​मोदी के बयानों पर राहुल का जवाब- मैं कांग्रेस हूं... शोषित लोगों के साथ हूं, नफरत और डर को मिटाना चाहता हूं

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

- आजमगढ़ रैली में मोदी ने कहा था- विपक्ष चाहता है कि तीन तलाक होता रहे

- तीन तलाक विधेयक राज्यसभा में अटका है, सरकार की कोशिश इसे मानसून सत्र में पास कराने की होगी

 

 

नई दिल्ली. कांग्रेस किसकी पार्टी? सिर्फ पुरुष मुस्लिमों की पार्टी है या इसमें मुस्लिम महिलाओं के लिए भी जगह है? प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस सवाल का राहुल गांधी ने मंगलवार को जवाब दिया। उन्होंने ट्वीट में कहा- ‘‘मैं कतार में खड़े अंतिम लोगों के साथ हूं। वे लोग जो शोषित हैं, हाशिये पर हैं और सताए गए हैं। उनका मजहब, उनकी जाति या धार्मिक आस्था जो भी हो, वह मेरे लिए मायने नहीं रखती। जो तकलीफ में हैं, मैं उनकी मदद करना चाहता हूं। मैं नफरत और डर को मिटाना चाहता हूं। मैं सभी लोगों का सम्मान करता हूं। मैं कांग्रेस हूं...।’’ 

इससे पहले सोमवार को राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर मानसून सत्र में महिला आरक्षण बिल लाने की मांग की थी। राहुल ने कहा था, 'हमारे प्रधानमंत्री अपने आप को महिलाओं के लिए धर्मयुद्ध छेड़ने वाला बताते हैं। महिला आरक्षण बिल काफी समय से लोकसभा में अटका हुआ है। सरकार इस सत्र में इस बिल को पेश करे, कांग्रेस इसका बिना शर्त समर्थन देगी।'  इसका जवाब देते हुए मंगलवार को केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने लिखा, कांग्रेस के शासन में यह बिल क्यों लटका रहा? महिला आरक्षण बिल, एंटी ट्रिपल तलाक बिल, निकाह हलाला बिल के साथ पास होना चाहिए।

 

मोदी ने कांग्रेस को महिला विरोधी पार्टी बताया था: नरेंद्र मोदी ने तीन दिन पहले आजमगढ़ में कहा था- ''मैंने अखबार में पढ़ा कि कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमान नामदार ने कहा कि कांग्रेस मुस्लिमों की पार्टी है। मनमोहन सिंह ने भी कहा था कि देश के संसाधनों पर पहला हक मुस्लिमों का है। आपकी पार्टी मुस्लिमों की पार्टी है। इसके लिए बधाई, लेकिन पूछना चाहता हूं कि उनकी पार्टी सिर्फ मुस्लिम पुरुषों की पार्टी है या फिर मुस्लिम महिलाओं की भी पार्टी है?'' 'कांग्रेस किसकी पार्टी' वाले बयान का जिक्र मोदी ने आजमगढ़ रैली में तीन तलाक के संदर्भ में किया था। उन्होंने आरोप लगाया कि विपक्ष तीन तलाक बिल को संसद में पास नहीं होने दे रहा है। उन्होंने कहा- "संसद सत्र शुरू होने से पहले विपक्ष इस मामले पर मुस्लिम महिलाओं से बात करे। दरअसल, विपक्ष चाहता है कि तीन तलाक होता रहे, मुस्लिम बहन-बेटियों का जीवन नर्क बना रहे। मैं उन्हें मुक्ति दिलाने की कोशिश कर रहा हूं। ये लोग अपने स्वार्थ में डूबे हुए हैं।"  

 

 

 

 

खबरें और भी हैं...