अब 12 साल से कम उम्र की बच्चियों से रेप के मामलों में होगी फांसी की सजा, लोकसभा में आज पेश होगा बिल

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • कांग्रेस ने कहा- राफेल डील पर प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री ​ने संसद को गुमराह किया
  • एंटनी ने कहा- सरकार विमानों की डील का खुलासा करे

 

नई दिल्‍ली.  अविश्वास प्रस्ताव गिरने के बाद कांग्रेस अब राफेल डील पर नरेंद्र मोदी और निर्मला सीतारमण के खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाएगी। रणदीप सिंह सुरजेवाला ने सोमवार को कहा कि प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री ने राफेल मुद्दे पर संसद को गुमराह किया है। ये विशेषाधिकार का हनन है। कांग्रेस नेता और पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी ने कहा, "सीक्रेसी डील पर सरकार का दावा एकदम गलत है। उन्हें हरेक एयरक्राफ्ट की कीमत बताना चाहिए। सरकार राफेल डील को छिपा नहीं सकती क्योंकि  महालेखानियंत्रक (सीएजी) और लोकलेखा समिति इसकी जांच करती है। 2008 में हुए भारत-फ्रांस समझौते में इस बात का कहीं जिक्र नहीं है कि राफेल डील की व्यावसायिक कीमत का खुलासा न किया जाए। संधि के तहत हथियारों के सामरिक, तकनीकी विवरण तक दिए जा सकते हैं। प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री देश को भटका रहे हैं।''

कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि फ्रांस सरकार को राफेल की कीमत बताए जाने में कोई आपत्ति नहीं है। ये बात फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों राहुल गांधी को बता चुके हैं। केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार ने राफेल डील विवाद पर कहा, "हमारे रक्षा मंत्री ने भारत और फ्रांस के बीच हुए राफेल समझौते के बारे में संसद में स्पष्ट रूप से अपना मत रखा है। अब राहुल गांधी बेबुनियाद आरोप लगाकर इस गैर-जरूरी मुद्दे को उठाना चाहते हैं। उन्हें आरोप लगाने दें। सरकार ने देश की बेहतरी के लिए यह सौदा किया है।" इससे पहले, लोकसभा और राज्यसभा में सोमवार को मॉब लिंचिंग मुद्दे पर हंगामा हुआ। राज्यसभा में सीपीआई नेता डी राजा ने मॉब लिंचिंग पर चर्चा के लिए कार्यस्थगन का नोटिस दिया। इससे पहले कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने मॉब लिंचिंग पर कहा- सरकार ऐसी घटनाओं को बढ़ावा दे रही है। वह चाहती ही नहीं की देश के हालात सुधरें। 

मोदी का क्रूर भारत: राहुल गांधी ने ट्वीट में कहा- "अलवर में भीड़ द्वारा पीट-पीटकर घायल किए गए रकबर खान को छह किलोमीटर दूर अस्पताल ले जाने में पुलिसकर्मियों ने तीन घंटे लगा दिए। ऐसा क्यों? क्या वे टीब्रेक के लिए रुके? यह मोदी का क्रूर भारत है, जहां इंसानियत की जगह नफरत ने ले ली। लोगों को कुचला जा रहा है और मरने के लिए छोड़ा जा रहा है।" 

दोनों सदनों में 67 बिल अटके : संसद के दोनों सदनों में 67 बिल अटके हैं। इनमें ट्रिपल तलाक, भगोड़ा कानून और मुस्लिम विवाह संरक्षण बिल सरकार के टॉप एजेंडा में हैं। 18 जुलाई से 10 अगस्त तक सत्र चलेगा। इनमें 6 दिन छुट्टी के हैं।

खबरें और भी हैं...