सीमा पर करीब 900 से ज्यादा बार संघर्षविराम का उल्लंघन कर चुका है।

Danik Bhaskar | Jun 13, 2018, 11:40 AM IST
पाकिस्तान की ओर से की गई फायरिंग का बीएसएफ ने मुंहतोड़ जवाब दिया। - फाइल पाकिस्तान की ओर से की गई फायरिंग का बीएसएफ ने मुंहतोड़ जवाब दिया। - फाइल

  • पाकिस्तान इस साल 900 से ज्यादा बार संघर्षविराम का उल्लंघन कर चुका है
  • 2017 में भी पाकिस्तान ने 869 बार संघर्षविराम का उल्लंघन किया था

जम्मू. सांबा सेक्टर के रामगढ़ में पाकिस्तान ने फिर संघर्षविराम का उल्लंघन किया। इसमें बीएसएफ के 4 जवान शहीद और 3 जख्मी हो गए। जख्मी जवानों को जम्मू के सतवारी स्थित आर्मी अस्पताल में भर्ती किया गया है। पाकिस्तान की ओर से मंगलवार रात करीब 10:30 बजे रामगढ़ स्थित अंतरराष्ट्रीय सीमा पर फायरिंग शुरू की गई, जो बुधवार सुबह 4:30 बजे तक चली। बीएसएफ के मुताबिक, सांबा सेक्टर के रामगढ़ में बाबा चमलियाल के सालाना उर्स से पहले पाकिस्तान की ओर से संघर्ष विराम तोड़ा गया है।

फायरिंग में ये हुए शहीद
- पाकिस्तान की ओर से की गई फायरिंग में तीन जूनियर ऑफिसर और एक कॉस्टेबल शहीद हो गए। इनमें सब-इंस्पेक्टर रजनीश कुमार, एएसआई राम निवास, एएसआई जतिंदर सिंह और हवलदार हंस राज शामिल हैं।

- जम्मू-कश्मीर के उपमुख्यमंत्री कवीन्द्र गुप्ता ने कहा, "पाकिस्तान ऐसे हमले करता रहा है। यह चिंता का विषय है। हमारी सेना ऐसे हमला का जवाब देती है। शहीद हुए जवानों को मेरी श्रद्धांजलि।"

बाबा चमलियाल को पाक रेंजर्स चढ़ाते हैं चादर
- रामगढ़ में बाबा चमलियाल की दरगाह पर सालाना उर्स 26 जून को मनाया जाता है। हर साल परंपरा के अनुसार पाकिस्तान रेंजर्स यहां चादर चढ़ाते हैं। चादर चढ़ाने आए पाकिस्तान के रेंजर्स को बीएसएफ के जवान उर्स वाले दिन शरबत पिलाते हैं।

7 जून को राजनाथ सिंह ने किया था बॉर्डर दौरा

- गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने 7 जून को बॉर्डर स्थित इलाकों का दौरा किया था। यहां वे सीमा पर रहने वाले लोगों से मिले थे। जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह इस दौरे में उनके साथ थे।

संघर्षविराम के पालन पर बनी थी सहमति
- डीजीएमओ लेवल की बातचीत के बाद पाकिस्तान की ओर से कहा गया था कि सीमा पर रहने वाले आम नागरिकों की परेशानी को देखते हुए दोनों सेनाओं के बीच संघर्षविराम को सख्ती से लागू करने पर सहमति बनी है

- बता दें कि 29 सितंबर 2016 को हुई सर्जिकल स्ट्राइक के बाद यह पहला मौका था, जब दोनों देशों की सेना संघर्षविराम का पालन करने पर सहमत हुई थीं।

संघर्षविराम तोड़ने को लेकर बदनाम है पाकिस्तान

- मेजर जनरल जीडी बख्शी ने बताया, "सीजफायर पैक्ट फॉलो करने को लेकर पाकिस्तान का ट्रैक रिकॉर्ड काफी खराब है। इसी साल पाक ने 900 से ज्यादा बार संघर्षविराम का उल्लंघन किया है, जिसमें सेना के 20 से ज्यादा जवान शहीद हो गए हैं।"
- "2003 में भारतीय तोपों की जबरदस्त फायरिंग से डरकर पाक ने संघर्षविराम की मांग की थी। इसके बाद दोनों देशों के बीच 25 नवंबर 2003 की आधी रात को सीजफायर पैक्ट लागू हुआ। वैसे भी पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक को कोई फर्क पड़ा नहीं तो फिर सीजफायर पैक्ट से क्या होने वाला है?"

- 2017 में भी पाकिस्तान ने 869 बार संघर्षविराम का उल्लंघन किया था।

12 जून को पुलवामा के कोर्ट परिसर में बनी पुलिस चौकी पर हमला किया। इस हमले में दो जवान शहीद हो गए। - फाइल 12 जून को पुलवामा के कोर्ट परिसर में बनी पुलिस चौकी पर हमला किया। इस हमले में दो जवान शहीद हो गए। - फाइल