--Advertisement--

महाराष्ट्र में शिवसेना की शर्त: 2019 में 2014 का ही फॉर्मूला चाहिए, भाजपा से 152 सीटें और सीएम पद मांगा

शिवसेना के एक नेता ने कहा- शिवेसना का भाजपा से अलग होकर चुनाव में उतरना बड़ा नुकसान पहुंचा सकता है।

Dainik Bhaskar

Jun 10, 2018, 09:34 AM IST
अमित शाह ने हाल ही में मातोश्री में उद्धव ठाकरे से मुलाकात की थी। अमित शाह ने हाल ही में मातोश्री में उद्धव ठाकरे से मुलाकात की थी।
  • भाजपा अध्यक्ष शाह की उद्धव से मुलाकात के बाद गठबंधन को फिर से पटरी पर लाने की कोशिशें शुरू
  • शिवसेना 136 सीटें ही भाजपा के लिए छोड़ना चाहती है, ताकि वह ज्यादा से ज्यादा सीटों पर जीत सके



मुंबई. आम चुनाव भले ही अभी दूर हों, पर एनडीए में गठबंधन को लेकर सहयोगी दलों में तैयारी शुरू हो गई है। बिहार में नीतीश कुमार की जदयू ने जिस तरह भाजपा से बड़े भाई की भूमिका और गठबंधन का पुराने फॉर्मूले पर साथ रहने की शर्त रखी। उसी तरह अब महाराष्ट्र में शिवसेना, भाजपा के साथ चुनाव में उतरना चाहती है। तीन दिन पहले भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात के दौरान शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने गठबंधन जारी रखने के लिए अपनी शर्त बता दी है। सूत्रों के मुताबिक, भाजपा से शिवसेना ने महाराष्ट्र विधानसभा की 288 सीटों में से 152 सीटें मांगी हैं। वह 136 सीटें ही भाजपा के लिए छोड़ना चाहती है, ताकि वह ज्यादा से ज्यादा सीटों पर जीत सके।


शिवसेना का मुख्यमंत्री चाहते हैं उद्धव
- राजनीतिक विश्लेषकों के मुताबिक, शिवसेना का यह कदम उद्धव ठाकरे की उस योजना का हिस्सा है, जिसके तहत वह राज्य में मुख्यमंत्री अपनी पार्टी का चाहते हैं। हालांकि भाजपा, शिवसेना को पहली प्राथमिकता देना नहीं चाहती है।

- भाजपा 2014 के (लोकसभा) सीट शेयरिंग फॉर्मूले पर शिवसेना के साथ 2019 के आम चुनाव में उतर सकती है।
- ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह है कि लोकसभा के बाद वह विधानसभा चुनाव में क्या करेगी।

- शिवसेना के एक नेता ने कहा- 'यह हमारे लिए बहुत बड़ी भूल होगी। यदि भाजपा केंद्र की सत्ता में वापस लौटती है, तो फिर महाराष्ट्र में लोगों का मूड भी उसके अनुसार बदल जाएगा। ऐसे में शिवेसना का भाजपा से अलग होकर चुनाव में उतरना बड़ा नुकसान पहुंचा सकता है।'
- नेता ने कहा- 'उद्धव ने शाह से स्पष्ट कह दिया कि विधानसभा चुनाव में तभी साथ उतरा जा सकता है, जब भाजपा, शिवसेना को 152 सीटें देने को तैयार हो।'
- सीटों को लेकर दोनों दलों में कड़वाहट के बाद भाजपा और शिवसेना 2014 में विधानसभा चुनाव अलग-अलग लड़े थे। बाद में फिर गठबंधन कर सरकार का गठन किया था।

भाजपा 130 से ज्यादा सीटें देने के मूड में नहीं
- भाजपा सूत्रों के मुताबिक विधानसभा चुनाव में शिवसेना को भाजपा 130 से ज्यादा सीटें देने की पेशकश नहीं कर सकती।
- शाह ने पार्टी नेताओं, सांसदों और विधायकों से कहा है कि वे लोकसभा और विधानसभा चुनाव में अकेले उतरने के लिहाज से भी तैयारी रखें।
- इसकी वजह यह है कि भाजपा नेतृत्व अंतिम समय में शिवसेना से बातचीत बिगड़ने को लेकर भी डरा हुआ है। ऐसे में दूसरे प्लान पर काम करना होगा।

शाह वैचारिक मतभेद वाले लेखक नैयर से मिले
- संपर्क अभियान के तहत अमित शाह ने शनिवार को प्रख्यात लेखक और विचारक कुलदीप नैयर से मुलाकात की।
- वैचारिक तौर पर कुलदीप नैयर हमेशा से संघ के विरोध में रहे हैं और संघ के लोग भी उन्हें पाकिस्तान समर्थक मानते हैं।
- कुलदीप नैयर पिछले 5 दशकों से पत्रकारिता से जुड़े रहे हैं और भारत-पाक संबंध के विशेषज्ञ हैं।
- उधर, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने अभिनेता संजय दत्त से मुलाकात की। इस मुलाकात को लेकर भी सवाल उठने लगे हैं, क्योंकि संजय के पिता सुनील दत्त कांग्रेस नेता रहे। संजय की बहन भी कांग्रेस में हैं।

लोकसभा 2014 में राज्य की 48 सीटों पर फॉर्मूला

पार्टी सीटें जीत
भाजपा 26 23
शिवसेना 22 18


विधानसभा 2014 (जब दोनों दल अलग लड़े)

पार्टी सीटों पर लड़ी जीतीं
भाजपा 260 122
शिवसेना 280 63






शिवसेना के एक नेता ने कहा- यदि भाजपा केंद्र की सत्ता में वापस लौटती है, तो फिर महाराष्ट्र में लोगों का मूड भी उसके अनुसार बदल जाएगा। ऐसे में शिवेसना का भाजपा से अलग होकर चुनाव में उतरना बड़ा नुकसान पहुंचा सकता है। (फाइल) शिवसेना के एक नेता ने कहा- यदि भाजपा केंद्र की सत्ता में वापस लौटती है, तो फिर महाराष्ट्र में लोगों का मूड भी उसके अनुसार बदल जाएगा। ऐसे में शिवेसना का भाजपा से अलग होकर चुनाव में उतरना बड़ा नुकसान पहुंचा सकता है। (फाइल)
X
अमित शाह ने हाल ही में मातोश्री में उद्धव ठाकरे से मुलाकात की थी।अमित शाह ने हाल ही में मातोश्री में उद्धव ठाकरे से मुलाकात की थी।
शिवसेना के एक नेता ने कहा- यदि भाजपा केंद्र की सत्ता में वापस लौटती है, तो फिर महाराष्ट्र में लोगों का मूड भी उसके अनुसार बदल जाएगा। ऐसे में शिवेसना का भाजपा से अलग होकर चुनाव में उतरना बड़ा नुकसान पहुंचा सकता है। (फाइल)शिवसेना के एक नेता ने कहा- यदि भाजपा केंद्र की सत्ता में वापस लौटती है, तो फिर महाराष्ट्र में लोगों का मूड भी उसके अनुसार बदल जाएगा। ऐसे में शिवेसना का भाजपा से अलग होकर चुनाव में उतरना बड़ा नुकसान पहुंचा सकता है। (फाइल)
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..