--Advertisement--

केरल में बाढ़ से अब तक 37 लोगों की मौत, 31 हजार को राहत कैंपों में भेजा; 72 घंटे तक रेड अलर्ट

राज्य में कई जगह बारिश रुकी, लेकिन बाढ़ का खतरा अब भी बरकरार

Dainik Bhaskar

Aug 11, 2018, 08:11 PM IST
वायनाड जिले में 14 अगस्त और इडुक्की जिले में 13 अगस्त तक रेड अलर्ट घोषित किया गया है। वायनाड जिले में 14 अगस्त और इडुक्की जिले में 13 अगस्त तक रेड अलर्ट घोषित किया गया है।

- केरल के आठ जिलों में आर्मी तैनात, मुन्नार में फंसे 54 पर्यटक निकाले गए
- नेवी, एयरफोर्स, कोस्टगार्ड और एनडीआरएफ की टीमें तैनात

कलपेट्‌टा. केरल में शनिवार को बारिश नहीं हुई, लेकिन आधे राज्य में बाढ़ के हालात बने हुए हैं। इडुक्की में एक दिन पहले एशिया के सबसे बड़े बांध के पांचों गेट खोले गए थे। इससे हर सेकंड पांच लाख लीटर पानी बाहर आया। बारिश और बाढ़ के चलते राज्य में अब तक 37 लोगों की मौत हुई। जबकि 31 हजार को सेना और एनडीआरएफ ने राहत शिविरों में पहुंचाया। गृह मंत्री राजनाथ सिंह रविवार को केरल के बाढ़ प्रभावित इलाकों का दौरा करेंगे। मौसम विभाग ने अगले 72 घंटों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है।

मुख्यमंत्री पी विजयन ने शनिवार को नेता विपक्ष रमेश चेन्निथला के साथ उत्तरी केरल के वायनाड, कलपेट्‌टा समेत अन्य बाढ़ग्रस्त इलाकों का हवाई दौरा किया। पहले वे इडुक्की जा रहे थे, लेकिन खराब मौसम की वजह से दौरा रद्द कर दिया। फिलहाल वायनाड जिले में 14 अगस्त और इडुक्की जिले में 13 अगस्त तक रेड अलर्ट घोषित किया गया है। केरल के ऊर्जा मंत्री एमएम मणि ने कहा कि बारिश की रफ्तार अब धीमी हो गई है। इस वजह से इडुक्की डैम का जलस्तर भी घट गया है।

राज्य में बारिश, बाढ़ और भूस्खलन से 54 हजार से ज्यादा लोग बेघर हुए हैं। इनके लिए 439 राहत शिविर बनाए गए हैं। बाढ़ प्रभावित इडुक्की, कन्नूर, कोझीकोड, पनामारम, वायनाड और मलप्पुरम जिलों में राहत और बचाव के लिए सेना की आठ टुकड़ियां तैनात की गई हैं। नेवी की चार और कोस्टगार्ड की तीन टीमों को भी अलर्ट पर रखा गया है। जवानों ने मुन्नार में फंसे 54 पर्यटकों को सुरक्षित निकाल लिया है। इनमें 24 विदेशी हैं।

इडुक्की के पांचों गेट खोले गए : 40 साल में पहली बार शुक्रवार को इडुक्की बांध के सभी पांचों गेट खोल दिए गए। इससे पांच लाख लीटर पानी हर सेकंड छोड़ा जा रहा है। फिलहाल डैम का जलस्तर 2401 फीट है। एक दिन में इसमें सिर्फ दो फीट पानी कम हुआ है। मुख्यमंत्री विजयन ने बताया कि पेरियार नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। ऐसे में इडुक्की बांध से तय सीमा से तीन गुना पानी छोड़ने की जरूरत है।

सात राज्यों में अब तक 718 लोगों की मौत : गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को सदन में बताया कि इस साल मानसून के दौरान सात राज्यों में 718 लोगों की मौत हुई है। सबसे ज्यादा केरल में 178 लोगों ने जान गंवाई। इसके बाद उत्तर प्रदेश है, जहां 171 लोगों की मौत हो गई।

