• Home
  • National
  • DGCA permission not required by chartered operators, but have sought detailed report: Jayant Sinha
--Advertisement--

नवनिर्वाचित विधायकों को विमान से केरल ले जा रहे थे, डीजीसीए ने मंजूरी नहीं दी: जेडीएस

गुरुवार देर रात कांग्रेस+जेडीएस विधायकों को बेंगलुरू से हैदराबाद शिफ्ट किया गया।

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 09:44 PM IST
बेंगलुरु में येदियुरप्पा के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेने का विरोध करते जेडीएस समर्थक। - फाइल बेंगलुरु में येदियुरप्पा के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेने का विरोध करते जेडीएस समर्थक। - फाइल

- कर्नाटक में भाजपा को शनिवार को बहुमत साबित करना है, विरोधी पार्टियां विधायकों को एक जगह रख रही हैं

नई दिल्ली. जनता दल सेकुलर (जेडीएस) ने आरोप लगाया है कि उसके विधायकों को विमान से केरल ले जाने की इजाजत नहीं दी गई। हालांकि, नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने इस मामले की रिपोर्ट मंगाई है। मंत्रालय ने कहा कि देश के भीतर उड़ान भरने वाली चार्टर्ड फ्लाइट को डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (डीजीसीए) से मंजूरी लेने की आवश्यकता नहीं है। बता दें कि कर्नाटक में भाजपा को शनिवार शाम 4 बजे बहुमत साबित करना है। जेडीएस और कांग्रेस ने आरोप लगाया कि उनके विधायकों को कोच्चि ले जाने वाली तीन उड़ानों को डीजीसीए ने आखिरी क्षणों में मंजूरी नहीं दी।

मंत्रालय ने आरोपों को खारिज किया
- मंत्रालय ने एक अधिकारी ने गुरुवार रात कांग्रेस-जेडीएस के उन आरोपों को खारिज कर दिया, जिसमें उड़ानों को मंजूरी नहीं दिए जाने की बात कही गई थी।
- नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने शुक्रवार सुबह ट्वीट किया, "घरेलू चार्टर्ड फ्लाइट को उड़ान भरने के लिए डीजीसीए की मंजूरी की जरूरत नहीं है। एयर ट्रैफिक कंट्रोल से उड़ान के कार्यक्रम को मंजूरी मिलने के बाद वे कहीं भी जाने के लिए आजादा है। हम इस मामले में रविवार तक पूरी रिपोर्ट हासिल कर लेंगे और फिर पूरी जानकारी देंगे।"

जेडीएस ने आरोपों में क्या कहा
- गुरुवार को न्यूज एजेंसी से कहा था, "फ्लाइट कन्फर्म थी, आखिरी वक्त हमें इजाजत नहीं दी गई थी, तब परेशानी आ गई। विधायकों को ले जाने की हमारी योजना थी, लेकिन आप देख ही रहे हैं कि वे (भाजपा) क्या-क्या कर रहे हैं।"

विधायकों को बचाने के लिए रिजॉर्ट पॉलिटिक्स
- खरीद-फरोख्त से बचाने के लिए कांग्रेस ने शुक्रवार को अपने विधायक बेंगलुरु के इगलटन रिजॉर्ट में भेजे थे। जेडीएस विधायक होटल शांगरी ला में रोके गए। इस बीच, कुछ विधायकों के लापता होने की चर्चा रही। कांग्रेस के 2 विधायक रिजॉर्ट नहीं पहुंचे थे। खबर ये भी आई थी कि कांग्रेसी विधायकों को कोच्चि ले जाने वाली तीन चार्टर्ड फ्लाइट को उड़ने की मंजूरी नहीं दी गई। देर रात कांग्रेस+जेडीएस विधायक बेंगलुरू से हैदराबाद शिफ्ट किए गए।

सुप्रीम कोर्ट ने येदि को शनिवार तक का वक्त दिया
- कर्नाटक में अभी भाजपा के पास 104, कांग्रेस के पास 78 और जेडीएस+बसपा के पास 38 विधायक हैं। बहुमत के लिए 112 का आंकड़ा जरूरी है। राज्यपाल ने भाजपा को मौका दिया था। इसके लिए खिलाफ कांग्रेस आधी रात को सुप्रीम कोर्ट पहुंची थी। लेकिन कोर्ट ने शपथ पर रोक लगाने से इनकार कर दिया था और सुनवाई शुक्रवार सुबह तक टाल दी थी। शुक्रवार को सुनवाई में अदालत ने कहा कि येदियुरप्पा शनिवार शाम 4 बजे बहुमत साबित करें।

ये भी पढ़ें

सुप्रीम कोर्ट ने कहा- कर्नाटक में कल शाम 4 बजे फ्लोर टेस्ट कराएं; विधानसभा में बन रही तीन स्थितियां

5 राज्यों में विपक्ष ने मांगा सरकार बनाने का मौका: गोवा में कांग्रेस और बिहार में तेजस्वी राज्यपाल से मिले