देश

--Advertisement--

दुनिया के 20 सबसे प्रदूषित शहरों में 14 भारत के, डब्ल्यूएचओ की लिस्ट में कानपुर टॉप पर

डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, दुनिया भर के 10 में से 9 लोग सांस में हवा के साथ बड़ी मात्रा में प्रदूषित पदार्थों को ले रहे हैं।

Dainik Bhaskar

May 02, 2018, 08:18 PM IST
who says 14 out of world 20 most polluted cities in India

  • घरेलू और बाहरी प्रदूषण से भारत में हर साल 24 लाख लोगों की मौत होती है
  • वायु प्रदूषण से मरने वाले 90 फीसदी लोग कम और मध्यम आय वाले देशों के

नई दिल्ली. उत्तर प्रदेश का कानपुर शहर दुनिया का सबसे प्रदूषित शहर है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने बुधवार को दुनिया के 20 सबसे प्रदूषित शहरों की लिस्ट जारी की। इनमें दिल्ली और बनारस समेत भारत के 14 शहर शामिल हैं। डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, दुनियाभर के 10 में से 9 लोग सांस लेते वक्त हवा के साथ बड़ी मात्रा में प्रदूषित पदार्थों को ले रहे हैैं।

ये शहर सबसे ज्यादा प्रदूषित

- पीएम 2.5 स्तर पर 2016 में सबसे प्रदूषित शहरों में कानपुर, फरीदाबाद, गया, पटना, आगरा, दिल्ली, बनारस, मुजफ्फरपुर, श्रीनगर, गुड़गांव, जयपुर, पटियाला, जोधपुर, अलीसुबह अल सलेम (कुबैत) समेत चीन और मंगोलिया के कुछ शहरों को शामिल किया गया है।

- पीएम 10 स्तर पर 2016 में दुनिया के 20 शहरों में भारत के 13 शहर सबसे प्रदूषित हैं।

दुनियाभर की 34% मौतें भारत में

- घरेलू और बाहरी प्रदूषण से भारत में हर साल 24 लाख लोगों की मौत होती है। जो दुनियाभर में कुल मौतों 70 लाख का 34% है।

- डब्ल्यूएचओ ने साउथ-ईस्ट एशिया के अपने सदस्य देशों से हवा के प्रदूषण से निपटने के लिए प्रभावी कदम उठाने को कहा है।

108 देशों के 4300 शहरों का डेटा जुटाया गया

- डब्ल्यूएचओ की ग्लोबल अर्बन एयर पॉल्यूशन ने 108 देशों के 4300 शहरों से पीएम 10 और पीएम 2.5 के महीन कणों का डेटा तैयार किया। इसके मुताबिक, 2016 में वायु प्रदूषण से 42 लाख लोगों की मौत हुई है। वहीं, खाना बनाने, फ्यूल और घरेलू उपकरणों से फैलने वाले प्रदूषण से 38 लाख लोगों की मौत हुई।
- 2016 से डब्ल्यूएचओ ने इसमें 1000 ज्यादा शहरों को शामिल किया है। जिससे कि ज्यादा देश वायु प्रदूषण को कम करने के लिए कदम उठाएं।

कम और मध्यम आय वाले देशों में 90% लोगों की मौत

- डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, दुनियाभर में हर साल 70 लाख लोग हवा में महीन कणों की वजह से फेफड़ों के रोग, हृदय रोग, कैंसर, श्वसन संक्रमण, निमोनिया फैलने से मर जाते हैं।

- रिपोर्ट के मुताबिक, वायु प्रदूषण से मरने वाले 90% लोग कम और मध्यम आय वाले देशों से हैं। जिनमें भारत समेत एशिया, अफ्रीका, यूरोप और अमेरिका के कुछ देश शामिल हैं।

40% आबादी के पास कुकिंग फ्यूल साफ करने की तकनीक नहीं

- रिपोर्ट के मुताबिक, दुनिया की कुल आबादी में 40% के पास कुकिंग फ्यूल साफ करने की तकनीक तक नहीं है। यह घरों से फैलने वाले प्रदूषण का मुख्य कारण है।

डब्ल्यूएचओ ने उज्जवला योजना की तारीफ की

- डब्ल्यूएचओ ने मोदी सरकार की उज्जवला योजना की तारीफ की। डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, भारत सरकार प्रदूषण से निपटने के लिए सार्थक प्रयास कर रही है। प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत 2 साल में 3 करोड़ 70 लाख गरीब महिलाओं को फ्री गैस कनेक्शन दिए गए। जिससे घरों से निकलने वाले प्रदूषण से बचा जा सके।

- बता दें कि भारत सरकार ने 2020 तक 8 करोड़ महिलाओं को फ्री एलपीजी गैस कनेक्शन देने की योजना बनाई है।

घरेलू और बाहरी प्रदूषण से भारत में हर साल 2.4 लाख लोगों की मौत होती है। जो दुनिया भर में कुल मौतों 7 लाख का 34 फीसदी है। -फाइल घरेलू और बाहरी प्रदूषण से भारत में हर साल 2.4 लाख लोगों की मौत होती है। जो दुनिया भर में कुल मौतों 7 लाख का 34 फीसदी है। -फाइल
पीएम 10 स्तर पर 2016 में दुनिया के 20 शहरों में भारत के 13 शहर सबसे प्रदूषित हैं। -फाइल पीएम 10 स्तर पर 2016 में दुनिया के 20 शहरों में भारत के 13 शहर सबसे प्रदूषित हैं। -फाइल
X
who says 14 out of world 20 most polluted cities in India
घरेलू और बाहरी प्रदूषण से भारत में हर साल 2.4 लाख लोगों की मौत होती है। जो दुनिया भर में कुल मौतों 7 लाख का 34 फीसदी है। -फाइलघरेलू और बाहरी प्रदूषण से भारत में हर साल 2.4 लाख लोगों की मौत होती है। जो दुनिया भर में कुल मौतों 7 लाख का 34 फीसदी है। -फाइल
पीएम 10 स्तर पर 2016 में दुनिया के 20 शहरों में भारत के 13 शहर सबसे प्रदूषित हैं। -फाइलपीएम 10 स्तर पर 2016 में दुनिया के 20 शहरों में भारत के 13 शहर सबसे प्रदूषित हैं। -फाइल
Click to listen..