--Advertisement--

कर्नाटक के नतीजों के साथ मार्केट में उठा-पटक, 437 अंक की बढ़त गंवाकर 13 प्वाइंट नीचे बंद हुआ सेंसेक्स

डॉलर के मुकाबले रुपया 68 के नीचे फिसला, 16 महीने में सबसे निचला स्तर।

Dainik Bhaskar

May 18, 2018, 01:35 PM IST
कर्नाटक चुनाव के नतीजों से शेयर बाजार में मंगलवार को 450 अंक का उतार-चढ़ाव रहा।- फाइल कर्नाटक चुनाव के नतीजों से शेयर बाजार में मंगलवार को 450 अंक का उतार-चढ़ाव रहा।- फाइल

  • सेंसेक्स ने 29 जनवरी 2018 को 36,000 का स्तर पार किया था
  • रुपया लगातार 5वें सत्र में गिरा, 56 पैसे टूटकर 68.07 पर बंद

मुंबई. कर्नाटक चुनाव के नतीजों के दिन मंगलवार को शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव देखने को मिला। सेंसेक्स 13 अंक गिरकर 35,544 पर, वहीं निफ्टी 5 अंक नीचे 18,802 पर बंद हुआ। बाजार की फ्लैट शुरुआत हुई। सेंसेक्स 6 अंक नीचे 35537.85 पर खुला, वहीं निफ्टी ने 12 प्वाइंट ऊपर 10,812.60 पर कारोबार शुरू किया। कर्नाटक चुनाव के रुझानों में बीजेपी को बढ़त मिलने के साथ ही जोरदार तेजी आई। कारोबार के दौरान सेंसेक्स 437 अंक उछला और निफ्टी भी 123 अंक तक चढ़ा। बाद में बीजेपी के बहुमत से दूर रहने और कांग्रेस के जेडीएस को समर्थन के ऐलान के बाद बाजार में बिकवाली हावी हो गई और दिनभर की बढ़त गंवा दी।

सेंसेक्स में 450, निफ्टी में 128 अंक का उतार-चढ़ाव

इंडेक्स क्लोजिंग बदलाव उच्च स्तर निम्न स्तर पिछली क्लोजिंग
सेंसेक्स 35,543.94

-12.77

(-0.04%)

35993.53 35497.92 35556.71
निफ्टी 10801.85

-4.75

(-0.04%)

10,929.20 10,781.40 10,806.60

बाजार की 5 बड़ी बातें
1) सेंसेक्स 36,000 का स्तर छूने से सिर्फ 6 अंक पीछे रहा
2) निफ्टी ने 10,900 का स्तर पार किया
3) सेंसेक्स ऊपरी स्तरों से 450 अंक लुढ़का
4) निफ्टी ऊपरी स्तरों से 128 अंक फिसला
5) मजबूत बढ़त बनाने के बाद बाजार लाल निशान में बंद हुआ

डॉ. लाल पैथ लैब्स और हिंदुस्तान यूनिलीवर 52 हफ्ते के हाई पर पहुंचे
- सोमवार को दोनों कंपनियों ने तिमाही नतीजे जारी किए थे। चौथी तिमाही में डॉ. लाल पैथ लैब्स का कंसोलिडेटेड मुनाफा 27.21% बढ़कर 40.2 करोड़ रुपए हो गया। हिंदुस्तान यूनिलीवर का स्टैंडअलोन नेट प्रॉफिट 14.2% बढ़कर 1,351 करोड़ रुपए रहा। बेहतर नतीजों के बाद दोनों कंपनियों के शेयरों ने जोरदार तेजी दिखाई और 52 हफ्ते का उच्च स्तर पर छू लिया। बीएसई और एनएसई पर डॉ. लाल पैथ लैब्स 10% तेजी के साथ बंद हुआ।

कंपनी शेयर प्राइस बदलाव उच्च स्तर (52 हफ्ते का हाई) निम्न स्तर
डॉ. लाल पैथ लैब्स

(बीएसई)

887.20

(एनएसई)

892

(बीएसई)

81.10

(+10.06%)

(एनएसई)

84.90

(10.52%)

(बीएसई)

930.60

(एनएसई)

932.50

(बीएसई)

825.10

(एनएसई)

825

हिंदुस्तान यूनिलीवर

बीएसई

1516

एनएसई

1,516.20

बीएसई

+11.05

(+0.73%)

एनएसई

12.65 (0.84%)

