--Advertisement--

पेट्रोल-डीजल की बढ़ रही कीमतों को कम करने के लिए सरकार इस हफ्ते उठा सकती है कुछ कदम

चुनाव से पहले 19 दिन तक भाव स्थिर रहे। अब 9दिन से लगातार बढ़ोतरी हो रही है।

Dainik Bhaskar

May 22, 2018, 05:49 PM IST
Steps to deal with rising petrol diesel prices likely this week

  • जनता को तुरंत राहत के लिए सरकार एक्साइज ड्यूटी में कटौती कर सकती है
  • पेट्रोल पर 19.48 रुपए, डीजल पर 15.33 रुपए एक्साइज ड्यूटी वसूली जा रही है

नई दिल्ली. पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर काबू पाने के लिए सरकार जल्द कदम उठा सकती है। एक्साइज ड्यूटी और वैट कम करने का फैसला लिया जा सकता है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने मंगलवार को कहा था कि सरकार इस बारे में जल्द फैसला लेगी। पिछले 10 दिन में पेट्रोल 2.54 रुपए और डीजल 2.41 रुपए महंगा हुआ है। दिल्ली में बुधवार को डीजल 26 पैसे की बढ़ोतरी के साथ 68.34 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गया। वहीं, पेट्रोल 30 पैसे बढ़कर 77.17 रुपए प्रति लीटर हो गया।

पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने के लिए सभी राज्यों की रजामंदी जरूरी
वित्त राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ला ने कहा है कि भारत क्रूड आयात करता है और विदेशी कंपनियां कीमत बढ़ा रही हैं। पेट्रोलियम मंत्रालय ने पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने के लिए कहा है। जब तक सभी राज्यों के वित्त मंत्री राजी नहीं होते, इसे जीएसटी काउंसिल के सामने नहीं रखा जा सकता।

पेट्रोल-डीजल पर टैक्स की समीक्षा करे सरकार: एचपीसीएल चेयरमैन
हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड के चेयरमैन और एमडी मुकेश कुमार सुराना ने कहा है कि तेल पर लागू टैक्स की समीक्षा करने की जरूरत है। हमें समय-समय पर हालात संभालने के रास्ते तलाशने चाहिए।

स्थायी समाधान तलाश रहे हैं: रविशंकर प्रसाद
केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि महंगा तेल चिंता और बहस का विषय है। कीमतों में स्थिरता के लिए सरकार स्थाई समाधान तलाश रही है। सरकार क्या उपाय करेगी इस बारे में उन्होंने कुछ नहीं बोला। एक्साइज ड्यूटी के सवाल पर जवाब दिया कि इस तरह के टैक्स से होने वाली आय देश के विकास के लिए इस्तेमाल की जाती है।

पेट्रोल 25 रुपए सस्ता करने की गुंजाइश: चिदंबरम
कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने महंगे पेट्रोल-डीजल के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया। चिदंबरम ने दावा किया कि पेट्रोल 25 रुपए सस्ता करने की गुंजाइश है लेकिन सरकार सिर्फ अपना फायदा सोच रही है। कच्चा तेल सस्ता होने से सरकार को 15 रुपए प्रति लीटर की बचत हो रही है। ऊपर से 10 रुपए टैक्स भी वसूला जा रहा है। पेट्रोल पर 1-2 रुपए घटाकर सरकार जनता को धोखा देगी।

10 दिन में पेट्रोल 2.54 रुपए महंगा

शहर बुधवार (रुपए/लीटर) 13 मई बढ़ोतरी (14-23 मई)
दिल्ली 77.17 (अब तक का उच्च स्तर) 74.63 2.54 रुपए
मुंबई 84.99 82.48 2.51 रुपए
कोलकाता 79.83 77.32 2.51 रुपए
चेन्नई 80.11 77.43 2.68 रुपए

10 दिन में डीजल 2.41 रुपए महंगा

शहर बुधवार (रुपए/लीटर) 13 मई बढ़ोतरी (14-23 मई)
दिल्ली 68.34 (अब तक का उच्च स्तर) 65.93 2.41 रुपए
मुंबई 72.76 70.20 2.56 रुपए
कोलकाता 70.89 68.63 2.26 रुपए
चेन्नई 72.14 69.56 2.58 रुपए

वजह : ओपेक देशों ने उत्पादन घटाया, कर्नाटक चुनाव के बाद कंपनियों ने नुकसान की भरपाई की
- पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन (ओपेक) ने प्रोडक्शन घटाया जिससे मांग बढ़ी।

