--Advertisement--

ट्रंप ने की कल्पना चावला की तारीफ, बताया अमेरिका की हीरो और लाखों लड़कियों की प्रेरणा

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:42 PM IST

2003 में कोलंबिया अंतरिक्ष यान आपदा में मारे गए सात यात्री दल सदस्यों में कल्पना चावला भी शामिल थीं।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि कल्पना चावला लाखों लड़कियों के लिए प्रेरणा हैं। -फाइल अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि कल्पना चावला लाखों लड़कियों के लिए प्रेरणा हैं। -फाइल

  • कल्पना चावला का जन्म हरियाणा के करनाल में हुआ था। चार भाई-बहनों में वह सबसे छोटी थीं।
  • 1 फरवरी 2003 को कोलंबिया शटल हादसे में कल्पना समेत 7 अंतरिक्ष यात्रियों की मौत हुई थी।

वॉशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भारतीय मूल की अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला की जमकर तारीफ की। नासा के स्पेस प्रोग्राम के लिए अपना जीवन समर्पित करने वाली कल्पना को ट्रम्प ने अमेरिकी हीरो बताया। उन्होंने कहा कि वह अंतरिक्ष में जाने वाली पहली भारतीय महिला थीं। उन्होंने लाखों लड़कियों को अंतरिक्ष यात्री बनने के लिए प्रेरित किया है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने मंगलवार को मई महीने को 'एशियाई अमेरिकी और प्रशांत द्वीपसमूह विरासत माह' घोषित करने का निर्देश जारी किया। इसी मौके पर उन्होंने कल्पना चावला के योगदान को याद किया।

अमेरिका में अच्छा काम करने वालों की कद्र

- राष्ट्रपति ट्रम्प ने कहा, ''अमेरिका ऐसा देश है जो मेहनती, ईमानदार और जीवन के आदर्शों के लिए प्रतिबद्ध लोगों की कद्र करता है। अमेरिका को कल्पना से देश प्रेम और काम के प्रति समर्पण के चलते सामाजिक बदलाव और नए विचार मिले। उनके साहस और जुनून ने लाखों लड़कियों को अंतरिक्ष यात्री बनने के लिए प्रेरित किया।''
- ''इसी वजह से अमेरिका हिंद-प्रशांत क्षेत्र के संबंधों की सराहना करता है। एशियाई अमेरिकी और प्रशांत द्वीपसमूह विरासत के लिए अमेरिकी इन संबंधों को बढ़ावा देने के लिए मददगार रहे हैं। इससे इन्हें और ज्यादा मजबूती मिली है।''

कल्पना को मरणोपरांत कई अवॉर्ड मिले

- ट्रम्प ने कहा कि कल्पना चावला को उनकी उपलब्धियों के लिए अमेरिकी कांग्रेस ने मरणोपरांत कांग्रेशनल अंतरिक्ष पदक से सम्मानित किया था। नासा ने उन्हें स्पेस फ्लाइट पदक और नासा विशिष्ट सेवा पदक दिया।
- भारतीय अमेरिकी कल्पना चावला अंतरिक्ष में जाने वाली भारतीय मूल की पहली महिला थीं। अंतरिक्ष शटल कार्यक्रम के प्रति अपने समर्पण के चलते वे अमेरिकी हीरो बन गईं।

हरियाणा में हुआ था कल्पना का जन्म

- बता दें कि कल्पना चावला का जन्म हरियाणा के करनाल में 7 मार्च 1962 को हुआ था। अपने चार भाई-बहनों में वह सबसे छोटी थीं।
- कल्पना ने पंजाब इंजीनियरिंग कॉलेज से ऐरोनॉटिक्स की डिग्री ली। इसके बाद 1984 में आगे पढ़ाई के लिए अमेरिका चली गईं।
- 1995 में कल्पना नासा में अंतरिक्ष यात्री के तौर पर शामिल हुईं और 1998 में उन्हें पहली उड़ान के लिए चुना गया। 2003 में नासा के कोलंबिया स्पेस शटल मिशन में शामिल हुईं। यह उनकी दूसरी उड़ान थी।
- कोलंबिया शटल 1 फरवरी 2003 को हादसे का शिकार हो गया था। इसमें कल्पना समेत 7 अंतरिक्ष यात्रियों की मौत हुई थी।

1998 में नासा ने कल्पना चावला को उनकी पहली उड़ान के लिए चुना था। -फाइल 1998 में नासा ने कल्पना चावला को उनकी पहली उड़ान के लिए चुना था। -फाइल
X
अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि कल्पना चावला लाखों लड़कियों के लिए प्रेरणा हैं। -फाइलअमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि कल्पना चावला लाखों लड़कियों के लिए प्रेरणा हैं। -फाइल
1998 में नासा ने कल्पना चावला को उनकी पहली उड़ान के लिए चुना था। -फाइल1998 में नासा ने कल्पना चावला को उनकी पहली उड़ान के लिए चुना था। -फाइल
Astrology

Recommended

Click to listen..