बीएसई

1543.25

एनएसई

1,542.40

बीएसई

1512.50

एनएसई

1,510.50

पीएनबी का शेयर 6% टूटा, 52 हफ्ते के निचले स्तर पर पहुंचा

- पंजाब नेशनल बैंक को चौथी तिमाही में 13,416.91 करोड़ रुपए का घाटा हुआ, जो अब तक का सबसे बड़ा नुकसान है। नतीजे आते ही पीएनबी का शेयर 6 फीसदी गिर गया।

इंडेक्स पीएनबी शेयर प्राइस बदलाव उच्च स्तर निम्न स्तर (52 हफ्ते का निचला स्तर )
बीएसई 86

-3.40

(-3.80%)

91.45 83.80
एनएसई 83.85 -5.45 (-6.10%) 91.50 83.55

रुपया 68 के नीचे फिसला, 16 महीने के सबसे निचले स्तर पर पहुंचा

- डॉलर के मुकाबले रुपए की शुरुआत 17 पैसे की कमजोरी के साथ हुई। सोमवार के 67.51 के स्तर के मुकाबले रुपया 67.68 पर खुला और ट्रेड के दौरान लगातार कमजोरी बनी रही। इस दौरान रुपए ने कई बार 16 महीने का नया लो बनाया। डॉलर के मुकाबला रुपया 68.14 तक गिर गया और आखिर में 56 पैसे टूटकर 68.07 पर बंद हुआ, जो जनवरी 2017 के बाद सबसे निचला स्तर है।

रुपए में गिरावट की 3 वजह

1) इंपोर्टर्स और बैंकों की ओर से डॉलर की खरीदारी
2) ब्रेंट क्रू़ड 1.05% बढ़कर 79.05 डॉलर प्रति बैरल पहुंचा
3) कर्नाटक चुनाव के अस्थिर नतीजे और आखिरी घंटों में शेयर बाजार में गिरावट

गुजरात, हिमाचल के नतीजों के बाद सेंसेक्स 235 अंक उछला था
- 19 दिसंबर 2017 को गुजरात और हिमाचल प्रदेश चुनावों के नतीजों के बाद सेंसेक्स 235 अंक की बढ़त के साथ 33,837 पर बंद हुआ था। उस वक्त ये सेंसेक्स का 6 हफ्ते का सबसे उच्च स्तर रहा था। वहीं निफ्टी 74 प्वाइंट ऊपर 10,463 पर बंद हुआ।

निफ्टी 9,500 से 11,500 की रेंज में रह सकता है

- स्टॉक मार्केट एनालिस्ट सुनील मिगलानी के मुताबिक, ये देश के नहीं बल्कि एक राज्य के चुनाव हैं इसलिए लॉन्ग टर्म में बाजार पर ज्यादा असर नहीं डालेंगे। मार्केट की चाल आगे महंगाई दर और दूसरे इकोनॉमिक आंकड़ों के साथ ही अंतर्राष्ट्रीय संकेतों पर ही निर्भर करेगी। आने वाले दिनों में बाजार दायरे में रहेगा। निफ्टी 9,500 से 11,500 की रेंज में रह सकता है।

- जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के हेड इन्वेस्टमेंट स्ट्रेटेजिस्ट गौरांग शाह का कहना है कि बहुमत वाली सरकार आती है तो अच्छा कामकाज होने की उम्मीद बढ़ जाती है। देश में कोई ना कोई चुनाव होता रहता है, ऐसे में निवेशकों को चुनाव के हिसाब से रणनीति नहीं बदलनी चाहिए।

पीएसयू और इंफ्रा शेयरों में बिकवाली से बाजार पर दबाव बढ़ा।- फाइल पीएसयू और इंफ्रा शेयरों में बिकवाली से बाजार पर दबाव बढ़ा।- फाइल
X
कर्नाटक चुनाव के नतीजों से शेयर बाजार में मंगलवार को 450 अंक का उतार-चढ़ाव रहा।- फाइलकर्नाटक चुनाव के नतीजों से शेयर बाजार में मंगलवार को 450 अंक का उतार-चढ़ाव रहा।- फाइल
पीएसयू और इंफ्रा शेयरों में बिकवाली से बाजार पर दबाव बढ़ा।- फाइलपीएसयू और इंफ्रा शेयरों में बिकवाली से बाजार पर दबाव बढ़ा।- फाइल
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..