--Advertisement--

पुर्तगाल / सरकार ने पाली बकरियां, घास खाएंगी ताकि गर्मियों में जंगलों में आग लगने से रोका जा सके



हाल ही में फर्नांडो मोरा नामक किसान से 370 बकरियां ली हैं। (फाइल) हाल ही में फर्नांडो मोरा नामक किसान से 370 बकरियां ली हैं। (फाइल)
अफसरों को उम्मीद है कि बकरियों के घास खाने से आग एक से दूसरी रेंज में नहीं पहुंचेगी। (फाइल) अफसरों को उम्मीद है कि बकरियों के घास खाने से आग एक से दूसरी रेंज में नहीं पहुंचेगी। (फाइल)
X
हाल ही में फर्नांडो मोरा नामक किसान से 370 बकरियां ली हैं। (फाइल)हाल ही में फर्नांडो मोरा नामक किसान से 370 बकरियां ली हैं। (फाइल)
अफसरों को उम्मीद है कि बकरियों के घास खाने से आग एक से दूसरी रेंज में नहीं पहुंचेगी। (फाइल)अफसरों को उम्मीद है कि बकरियों के घास खाने से आग एक से दूसरी रेंज में नहीं पहुंचेगी। (फाइल)
  • पिछले साल जंगलों में लगी आग से पुर्तगाल में 100 लोगों की मौत हो गई थी
  • अाग बुझाने के लिए सरकार को करनी पड़ती है दमकल-सैन्यकर्मियों के बड़े अमले की तैनाती

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2018, 11:56 AM IST

लिस्बन. पुर्तगाल में गर्मी के सीजन में जंगल में आग लगना बड़ी समस्या है। कई बार पहाड़ के एक हिस्से में लगी आग तिनकों के जरिए जंगल के बड़े इलाके में फैल जाती है। आग को फैलने से रोकने के लिए सरकार किसानों से बकरियां किराए पर ले रही है ताकि वे मैदानों की घास खाएं और जंगलों तक आग पहुंचे ही नहीं। आग रोकने का सरकार का यह तरीका प्राकृतिक और सस्ता बताया जा रहा है।

पहाड़ों पर आग बुझाने में लाखों खर्च होते हैं

  1. पुर्तगाल की पहाड़ियों पर गर्मियों में तापमान बढ़ने पर आग लग जाती है। इस पर काबू पाने के लिए सरकार को सैकड़ों दमकलकर्मियों, सैनिकों और कई विमानों की तैनाती करनी पड़ती है।

  2. पिछले साल जंगलों में लगी आग के चलते 100 लोगों की मौत हो गई थी। दमकलकर्मियों ने इसकी वजह सरकारी अफसरों के साथ कोआर्डिनेशन की कमी बताई थी।  

  3. पायलट प्रोजेक्ट के तहत सरकार ने हाल ही में फर्नांडो मोरा किसान की 370 बकरियां किराए से ली हैं। इन बकरियों को पहाड़ियों पर घास खाने के काम में लगाया गया है। अफसरों को उम्मीद है कि इससे आग एक से दूसरी रेंज में नहीं पहुंचेगी।

  4. किसान मोरा का कहना है- आग फैलने से रोकने के लिए सरकार ने आज जो कदम उठाए हैं, वो पहले कभी नहीं उठाए गए। घास खाने के लिए हम हजारों जानवर लगा सकते हैं। देश में सैकड़ों चरवाहे हैं जिनके पास कई पशु हैं।

  5. घास खिलाने के काम में लगे 40 चरवाहे

    अगले पांच सालों तक मोरा का एक ही काम होगा- 123 एकड़ में फैले सेरा द एस्ट्रेला रेंज में फैली घास को बकरियों को खिलाना। पहाड़ों से घास साफ कराने के काम में 40 चरवाहे लगे हुए हैं।

  6. एक अफसर का कहना है कि नतीजा जल्द ही नजर आने लगेगा। लेकिन काम का पूरा आंकलन पांच साल बाद ही सामने आएगा। पहाड़ी ढलान, दूरदराज स्थित इलाकों में बुल्डोजर के बजाय बकरियां ज्यादा कारगर होंगी।

  7. अफसरों ने यह भी बताया कि चरवाहों को इस काम के लिए इसलिए भी चुना गया है क्योंकि उन्हें घास वाली जगहों की अच्छी जानकारी है। एक हेक्टेयर की घास खिलाने पर चरवाहे को पहले साल 125 यूरो (करीब 10,700 रु.) मिलेंगे। इसके बाद हर साल एक हेक्टेयर घास चरवाने के 25 यूरो मिलेंगे। 

  8. पुर्तगाल के पहाड़ी इलाकों में स्थित दूरदराज के गांवों को ज्यादातर लोग छोड़कर दूसरी जगह जा चुके हैं। यहां अब कम आबादी रहती है, लिहाजा आग लगने का खतरा ज्यादा रहता है।

  9. इस साल जंगलों में कम लगी आग

    पिछली गर्मियों के मुकाबले पुर्तगाल में इस बार की गर्मियां बेहतर रहीं। बीते 10 सालों में इस बार आग लगने की घटनाओं में 60% की कमी आई और कोई मौत भी नहीं हुई।

  10. आग न लगने की रणनीति बनाने वाली टीम के प्रमुख टियागो ओलीविएरा के मुताबिक- पुर्तगाल में अभी भी काफी खतरा है। वन प्रबंधन द्वारा लिए फैसलों के कुछ दशकों में नतीजे दिखेंगे। यह एक लंबी प्रक्रिया है।

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..