Hindi News »International News »Pakistan» Musharraf Says Modi Doesn't Advocate Peace Talks

मेरे राष्ट्रपति रहते भारत-पाक शांति के रास्ते पर चल रहे थे, लेकिन मोदी का इससे कोई वास्ता नहीं: मुशर्रफ

अमेरिकी अखबार को दिए इंटरव्यू में पूर्व राष्ट्रपति ने भारत के अलावा अमेरिका-पाक रिश्तों पर भी अपनी बात रखी।

DainikBhaskar.com | Last Modified - May 26, 2018, 07:46 PM IST

  • मेरे राष्ट्रपति रहते भारत-पाक शांति के रास्ते पर चल रहे थे, लेकिन मोदी का इससे कोई वास्ता नहीं: मुशर्रफ, international news in hindi, world hindi news
    +1और स्लाइड देखें
    मुशर्रफ 20 जून, 2001 से 18 अगस्त 2008 तक पाकिस्तान के राष्ट्रपति रहे। -फाइल

    - पाक के पूर्व आर्मी जनरल परवेज मुशर्रफ पर राजद्रोह का केस चल रहा है

    वॉशिंगटन. पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज मुशर्रफ ने कहा है कि भारत-पाक में शांति स्थापित नहीं होने के लिए नरेंद्र मोदी जिम्मेदार हैं। मुशर्रफ का दावा है कि जब वे पाकिस्तान के राष्ट्रपति थे, तब दोनों देश शांति के रास्ते पर थे, लेकिन ये स्थिति ज्यादा वक्त तक नहीं रह सकी क्योंकि मोदी शांति और बातचीत के समर्थक नहीं हैं।

    भारत के पूर्व प्रधानमंत्री शांति चाहते थे
    - अमेरिकी अखबार वॉइस ऑफ अमेरिका को दिए इंटरव्यू में मुशर्रफ ने कहा, "मैंने शांति की दिशा में आगे बढ़ने के लिए दोनों प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी और मनमोहन सिंह से बातचीत की। दोनों नेता भारत-पाक को इस लड़ाई-झगड़े से बाहर लाना चाहते थे।"
    - मुशर्रफ ने कहा कि सत्ता में रहते हुए उन्होंने कश्मीर और सियाचिन मुद्दे को सुलझाने के लिए चार बिंदुओं पर काम किया। दोनों देश शांति चाहते थे, इसलिए इन बिंदुओं पर काम कर रहे थे।

    मोदी अपना दबदबा कायम करना चाहते हैं
    - मुशर्रफ ने आरोप लगाया कि मोदी भारत में अपना दबदबा कायम करना चाहते हैं। इसी वजह से दोनों देशों के बीच शांति वार्ता आगे नहीं बढ़ सकती।

    - बता दें कि पाक के सेनाध्यक्ष रहे मुशर्रफ पर राजद्रोह का केस चल रहा है। अदालत से इजाजत मिलने के बाद वे दुबई में अपना इलाज करा रहे हैं।


    पाक को इस्तेमाल कर रहा अमेरिका
    - मुशर्रफ ने कहा कि अमेरिका अपनी जरूरत के मुताबिक पाक के साथ व्यवहार करता है। अमेरिका पाक के खिलाफ भारत का साथ दे रहा है।
    - उन्होंने कहा, "मौजूदा वक्त में अमेरिका और पाक के रिश्ते निचले स्तर पर आ गए हैं। पाक के लोगों को यह समझ नहीं आ रहा कि क्यों अमेरिका कभी हमारा साथ छोड़ देता है तो कभी हमारे साथ आ जाता है। जब उसे हमारी जरूरत होती है तो वो हमारे पास आ जाता है।"

    दोनों देशों को रिश्ते सुलझाने की जरूरत
    - पूर्व राष्ट्रपति ने अफगानिस्तान को लेकर कहा कि दोनों देशों को एक-दूसरे से शिकायतें हैं। पाक के खिलाफ आरोप हैं। ऐसे में दोनों देशों को मिलकर सारे मुद्दों को सुलझाना होगा।
    - मुशर्रफ ने कहा कि अमेरिका कोल्ड वाॅर के समय से भारत का खुलकर समर्थन कर रहा है। एक बार फिर पाक के खिलाफ दोनों देश एक साथ आ रहे हैं। इससे पाक पर सीधा असर पड़ेगा। पाकिस्तान चाहेगा कि यूएन अफगानिस्तान में भारत की भूमिका की जांच करे।

  • मेरे राष्ट्रपति रहते भारत-पाक शांति के रास्ते पर चल रहे थे, लेकिन मोदी का इससे कोई वास्ता नहीं: मुशर्रफ, international news in hindi, world hindi news
    +1और स्लाइड देखें
    मुशर्रफ ने कहा कि मैनें दोनों देशों के बीच शांति स्थापित करने के लिए अटल बिहारी वाजपेयी और मनमोहन सिंह से बातचीत की। -फाइल
Topics:
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Pakistan News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Musharraf Says Modi Doesn't Advocate Peace Talks
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Pakistan

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×