राज्य मौतें
केरल 178
उत्तरप्रदेश 171
बंगाल 170
महाराष्ट्र 139
गुजरात 52
असम 44
नगालैंड 8
कुल 718
कोचिकोड जिले में ऐसा हाल है। कोचिकोड जिले में ऐसा हाल है।
शनिवार को इडुक्की डैम में जलस्तर 2403 से 2401 फीट हो गया। शनिवार को इडुक्की डैम में जलस्तर 2403 से 2401 फीट हो गया।
केरल में हर तरफ बाढ़ का पानी भरा हुआ है। केरल में हर तरफ बाढ़ का पानी भरा हुआ है।
एर्नाकुलम जिले में लोग घुटनों तक पानी में रह रहे हैं। एर्नाकुलम जिले में लोग घुटनों तक पानी में रह रहे हैं।
पेरियार नदी का पानी अलुवा जिले में घुस गया है। पेरियार नदी का पानी अलुवा जिले में घुस गया है।
पलक्कड में बुजुर्ग महिला को इस तरह बाढ़ग्रस्त इलाके से बाहर निकाला गया। पलक्कड में बुजुर्ग महिला को इस तरह बाढ़ग्रस्त इलाके से बाहर निकाला गया।
कई इलाकों में भूस्खलन की वजह से मकान ढह गए हैं। कई इलाकों में भूस्खलन की वजह से मकान ढह गए हैं।
बाढ़ की वजह से इडुक्की में काफी वाहन भी डूब गए। बाढ़ की वजह से इडुक्की में काफी वाहन भी डूब गए।
कई जिलों में इतना पानी भर गया है कि अधिकतर घर डूब गए हैं। कई जिलों में इतना पानी भर गया है कि अधिकतर घर डूब गए हैं।
डैम से छोड़े गए पानी के कारण इडुक्की के निचले इलाकों में पानी भर गया है। डैम से छोड़े गए पानी के कारण इडुक्की के निचले इलाकों में पानी भर गया है।
X
वायनाड जिले में 14 अगस्त और इडुक्की जिले में 13 अगस्त तक रेड अलर्ट घोषित किया गया है।वायनाड जिले में 14 अगस्त और इडुक्की जिले में 13 अगस्त तक रेड अलर्ट घोषित किया गया है।
कोचिकोड जिले में ऐसा हाल है।कोचिकोड जिले में ऐसा हाल है।
शनिवार को इडुक्की डैम में जलस्तर 2403 से 2401 फीट हो गया।शनिवार को इडुक्की डैम में जलस्तर 2403 से 2401 फीट हो गया।
केरल में हर तरफ बाढ़ का पानी भरा हुआ है।केरल में हर तरफ बाढ़ का पानी भरा हुआ है।
एर्नाकुलम जिले में लोग घुटनों तक पानी में रह रहे हैं।एर्नाकुलम जिले में लोग घुटनों तक पानी में रह रहे हैं।
पेरियार नदी का पानी अलुवा जिले में घुस गया है।पेरियार नदी का पानी अलुवा जिले में घुस गया है।
पलक्कड में बुजुर्ग महिला को इस तरह बाढ़ग्रस्त इलाके से बाहर निकाला गया।पलक्कड में बुजुर्ग महिला को इस तरह बाढ़ग्रस्त इलाके से बाहर निकाला गया।
कई इलाकों में भूस्खलन की वजह से मकान ढह गए हैं।कई इलाकों में भूस्खलन की वजह से मकान ढह गए हैं।
बाढ़ की वजह से इडुक्की में काफी वाहन भी डूब गए।बाढ़ की वजह से इडुक्की में काफी वाहन भी डूब गए।
कई जिलों में इतना पानी भर गया है कि अधिकतर घर डूब गए हैं।कई जिलों में इतना पानी भर गया है कि अधिकतर घर डूब गए हैं।
डैम से छोड़े गए पानी के कारण इडुक्की के निचले इलाकों में पानी भर गया है।डैम से छोड़े गए पानी के कारण इडुक्की के निचले इलाकों में पानी भर गया है।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..