--Advertisement--

अलग-अलग धर्म वाले मां-बाप के बेटे को हाईकोर्ट ने दिया नाम, इसे लेकर तलाक तक पहुंच गई थी लड़ाई

जस्टिस जयाशंकरन ने रजिस्ट्रार (जन्म-मृत्यु) को आदेश के दो सप्ताह में जन्म प्रमाणपत्र जारी करने का निर्देश दिया है।

Dainik Bhaskar

May 10, 2018, 10:05 PM IST
Judge names child after estranged inter-faith couple take battle to High Court

  • बच्चे की मां ईसाई, जबकि पिता हिंदू धर्म से ताल्लुक रखते हैं
  • मां के अनुसार, वह बेटे के बीच का नाम हटाने पर राजी थीं

नई दिल्ली. केरल हाईकोर्ट ने एक अनोखे मामले में अलग-अलग रह रहे मां-बाप के बेटे का नामकरण किया है। दरअसल, बच्चे की मां ईसाई और पिता हिंदू हैं। मां-बाप दोनों अपने-अपने धर्म के अनुसार अपने बेटे का नाम रखना चाहते थे। इसे लेकर दोनों में विवाद हो गया। यह इतना बढ़ गया कि नौबत तलाक तक पहुंच गई। मामला अदालत पहुंचा तो जज ने बच्चे का नामकरण किया।

मां-बाप ने दायर की थीं अलग-अलग याचिकाएं

- बेटे के नाम पर सहमति ने बनने पर बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र की मांग को लेकर अलग-अलग याचिकाएं दायर की थीं।
- मां ने अदालत को बताया कि बपतिस्मा के समय बच्चे का नाम जॉन मनी सचिन रखा गया था।
- पिता ने दावा किया कि बेटे के जन्म के 28वें दिन हुए समारोह में उसे अभिनव सचिन नाम दिया गया।

जस्टिस एके जयाशंकरन नाम्बियार ने बच्चे को दिया जॉन सचिन नाम

- हाईकोर्ट ने कहा कि बच्चे को जल्द से जल्द नाम दिया जाना बहुत जरूरी है, क्योंकि कुछ ही दिन में उसका स्कूल में दाखिला होना है। दाखिला प्रक्रिया शुरू होने से पहले बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र बनना आवश्यक है।

- जस्टिस एके जयाशंकरन नाम्बियार ने अपने फैसले में कहा कि उन्होंने बच्चे के मां-बाप के बीच मतभेदों पर गौर किया है। उन्होंने कहा, "दोनों पक्षों की बात रखते हुए कोर्ट ऐसे नतीजे पर पहुंचना चाहती है, जिसमें मां-बाप की सहमति हो। इसी आधार पर बच्चे को जॉन सचिन नाम दिया जा रहा है। जॉन मां, जबकि सचिन पति के पक्ष को दर्शाएगा। इस तरह दोनों पक्षों की बात रह जाएगी।"

Judge names child after estranged inter-faith couple take battle to High Court
X
Judge names child after estranged inter-faith couple take battle to High Court
Judge names child after estranged inter-faith couple take battle to High Court
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..