पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सात स्कूलों ने पौधरोपण को मार्क्स से जोड़ा, पौधे की ग्रोथ पर रिजल्ट में एक्स्ट्रा 20 नंबर मिलेंगे

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • रायपुर के 7 स्कूलों में अर्थ वॉरियर का सर्टिफिकेट और बैच भी मिलेगा
  • एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक ह्यूमन राइट्स ने शुरू किया प्रोजेक्ट नर्चर नेचर
  • 3 से 10वीं तक के छात्रों को 10 पौधे बांटने का लक्ष्य, पहले कार्यक्रम में 15 पौधे बांटे

रायपुर (अनुराग सिंह). शहर के 7 प्राइवेट स्कूलों में स्टूडेंट्स को पौधरोपण करने पर 20 मार्क्स दिए जाएंगे। राज्य का सेव नेचर(प्रकृति संरक्षण) की ओर किया जाने वाला यह अपनी तरह का पहला और अनोखा काम है, जिसमें पौधरोपण को मार्क्स के साथ जोड़ा जा रहा है। स्टूडेंट्स को पर्यावरण से जोड़ने, उसकी प्रति रिस्पांसिबिलिटी समझाने और अवेयरनेस लाने के लिए एसोसिएशन ऑफ डेमोक्रेटिक ह्यूमन राइट्स ने शहर के 7 स्कूलों के साथ मिलकर ये पहल शुरू की है।
 
नर्चर नेचर प्रोजेक्ट के तहत इन सभी स्कूलों के तीसरी से 10वीं तक के स्टूडेंट्स को 6 हजार पौधे डिस्ट्रीब्यूट किए जाएंगे। पूरे एक साल तक यदि पौधे सही रहते है तो स्टूडेंट्स को फाइनल रिजल्ट में पौधे के ग्रोथ के अनुसार 20 नंबर प्रोजेकट वर्क में एक्स्ट्रा दिए जाएंगे। विद्यार्थियों को अर्थ वॉरियर की उपाधि भी दी जाएगी। 

1) पौधे की देखभाल सिखाने प्रोग्राम ऑर्गनाइज किए जा रहे हैं

इसके लिए सभी स्कूलों में पहले प्रोग्राम ऑर्गनाइज किए जा रहे है, जहां स्टूडेंट्स को पौधा की देखरेख, लगाने की टेक्निक, सिक्योरिटी जैसी बातें बतलाई जाएंगी और लोगों को पौधा लगाने और सेव ट्री के लिए अवेयर करने को कहा जाएगा। पहला प्रोग्राम बुधवार को महर्षि विद्या मंदिर में हुआ, जहां स्टूडेंट्स को 15 सौ पौधे दिए गए।

एसोसिएशन के स्टेट प्रेसिडेंट पंकज चोपड़ा ने बताया कि एक रिसर्च के अनुसार देश में पर्यावरण को बैलेंस करने के लिए लगभग 14 हजार करोड़ पेड़ की जरूरत है। पेड़ से ही हम प्रकृति को बचा सकते है। यदि हम बच्चों को पर्यावरण से जोड़ दें, तो वे इसे अच्छे से समझेंगे और उसपर काम भी करेंगे। यह काम आने वाले जनरेशन के लिए है।

बच्चों को जो पौधा दिया जाएगा उसे उन्हें अपने घर के पास लगाना होगा और 1 साल तक उसकी देखरेख करनी होगी। इसमें हर महीने बच्चों को पौधे के साथ सेल्फी लेकर स्कूल को भेजनी होगी। फिर स्कूल से फोटो एसोसिएशन लेगी। इसके दो महीने बाद स्टूडेंट्स को अर्थ वॉरियर का सर्टिफिकेट दिया जाएगा। इस प्रोजेक्ट में एक साल तक बच्चा पौधे से जुड़ा रहेगा, जिससे उनमें इमोशन, केयरिंग, सिक्योरिटी भी आएगी। एक साल बाद सर्टिफिकेट दिया जाएगा। 

जिस प्रकार प्रोग्राम प्रकृति के लिए है वैसे ही इसमें किसी भी प्रकार के प्रकृति के दोहन से बचा गया है। कागज बनाने के लिए पेड़ों उपयोग होता है, इसलिए सर्टिफिकेट भी डिजिटल बनाए गए है। स्टूडेंट्स को दिए जाने वाला अर्थ वॉरियर का सर्टिफिकेट डिजिटल दिया जाएगा। वहीं प्रोग्राम की पोस्टर भी डिजीटल रखी गई है। ताकि प्रोग्राम में सेव नेचर की थीम बरकरार रहे।

ये हैं 7 स्कूल 

  • स्कूलों में महर्षि विद्या मंदिर
  • ग्रेट इंडिया पब्लिक स्कूल
  • होली हार्ट्स एकेडमी
  • होली हार्ट स्कूल
  • जैन पब्लिक स्कूल
  • वर्धमान स्कूल
  • आरंभ स्कूल
खबरें और भी हैं...