गुजरात / कंडक्टर को 9 रुपए लेकर टिकट न देना महंगा पड़ा, 15 लाख रुपए का नुकसान



प्रतीकात्मक फोटो। प्रतीकात्मक फोटो।
X
प्रतीकात्मक फोटो।प्रतीकात्मक फोटो।

  • यह मामला 2003 का है, कंडक्टर चंद्रकांत पटेल के खिलाफ विभागीय जांच हुई थी 
  • सजा के तौर पर विभाग ने उसके पे-स्केल को कम कर दिया 

Dainik Bhaskar

Jul 29, 2019, 07:18 PM IST

अहमदाबाद. गुजरात राज्य सड़क परिवहन निगम की एक बस के कंडक्टर को यात्री से 9 रुपए के बदले टिकट न देना महंगा पड़ा। करीब 16 साल बाद उसे दोषी पाया गया है। इसके अलावा, उसे सैलरी में 15 लाख रुपए का नुकसान उठाना पड़ेगा।

 

यह मामला  2003 में सामने आया था। 5 जुलाई 2003 को अचानक निरीक्षण के दौरान कंडक्टर चंद्रकांत पटेल की बस में एक यात्री बिना टिकट पाया गया। यात्री ने चेकिंग करने पहुंचे अफसरों को बताया उसने पैसे दिए हैं, लेकिन कंडक्टर ने टिकट नहीं दी। इसके बाद कंडक्टर पटेल के खिलाफ विभागीय जांच बैठा दी गई। 

 

 

जांच के लिए कमेटी बनाई गई

 

  • कंडक्टर चंद्रकांत पटेल के खिलाफ शिकायत मिलने पर गुजरात राज्य सड़क परिवहन निगम ने जांच कमेटी बनाई। कमेटी ने चंद्रकांत को दोषी पाया। इसके बाद निगम ने पटेल को सजा देते हुए उनके मौजूदा वेतनमान को दो स्टेज घटा दिया है। ऐसे में उनका पे- स्केल अब काफी नीचे चला गया है।
  • इतना ही नहीं निगम ने यह भी कहा कि अब वह एक निर्धारित वेतन पर अपनी बाकी सर्विस पूरी करेगा। सजा के खिलाफ पटेल ने हाई कोर्ट में अपील की। उनकी सजा को बरकरार रखा गया। 
  • ऐसा बताया गया कि पटेल पहले भी ऐसी ही गलती कर चुके थे। अफसरों ने उन्हें चेतावनी देकर छोड़ दिया था।

DBApp

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना