--Advertisement--

मोदी ने इसलिए राहुल को दिया विश्वेश्वरय्या बोलने का चैलेंज

पीएम मोदी ने तंज करते हुए राहुल गांधी उपवास उड़ाया।

Danik Bhaskar | May 01, 2018, 05:31 PM IST

नई दिल्ली. कर्नाटक की रैली में पीएम मोदी ने राहुल गांधी को 15 मिनट बिना पेपर लिए बोलने का चैलेंज दिया है। साथ ही कहा कि राहुल उस 15 मिनट में पांच बार विश्वेश्वरय्या का नाम लें। आखिर मोदी ने ऐसा क्यों किया? दरअसल 25 अप्रैल की एक रैली में राहुल सांइटिस्ट विश्वसरैया का नाम सहजता से लेते हुए नहीं दिख रहे हैं। वह इसे बार-बार अलग-अलग उच्चारण कर रहे हैं। इसके बाद चंद सेकेंड का वह वीडियो वायरल हो गया। राज्यसभा सांसद राजीव चंद्रशेखर ने इसे टवीट भी किया। उनके टवीट करने के बाद 8 सेकेंड का यह वीडियो वायरल हो गया।

मोदी ने उस बात को पकड़ा

अपने चुनाव अभियान के पहले दिन ही नरेंद्र मोदी ने राहुल के इस उच्चारण को पकड़ा। उन्होंने 15 मिनट बोलेने पर बैठ ना पाने वाले राहुल के बयान की खिल्ली उड़ाते हुए उनकी मातृ भाषा पर भी तंज किया। कांग्रेस की तरफ से अभी उस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

एम विश्वेश्वरय्या को याद कर रहे थे राहुल

कर्नाटक के चुनाव प्रचार के दौरान राहुल गांधी 25 मार्च को मैसूर में एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे। एम विश्वेश्वरय्या का जन्म भी कर्नाटक में हुआ था और वह ब्रिटिश साम्राज्य के दौरान 1912 से लेकर 1918 तक मैसूर के दीवान रहे थे। भारत में 15 सितंबर को हर वर्ष अभियंता दिवस (इंजीनियर्स डे) उन्हीं के जन्म दिवस की याद में मनाया जाता है। इसलिए मैसूर में जनता को संबोधित करते हुए राहुल गांधी वहां की महान विभूतियों के बारे में बता रहे थे, तभी उन्होंने विश्वेश्वरय्या का जिक्र किया। जिनका नाम का उच्चारण वह सही तरीके से नहीं कर पाए।