• Hindi News
  • Interesting
  • For the first time in the state, the sewer will be cleaned by a robot in Surat city, in this work 20 people died in 5 years

गुजरात / राज्य में पहली बार सूरत शहर में रोबोट से होगी सीवर की सफाई, यहां इस काम में 5 साल में 20 लोगों की जान गई

रोबोट में स्पाइडर वेब से जुड़ा एक बाल्टी सिस्टम है जो सीवर से गंदगी निकालता है। रोबोट में स्पाइडर वेब से जुड़ा एक बाल्टी सिस्टम है जो सीवर से गंदगी निकालता है।
X
रोबोट में स्पाइडर वेब से जुड़ा एक बाल्टी सिस्टम है जो सीवर से गंदगी निकालता है।रोबोट में स्पाइडर वेब से जुड़ा एक बाल्टी सिस्टम है जो सीवर से गंदगी निकालता है।

  • 40 लाख रुपए खर्च की लागत वाला बैंडिकूट रोबोट सीवर में जहरीली गैस होने पर अलर्ट करेगा
  • सूरत महानगर पंचाचत ने रोबोट को केरल से मंगवाया है, इसमें वाई-फाई और ब्लूटूथ से कंट्रोल की भी सुविधा है

दैनिक भास्कर

Feb 14, 2020, 04:06 PM IST

सूरत. सूरत राज्य की ऐसी पहली महानगर पंचाचत बन गई है जो रोबोट से सीवर की सफाई कराएगी। इसके लिए मनपा ने केरल से 40 लाख रुपए खर्च कर बैंडिकूट रोबोटिक मशीन मंगाई है। इससे अब सीवर की सफाई करते समय सफाईकर्मियों की जान नहीं जाएगी। पिछले तीन वर्षों में 5 और पांच वर्षों में 20 लोग सीवर की सफाई करते समय जान गंवा चुके हैं। 

चार महीने पहले रोबोटिक मशीन के प्रस्ताव पर चर्चा होने के बाद अधिकारियों की एक टीम ने इस मशीन का ट्रायल देखा था। उसके बाद इसे खरीदने का निर्णय लिया गया। सफाई कर्मचारी यूनियन से किरीट वाघेला ने बताया कि पिछले पांच साल में 20 से ज्यादा सफाई कर्मचारी कार्य करते समय मारे गए। इनमें से अधिकांश की जान सीवर की जहरीली गैस ने ले ली।

रोबोट के कैमरे सीवर के अंदर की स्थिति दिखाएंगे
मनपा गटर समिति के अध्यक्ष अमित सिंह राजपूत ने बताया, रोबोट वाटर प्रूफ है। इसे चलाने की ट्रेनिंग ठेकेदार कंपनी देगी। इसकी एक वर्ष की वारंटी है। यह कॉन्ट्रेक्ट में शामिल होगा। फिलहाल मनपा वर्तमान में 114 से ज्यादा मशीनों का इस्तेमाल सीवर साफ करने के लिए इस्तेमाल कर रही है। अगर सीवर में जहरीली गैस होगी तो यह मशीन बंद हो जाएगी। इससे लोग सतर्क हो जाएंगे।

बैंडिकूट रोबोट में लगे हैं वाई-फाई और ब्लूटूथ
रोबोट ‘बैंडिकूट’ को बनाने में 7 से 8 महीने लगे। इसके कंट्रोल पैनल के चार भाग हैं। स्पाइडर वेब से जुड़ा एक बाल्टी सिस्टम है जो सीवर से गंदगी निकालता है। इसमें वाई-फाई और ब्लूटूथ से कंट्रोल की भी सुविधा है। अभी सारे कमांड अंग्रेजी में हैं, जिसे स्थानीय भाषा में बदला जा सकता है। हादसों की आशंका न रहे, इसलिए इसमें भारी इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की बजाय न्युमेटिक्स (गैस और हवा का दबाव) इस्तेमाल होगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना