--Advertisement--

सी प्लेन के लिए वॉटर एयरोड्रम बनाने के प्रस्ताव को मंजूरी, पहले चरण में गुजरात और ओडिशा को मिलेगी सुविधा

स्पाईस जेट ने अक्टूबर 2017 में जापान की कंपनी से 100 एम्फीबियन प्लेन खरीदने के लिए डील भी की थी

Dainik Bhaskar

Aug 11, 2018, 08:51 PM IST
सी प्लेन की सुविधा से पर्यटन क सी प्लेन की सुविधा से पर्यटन क

- स्पाइस जेट ने इसी साल जापान की कंपनी से 100 एम्फीबियन प्लेन खरीदने का समझौता किया

- डीजीसीए ने 5 राज्यों में वॉटर एयरोड्रम बनाने के लिए जगहों का चयन किया

नई दिल्ली. नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने देश में सी प्लेन के लिए वॉटर एयरोड्रम बनाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी है। पहले फेज में 3 जगहों को चयनित किया गया। इनमें ओडिशा की चिल्का झील और गुजरात में सरदार सरोवर बांध और साबरमती नदी शामिल हैं।

उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने इस शुक्रवार को इस प्रस्ताव पर मुहर लगाई। उन्होंने ट्वीट किया, " देश के विभिन्न हिस्सों में वॉटर एयरोड्रम बनाने की मंजूरी दे दी गई। इससे पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। लोगों की कनेक्टिविटी भी अच्छी होगी।" उन्होंने बताया कि डीजीसीए जून में वॉटर एयरोड्रम बनाने और इससे संबधित लाइसेंस की प्रक्रिया को लेकर नियम जारी कर चुका है।

पहले 6 महीने के लिए जारी होंगे लाइसेंस : डायरेक्टर जनरल ऑफ सिविल एविएशन (डीजीसीए) ने ओडिशा, गुजरात, महाराष्ट्र, असम और आंध्र प्रदेश में उन जगहों का चयन किया है, जहां वॉटर एयरोड्रम बनाए जाने हैं। डीजीसीए ने कहा कि वॉटर एयरोड्रम बनाने का प्रस्ताव पेश करने वाले को रक्षा, गृह, पर्यावरण, वन मंत्रालयों से मंजूरी लेनी होगी। लाइसेंस दो साल के लिए वैध होगा। शुरुआत में 6 महीने के लिए प्रोविजनल लाइसेंस जारी किए जाएंगे। इस दौरान एयरोड्रम संचालन का निरीक्षण किया जाएगा। इस अवधि के बाद रेगुलर लाइसेंस जारी किया जाएगा।

X
सी प्लेन की सुविधा से पर्यटन कसी प्लेन की सुविधा से पर्यटन क
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..