• Home
  • Business
  • Nirav Modi stayed in flat above jewellery store in London: Report
--Advertisement--

लंदन में अपने ज्वेलरी स्टोर के ऊपर फ्लैट में रह रहा है नीरव, पासपोर्ट रद्द होने के बावजूद 4 बार ब्रिटेन से बाहर गया: रिपोर्ट

ब्रिटिश अखबार ने अपुष्ट रिपोर्टों के हवाले से कहा कि नीरव ने ब्रिटेन से शरण मांगी है।

Danik Bhaskar | Jun 25, 2018, 09:52 AM IST
  • जांच एजेंसियों ने नीरव के बेल्जियम में होने का भी दावा किया था
  • नीरव के खिलाफ 6 भारतीय पासपोर्ट रखने पर भी केस दर्ज किया गया है

लंदन. पंजाब नेशनल बैंक में 13,600 करोड़ रुपए के फ्रॉड का आरोपी नीरव मोदी लंदन स्थित अपने ज्वेलरी स्टोर के ऊपर फ्लैट में रह रहा है। न्यूज पेपर द संडे टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत ने जब से नीरव का पासपोर्ट रद्द किया है, उसके बाद वह कम से कम 4 बार ब्रिटेन से बाहर गया है। पीएनबी घोटाले में आरोपी नीरव मोदी और मेहुल चौकसी की गिरफ्तारी के आदेश दिए गए हैं। सीबीआई ने इंटरपोल से नीरव के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने की भी अपील की है।
द संडे टाइम्स ने रिपोर्ट में कहा कि नीरव पोस्ट मेफेयर इलाके में अपने ज्वेलरी स्टोर "नीरव मोदी' के ऊपर स्थित फ्लैट में ही रह रहा है। इस ज्वेलरी स्टोर को पिछले हफ्ते बंद कर दिया गया था। रिपोर्ट में एक भारतीय अफसर का हवाला भी दिया गया। अफसर ने कहा- क्या ब्रिटेन सुरक्षित पनाहगाह है, ऐसे लोग हमेशा यहीं क्यों आते हैं? नीरव ब्रिटेन को सुरक्षित पनाहगाह की तरह से इस्तेमाल कर रहा है। वह भारत और ब्रिटेन के बीच कूटनीतिक रिश्तों को नुकसान पहुंचाने की धमकी दे रहा है।

हॉन्गकॉन्ग, न्यूयॉर्क, पेरिस गया था नीरव मोदी: 23 फरवरी को भारत ने मोदी का पासपोर्ट रद्द कर दिया था। इसके बाद इंटरपोल और ब्रिटिश सरकार से भी संपर्क किया। रिपोर्ट में दावा किया गया कि आधिकारिक दस्तावेजों से जाहिर होता है कि नीरव हीथ्रो एयरपोर्ट से 15 मार्च को हॉन्गकॉन्ग गया था। 28 मार्च को वो इसी एयरपोर्ट से न्यूयॉर्क गया। इसके तीन दिन बाद वे लंदन से पेरिस की यात्रा पर गया। 12 जून को उसने लंदन से ब्रूसेल्स के लिए यूरोस्टार ट्रेन से यात्रा की।

कस्टम ड्यूटी की चोरी के मामले में भेजा गया गिरफ्तारी वारंट
रेवेन्यू इंटेलीजेंस एजेंसी डीआरआई ने नीरव मोदी को कस्टम ड्यूटी की चोरी के मामले में ईमेल से गिरफ्तारी वारंट भेजा है। एजेंसी ने मार्च में नीरव मोदी और उनकी तीन फर्मों के खिलाफ केस दर्ज किया था।