- डॉलर के मुकाबले रुपया 68 के नीचे फिसला।
- कर्नाटक चुनाव के दौरान 19 दिल पेट्रोल-डीजल महंगा नहीं हुआ। तेल कंपनियां 500 करोड़ रुपए के अनुमानित घाटे की भरपाई के लिए लगातार कीमतें बढ़ा रही हैं।

केंद्र की कमाई 97% बढ़ी, तेल कंपनियों का मुनाफा 250% बढ़ा और इसकी मार लोगों पर

- 4 साल में पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी 105% और डीजल पर 330% बढ़ी।
- अप्रैल 2014 में पेट्रोल पर एक्साइज ड्यूटी 9.48 रुपए थी जो बढ़कर 19.48 रुपए हो गई।
- अप्रैल 2014 में डीजल पर एक्साइज ड्यूटी 3.56 रुपए थी जो बढ़कर 15.33 रुपए हो गई।
- तीन सरकारी कंपनियों का मुनाफा 2014-15 में 13,090 करोड़ रुपए से बढ़कर 2017-18 में 32,948 करोड़ रुपए पहुंच गया।
- केंद्र की पेट्रोल-डीजल से 2014-15 में कमाई 1.72 लाख करोड़ रुपए थी। ये दिसंबर 2017 तक बढ़कर 2.30 लाख करोड़ रुपए पहुंच गई।
- मार्च 2016 में पेट्रोल 56.61 रुपए लीटर था। मौजूदा सरकार में ये सबसे कम कीमत थी। इसके बाद 26 महीने में ये 36% महंगा हो चुका है। इस दौरान डीजल 54% महंगा हुआ है।

हमें तो पेट्रोल-डीजल महंगा मिल रहा, कंपनियों ने पुराने स्टॉक से कमाई की

- मंगलवार को देश की सबसे बड़ी तेल कंपनी इंडियन ऑयल की तिमाही रिपोर्ट आई। जनवरी से मार्च 2018 के दौरान कंपनी का मुनाफा 40% बढ़ा है। यह 3,721 करोड़ से बढ़कर 5,218 करोड़ रुपए हो गया।

- तेल कंपनियों के मुनाफे की बड़ी वजह है इन्वेंट्री से लाभ। यानी सस्ते में खरीदा पुराना स्टॉक ज्यादा कीमत पर बेचने से आईओसीएल को तिमाही में 3,442 करोड़ रु. का लाभ हुआ।

जनता बेबस : डीलर को पेट्रोल 37.65 रुपए में मिलता है, हम तक आते-आते यह 48 फीसदी महंगा हो जाता है

डीलर को मिलने वाला रेट 37.65 रुपए
एक्साइज ड्यूटी 19.48 रुपए
वैट 16.41 रुपए
डीलर कमीशन 3.63 रुपए
जनता को मिलने वाला रेट 77.17 रुपए

- दिल्ली में पेट्रोल पर 27% और डीजल पर 17.27% वैट लगता है

- मुंबई में पेट्रोल पर 39.78% और डीजल पर 24.84% वैट लगता है

भारत में पेट्रोल-डीजल पांच पड़ोसी देशों से भी ज्यादा महंगा

देश पेट्रोल (रुपए/लीटर) डीजल (रुपए/लीटर)
श्रीलंका 63.77 46.96
पाकिस्तान 51.64 58.16
बांग्लादेश 71.69 52.36
भूटान 57.02 54.45
नेपाल 67.74 57.49

हल : केंद्र एक्साइज ड्यूटी घटाए और राज्य वैट घटाएं

- एक अधिकारी के मुताबिक, पेट्रोल-डीजल में लगातार तेजी ने सरकार के लिए मुश्किल खड़ी कर दी है। इसके लिए कदम उठाने होंगे। वित्त मंत्रालय और पेट्रोलियम मंत्रालय के बीच बातचीत चल रही है।
- अफसर ने कहा कि एक्साइज डयूटी में कटौती की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता, लेकिन ये पर्याप्त नहीं होगा। आगे और भी कदम उठाने होंगे। हालांकि, उन्होंने ये साफ नहीं किया कि क्या कदम उठाए जाएंगे। हर राज्य में वैट या स्थानीय टैक्स की वजह से पेट्रोल-डीजल के रेट अलग-अलग हैं।

Steps to deal with rising petrol diesel prices likely this week
Steps to deal with rising petrol diesel prices likely this week
X
Steps to deal with rising petrol diesel prices likely this week
Steps to deal with rising petrol diesel prices likely this week
Steps to deal with rising petrol diesel prices likely this week
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..