Hindi News »National »Latest News »National» Monsoon Forecast Normal For Third Consecutive Year By IMD

इस साल हो सकती है 97% बारिश, स्काईमेट के बाद मौसम विभाग का भी सामान्य मानसून का अनुमान

मौसम विभाग ने जारी किया 97% बारिश का अनुमान, लगातार तीसरे साल मानसून सामान्य रहने की उम्मीद।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Apr 16, 2018, 10:11 PM IST

  • इस साल हो सकती है 97% बारिश, स्काईमेट के बाद मौसम विभाग का भी सामान्य मानसून का अनुमान, national news in hindi, national news
    +2और स्लाइड देखें

    दिल्ली. किसानों के लिए अच्छी खबर है। मौसम विभाग ने लगातार तीसरे साल मानसून सामान्य रहने का अनुमान जताया है। विभाग के मुताबिक, इस साल जून से सितंबर के दौरान 97% बारिश की उम्मीद है। मानसून केरल के तट से कब टकराएगा, इसका अनुमान 15 मई को जारी किया जाएगा। इसके बाद दूसरे चरण के पूर्वानुमान जारी किए जाएंगे, इसमें जुलाई और अगस्त के बीच देश के विभिन्न क्षेत्रों में होने वाली बारिश का अनुमान जारी किया जाएगा। बता देें कि स्काईमेट ने भी इस साल मानसून सामान्य रहने और 100% बारिश की संभावना जाहिर की है।

    मानसून: पिछले 5 साल में अनुमान क्या था, असल में कितनी बारिश हुई

    सालमौसम विभाग का अनुमानस्काईमेट का अनुमानवास्तविक बारिश
    201398%103%106%
    201496%94%88%
    201593%102%86%
    2016106%105%97%
    201798%95%95%

    * मौसम विभाग के पूर्वानुमान के आंकड़ों में 5% एरर मार्जिन होता है।

    5 सालों में 2015 में सबसे कमजोर रहा था मानसून

    - पिछले 5 सालों में 2015 में मानसून सबसे कमजोर रहा, जब 14% कम बारिश हुई।

    - इससे पहले निजी एजेंसी स्काईमेट भी सामान्य मानसून का पूर्वानुमान जारी कर चुकी है। स्काईमेट के मुताबिक जून से सितंबर के दौरान 100% बारिश होगी। इस दौरान 887 मिमी बारिश का अनुमान जताया गया है। यह अनुमान 5% ऊपर-नीचे रह सकता है। बता दें कि 96% से 104% के बीच बारिश को सामान्य माना जाता है।

    2018 के लिए स्काईमेट के आंकड़े

    बारिशअनुमान

    सामान्य से अधिक (110% से ऊपर)

    5%

    सामान्य से अधिक (105-110%)

    20%

    सामान्य (96-104%)

    55%

    इकोनॉमी पर मानसून का असर

    - सामान्य मानसून का सीधा असर ग्रामीण आबादी पर पड़ता है। मानसून सामान्य और अच्छा रहने से ग्रामीण इलाकों में लोगों की आय बढ़ती है, जिससे मांग में भी तेजी आती है। ग्रामीण इलाकों में आय बढ़ने से इंडस्ट्री को भी फायदा मिलता है।

    रिकॉर्ड पैदावार की उम्मीद

    - सामान्य मानसून की उम्मीद से सरकार भी उत्साहित है। एग्रीकल्चर सेक्रेटरी एस के पटनायक ने कहा है कि, "देश का खाद्यान्न उत्पादन इस साल 277.49 मिलियन टन की रिकॉर्ड ऊंचाई के पार पहुंच सकता है। सामान्य मानसून खेती के साथ ही पूरी इकोनॉमी के लिए अच्छा है।"

    शेयर बाजार पर मानसून का असर

    - मानसून और खपत आधारित सेक्टर में सीधा संबंध है। मानसून अच्छा रहता है तो कंजप्शन बेस्ड सेक्टर में मांग बढ़ेगी। ग्रामीणों की खरीद की क्षमता बढ़ने से कृषि उपकरण निर्माता, टू-व्हीलर्स और ट्रैक्टर निर्माता कंपनियों के साथ ही केमिकल्स, फर्टिलाइजर्स और एफएमसीजी कंपनियों की आय बढ़ने की उम्मीद है।

    अच्छे मानसून का फायदा फायदा बैंकों और फाइनेंशियल सेक्टर को भी मिलेगा। आय बढ़ने से इन सेक्टर में कारोबार बढ़ेगा जिससे इन सेक्टर्स की कंपनियों के शेयरों में तेजी आएगी जिससे पूरे शेयर बाजार को फायदा होगा।

    - निवेशकों को पहले से ही अच्छे मानसून की उम्मीद थी। इसी वजह से सोमवार के कारोबार में इन सेक्टर्स की कई कंपनियों के शेयरों में तेजी रही।

    इन कंपनियों के शेयर चढ़े

    कंपनीशेयर प्राइसबढ़त (प्रतिशत)
    महिन्द्रा एंड महिन्द्रा8041.82
    हीरो मोटोकॉर्प3,8072.18
    बजाज ऑटो2,8371.82
    वोल्टास645.951.23
    डाबर इंडिया3441.04
    मैरिको319.601.12
    दीपक फर्टिलाइजर्स एंड पेट्रोकेमिकल्स3873.61

    * अच्छे मानसून से जिन कंपनियों को फायदे की उम्मीद रहती है उनमें से कई कंपनियों के शेयरों में सोमवार को 1-3% तक तेजी रही जो कि आगे भी जारी रह सकती है।

  • इस साल हो सकती है 97% बारिश, स्काईमेट के बाद मौसम विभाग का भी सामान्य मानसून का अनुमान, national news in hindi, national news
    +2और स्लाइड देखें
    लगातार तीसरे साल सामान्य मानसून का अनुमान।- (फाइल)
  • इस साल हो सकती है 97% बारिश, स्काईमेट के बाद मौसम विभाग का भी सामान्य मानसून का अनुमान, national news in hindi, national news
    +2और स्लाइड देखें
    अच्छे मानसून से किसानों, ग्रामीण आबादी को होगा फायदा- (फाइल)
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From National

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×