मुंबई / 219 साल में पहली बार सिद्धिविनायक मंदिर को दान में 35 किलो सोना मिला, कीमत 14 करोड़ रुपए

सिद्धि विनायक मंदिर का निर्माण 19 नवंबर 1801 में किया गया था। सिद्धि विनायक मंदिर का निर्माण 19 नवंबर 1801 में किया गया था।
X
सिद्धि विनायक मंदिर का निर्माण 19 नवंबर 1801 में किया गया था।सिद्धि विनायक मंदिर का निर्माण 19 नवंबर 1801 में किया गया था।

  • 15-19 जनवरी तक मंदिर बंद रहने के दौरान दान मिला, दरवाजे, छत और गुंबद में इस्तेमाल होगा
  • 19 नवंबर 1801 में मंदिर का निर्माण हुआ था, तब से लेकर अब तक का यह सबसे बड़ा दान

Dainik Bhaskar

Jan 21, 2020, 04:50 PM IST

मुंबई.  दिल्ली के एक श्रद्धालु ने मुंबई के सिद्धिविनायक मंदिर को 35 किलो सोना दान में दिया। इसकी कीमत 14 करोड़ रुपए है। मंदिर के 219 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है। मंदिर प्रबंधन के अधिकारियों के मुताबिक, सिद्धिविनायक मंदिर सिंदूर लेपन के लिए 4 दिनों (15 जनवरी से 19 जनवरी तक प्राण प्रतिष्ठा के लिए) तक बंद था। 

सिद्धिविनायक मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष आदेश बांदेकर ने सोमवार को बताया, दान में मिले इस सोने का इस्तेमाल मंदिर के दरवाजे, छत और गुंबद में किया गया। बांदेकर ने दान दाता के नाम का खुलासा नहीं किया है।

2 साल में 730 करोड़ का दान मिला
बांदेकर ने बताया 2017 में मंदिर को कुल 320 करोड़ रुपए का दान मिला। वहीं, 2019 में यह दान की रकम बढ़कर 410 करोड़ रुपए हो गई। दान में मिली इस रकम का बड़ा हिस्सा जरूरतमंदों की मदद के लिए किया जाता है। मंदिर प्रबंधन की ओर से 25000 रुपए तक की मदद कैश के रूप में की जाती है। सिद्धी विनायक मंदिर का निर्माण 19 नवंबर 1801 में किया गया था, तब यह बहुत छोटा था।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना