--Advertisement--

सीता के जन्मस्थान से बस रवाना करेंगे मोदी, राम के जन्मस्थान पर स्वागत करेंगे योगी

केंद्र सरकार ने भारत और नेपाल के धार्मिक और सांस्कृतिक संबंधों मजबूत करने के लिए एक ठोस कदम उठाया है।

Danik Bhaskar | May 10, 2018, 11:47 PM IST

नई दिल्ली/काठमांडू. केंद्र सरकार ने भारत और नेपाल के धार्मिक और सांस्कृतिक संबंधों मजबूत करने के लिए एक ठोस कदम उठाया है। नेपाल में जनकपुर और भारत में अयोध्या के बीच सीधी बस सेवा शुरू होने जा रही है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नेपाल के पीएम 11 मई को जनकपुर से बस सेवा को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे। वहीं, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 12 मई को बस के अयोध्या पहुचने पर बस यात्रियों का स्वागत करेंगे।

- राम के घर अयोध्या और उनकी पत्नी सीता के मायके जनकपुर को जोड़ने के लिए सीधी बस सेवा शुरू होने जा रही है।
- मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ 12 मई को अयोध्या पहुंचने पर बस यात्रियों का स्वागत करेंगे। इसमें करीब 32 यात्री जनकपुर से सवार होंगे। दोनों देश एक दूसरे की धार्मिक मान्यताओं से जुड़े रहे हैं। अयोध्या और जनकपुर के बीच मायके और ससुराल का रिश्ता अत्यंत मधुर है।

- बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 11 मई को दो-दिवसीय नेपाल यात्रा पर जाने वाले हैं। इसके लिए पहले वह बिहार की राजधानी पटना पहुंचेंगे और फिर वहां से सीधे नेपाल के जनकपुर जाएंगे।
- दो दिन के अपने दौरे में मोदी जनकपुर में जानकी मंदिर के दर्शन करेंगे और फिर मुक्तिनाथ जाएंगे। इसके साथ ही मोदी नेपाल के साथ कनेक्टिविटी और इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट को मजबूती देने पर जोर भी देंगे।

- दोनों देश के पीएम मिलकर जलविद्युत परियोजना अरुण-3 की आधारशिला भी रखेंगे। भारत का ध्यान रक्सौल-काडमांडू रेल लिंक पर भी होगा। इसके लिए ओली से भारत दौरे के दौरान बात हुई थी।