अफगानिस्तान / पिता 3 बेटियों को रोज स्कूल पढ़ाने के लिए 12 किमी यात्रा करता है, लोगों ने कहा- असली हीरो

मियां खान अपनी बेटी के साथ। मियां खान अपनी बेटी के साथ।
X
मियां खान अपनी बेटी के साथ।मियां खान अपनी बेटी के साथ।

  • मिया खान की कहानी एनजीओ स्वीडिश कमेटी फॉर अफगानिस्तान ने सोशल मीडिया पर शेयर की
  • वे रोज अपनी बेटियों को नूरिनियां स्कूल पहुंचाने के बाद घर लाने के लिए वहीं चार घंटे इंतजार करते हैं

Dainik Bhaskar

Dec 06, 2019, 04:34 PM IST

काबुल. अफगानिस्तान में लड़कियों और महिलाओं को लेकर सोच बदल रही है। इसका उदाहरण मिया खान हैं। वे अपनी बेटियों को पढ़ाने के लिए रोज 12 किमी दूर स्कूल तक ले जाते हैं। इसके बाद जब तक उसकी क्लास चलती है। वे वहीं चार घंटे उनका इंतजार करते हैं। जब स्कूल का वक्त खत्म होता है वापस उन्हें लेकर घर आते हैं। एनजीओ स्वीडिश कमेटी फॉर अफगानिस्तान के मुताबिक, मिया खान रोज बाइक से अपनी तीन बेटियों को नूरिनियां स्कूल ले जाते हैं।

इस एनजीओ ने मिया की कहानी को सोशल मीडिया पर शेयर किया। मिया अपने परिवार के साथ अफगानिस्तान के शाराना में रहते हैं। इसके बाद लोग मिया के इस फैसले की तारीफ की। उन्होंने बताया, "मैं निरक्षर हूं। मैं मजदूरी कर अपने परिवार का पेट पालता हूं। मेरी बेटियों की शिक्षा इसलिए जरूरी है, क्योंकि हमारे इलाके में कोई महिला डॉक्टर नहीं है। यही वजह है कि मैं चाहता हूं कि वे पढ़ें और आगे बढ़ें।"

बेटी ने कहा- मैं खुश हूं

उनकी तीन बेटियों में से एक रोजी ने एनजीओ स्वीडिश कमेटी फॉर अफगानिस्तान को बताया कि मैं खुश हूं कि मैं पढ़ने में सक्षम हूं। अभी मैं कक्षा 6 में पढ़ रही हूं। मेरे पिता हमें रोज मोटरसाइकिल से घर से स्कूल और स्कूल से घर ले जाते हैं। कभी-कभी भाई भी इस काम में मदद करते हैं।" एनजीओ स्वीडिश कमेटी फॉर अफगानिस्तान की पोस्ट की लोग तारीफ कर रहे हैं। एक यूजर ने लिखा, ऐसे पिता पर गर्व है....सच में वह हीरो हैं। मैं इनका सम्मान करता हूं।"

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना