पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

गरीब रथ का किराया होगा महंगा, बेडरोल, तकिया और कंबल का किराया भी आपकी टिकट में जुड़ेगा

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

नई दिल्ली. गरीबों को यात्रा में सुविधा देने के लिए सस्ते किराए के साथ शुरू की गई एक्सप्रेस ‘गरीब रथ’ का किराया बढ़ सकता है। रलवे के एक सीनियर अधिकारी के अनुसार, बेडरोल किट का चार्ज अब गरीब रथ के टिकट में शामिल किया जा सकता है। एसी कोचों में बेडरोल किट्स के लिए 25 रुपए की कीमत टिकट में ही जोड़ी जाती है, जिसे और बढ़ाया जा सकता है, क्‍योंकि पिछले 12 साल से इसमें कोई इजाफा नहीं किया गया है।

 

कई और भी ट्रेनों में लग सकता है चार्ज

अधिकारी ने बताया कि लिनेन के बेडरोल किट्स की बढ़ती लागत को देखते हुए यह समीक्षा की जा रही है और इसे गरीब रथ के अलावा अन्‍य दूसरी ट्रेनों में भी लागू किया जा सकता है। गरीब रथ की तरह अन्‍य दूसरी ट्रेनों में भी पिछले एक दशक से बेडरोल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

 

डिप्‍टी कैग ने उठाया सवाल तो रेलवे ने लिया फैसला
अहम बात यह है कि रेलवे ने डिप्‍टी कैग (कंट्रोल एंड ऑडिटर जनरल) की ओर से बेडरोल किट के चार्ज 10 साल से नहीं बढ़ाने जाने पर सवाल खड़ा कर दिया। जिसके बाद उठाए रेलने ने यह फैसला लिया है। 
 
बेडरोल किट्स के लगते हैं 25 रुपए
रेलवे सभी एसी कोचों में बेडरोल किट्स की सप्‍लाई करता है और उनकी 25 रुपए कीमत टिकट में ही शामिल की जाती है। हालांकि गरीब रथ एक्सप्रेस और दूरंतो एक्सप्रेस जैसी ट्रेनों में ऐसा नहीं है, जहां यात्री किट की बुकिंग बिना कोई अतिरिक्त चार्ज दिए करा सकते हैं। वहीं अधिकारी का कहना है कि हम कैग की तरफ से मिले नोट की समीक्षा कर रहे हैं। कीमतें हमेशा एक ही तरह नहीं रह सकती है। गरीब रथ में बेडरोल चार्ज की समीक्षा होगी और अगले छह महीने में टिकट की कीमतों में इसे शामिल किया जा सकता है।  
  
धुलाई खर्च बढ़ा इसलिए लगेगा चार्ज 
अधिकारी ने बताया कि 2006 से बेडरोल किट की लागत बढ़ गई है। कैलकुलेशन में धुलाई खर्च, इसमें लगे कर्मचारी, यात्रियों को बेडरोल देने में लगे कर्मचारी, इन्‍हें ट्रेन में रखने की जगह की लागत और इसके रख-रखाव की लागत को शामिल किया गया है।

 

बारह साल पहले हुई थी चार्ज में बढ़ोत्तरी

किट के चार्ज में आखिरी बढ़ोत्‍तरी 12 साल पहले की गई थी। अधिकारी ने बताया, कैग की ओर से भेजे गए पत्र में रेलवे से पूछा गया है कि वह बताए कि 2006 में गरीब रथ ट्रेनों की शुरुआत के बाद से इनके चार्ज की कभी समीक्षा की गई है या फिर नहीं।

खबरें और भी हैं...