तारीफ / पेड़ पर चढ़ने वाली बाइक में आनंद महिंद्रा ने दिखाई दिलचस्पी, कहा- बेहतरीन डिजाइन



anand mahindra praise in a bike that helps in climbing arecanut tree
X
anand mahindra praise in a bike that helps in climbing arecanut tree

  • आनंद महिंद्रा ने लिखा- गणपति की बाइक प्रभावी और इसका वजन भी कम है
  • सुपारी और नारियल के पेड़ों पर किसान को चढ़ने में वक्त लगता था और मुश्किल होती थी
  • गणपति ने इसे चुनौती माना, उनकी बाइक से महज 30 सेकंड में पेड़ के ऊपरी हिस्से पर पहुंचा जा सकता है

Dainik Bhaskar

Jun 19, 2019, 02:23 PM IST

मुंबई. महिंद्रा एंड महिंद्रा ग्रुप के चेयरमैन आनंद महिंद्रा ने कर्नाटक के किसान गणपति भट्‌ट के बाइक इनोवेशन की तारीफ की। इस बाइक की मदद से नारियल और सुपारी के पेड़ पर चंद सेकंड में चढ़ा जा सकता है। आनंद ने ट्वीट में कहा, "यह कितनी कूल है। यह डिवाइस न केवल प्रभावी है, बल्कि बेहतरीन तरीके से डिजाइन भी की गई है।" गणपति की इनोवेटिव बाइक का वजन महज 28 किलो है। दावा है कि बाइक 60 से 80 प्रति घंटा की रफ्तार से पेड़ों पर चढ़ सकती है। औसतन एक लीटर पेट्रोल में इस बाइक से 80 पेड़ पर चढ़ा जा सकता है। 

 

आनंद महिंद्रा ने अपनी कंपनी के एक अफसर को टैग कर कहा कि इस डिवाइस की पड़ताल करें और देखें कि क्या हम इसे अपने फार्म सॉल्यूशन पोर्टफोलियो के तहत बेच सकते हैं?

 

नारियल और सुपारी के पेड़ों पर चढ़ना होता है मुश्किल

यह मशीन 80 किलो वजन लेकर पेड़ पर चढ़ सकती है। दरअसल, बरसात के दिनों में सुपारी और नारियल के पेड़ों में कीड़े लगने की आशंका बढ़ जाती है। ऐसे में पेड़ों पर कीटनाशक का छिड़काव करना पड़ता है। कीटनाशक लेकर इन लंबे पेड़ों पर चढ़ना जटिल और बहुत मेहनत का काम होता है। इससे किसान सुपारी और नारियल की खेती करने से बचते हैं। किसान गणपति ने इसे एक चुनौती के रूप में लिया और इसे बनाया। इस बाइक पर बैठकर महज 30 सेकंड में सीधे पेड़ पर पहुंचा जा सकता है। अभी तक किसानों को पेड़ पर चढ़ने में करीब 10 से 20 मिनट लगते थे। गणपति बताते हैं कि जैसे-जैसे किसानों को जानकारी मिल रही है। वे मुझसे संपर्क कर इसे खरीदने की कोशिश कर रहे हैं।

COMMENT