• Hindi News
  • Interesting
  • Hindi speaking woman became the topper in Malayali literacy examination, scoring 100 out of 100

केरल / हिंदी भाषी महिला ने मलयाली साक्षरता परीक्षा में टॉप किया, 100 में 100 अंक हासिल किए

मिशन की डायरेक्टर पीएस श्रीकला ने रोमिया के घर जाकर बधाई दी। मिशन की डायरेक्टर पीएस श्रीकला ने रोमिया के घर जाकर बधाई दी।
X
मिशन की डायरेक्टर पीएस श्रीकला ने रोमिया के घर जाकर बधाई दी।मिशन की डायरेक्टर पीएस श्रीकला ने रोमिया के घर जाकर बधाई दी।

  • बिहार के एक गांव की 26 साल की रोमिया कथुर 6 साल पहले केरल पहुंची गई थी
  • साक्षरता परीक्षा योजना के तहत दूसरे चरण की परीक्षा 19 जनवरी को हुई
  • प्रवासी श्रमिकों के लिए मलयालम भाषा का यह कोर्स 4 महीने का है

दैनिक भास्कर

Feb 16, 2020, 11:23 AM IST

कोल्लम. बिहार के एक गांव से रोजगार के सिलसिले में केरल पहुंची 26 साल की महिला ने मलयालम भाषा की साक्षरता परीक्षा में शीर्ष स्थान हासिल किया है। हिंदीभाषी महिला के मलयालम सीखने को एक मिसाल के रूप में देखा जा रहा है। बिहार के एक गांव से रोजगार की तलाश में रोमिया कथुर 6 साल पहले पति सैफुल्लाह के साथ केरल गई थी।

रोमिया का परिवार दक्षिणी कोल्लम जिले के उमायानल्लूर में रहता था। 19 जनवरी को केरल राज्य साक्षरता मिशन ने प्रवासी श्रमिकों के लिए मलयालम भाषा की यह परीक्षा आयोजित की थी। इसमें तीन बच्चों की मां रोमिया भी शामिल हुई। परीक्षा में रोमिया ने 100 में 100 अंक हासिल किए। 19 जनवरी को आयोजित हुई साक्षरता परीक्षा योजना 'चांगति (दोस्त)' के दूसरे चरण में कुल 1998 प्रवासी मजदूरों ने भाग लिया था। 'चांगति' योजना का लक्ष्य प्रवासी मजदूरों को चार महीने के भीतर मलयालम भाषा सिखाना है। 

योजना 2017 में शुरू हुई थी
साक्षरता मिशन के अधिकारियों के मुताबिक, योजना की शुरुआत 15 अगस्त 2017 को एर्नाकुलम जिले के पेरंबुवूर में हुई थी, जहां बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर हैं। 'चांगति' योजना के दो चरणों में करीब 3700 प्रवासियों ने परीक्षा उत्तीर्ण की है। मिशन की डायरेक्टर पीएस श्रीकला ने रोमिया के घर जाकर बधाई दी। काथुर ने बताया, चांगति योजना के लिए तैयार की गई ‘हमारी मलयालम’नाम की किताब रोजमर्रा के कामों में भी मददगार है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना