इनोवेशन / जापानी वैज्ञानिकों ने बच्चे की शक्ल का रोबोट बनाया, यह स्पर्श और दर्द महसूस कर सकता है; वीडियो वायरल

रोबोट एफेट्टो के चेहरे के अलग-अलग एक्सप्रेशन। रोबोट एफेट्टो के चेहरे के अलग-अलग एक्सप्रेशन।
X
रोबोट एफेट्टो के चेहरे के अलग-अलग एक्सप्रेशन।रोबोट एफेट्टो के चेहरे के अलग-अलग एक्सप्रेशन।

  • रोबोट का नाम  'एफेट्टो' है, इटैलियन में मतलब एफेक्शन यानी प्यार होता है 
  • एफेट्टो को 2011 में तैयार किया था, 2018 तक इसमें कई बदलाव किए गए हैं

दैनिक भास्कर

Feb 25, 2020, 11:32 AM IST

टोक्यो. जापान के वैज्ञानिकों ने एक ऐसा एंड्रॉइड बेस्ड रोबोट बनाया है, जो दर्द महसूस कर सकता है। इनका दावा है कि वह दिन दूर नहीं जब इंसान रोबोट के साथ रह सकेगा।  वैज्ञानिकों ने बताया कि इंसानों से जैसे रोबोट होना नई बात नहीं है, लेकिन इनमें फीलिंग (अहसास) लाना बड़ी कामयाबी है। ओसाका यूनिवर्सिटी की टीम ने ऐसे रोबोट का एक वीडियो जारी किया है।

प्रोफेसर असादा ने इसका नाम 'एफेट्टो' नाम दिया है। इसका इटैलियन में मतलब एफेक्शन यानी प्यार (स्नेह) है। टीम ने रोबोट का चेहरा बनाया है। यह कोमल स्पर्श और कठोर स्पर्श को पहचान कर सकता है और चेहरे पर इसके भाव देखे जा सकते हैं। एफेट्टो को 2011 में इसे लोगों के सामने रखा था। इसके बाद 2018 तक इसमें कई बदलाव किए गए। इसमें इलेक्ट्रिकल चार्ज के जरिए सिंथेटिक स्किन लगाई गई है, इसके जरिए दर्द को महसूस किया जा सकता है।

इसमें इलेक्ट्रिकल चार्ज के जरिए सिंथेटिक स्किन लगाई गई है, इसके जरिए दर्द को महसूस किया जा सकता है।

रोबोट में एक स्पर्श और दर्द तंत्रिका तंत्र का एम्बेड कर रहे हैं
प्रोफेसर असादा ने बताया कि हम रोबोट में एक स्पर्श और दर्द तंत्रिका तंत्र का एम्बेड कर रहे हैं, ताकि रोबोट को दर्द महसूस हो और वह दूसरों के छूने और दर्द को महसूस कर सके। अगर यह संभव हुआ तो हम देखेंगे कि क्या सहानुभूति और नैतिकता भी लाई जा सकती है। उन्होंने बताया कि हम इंटेलिजेंट रोबोट्स के साथ सिम्बाइटिक सोसाइटी बनाने का लक्ष्य रख रहे हैं। प्रोफेसर ने कहा कि हम कामयाब हुए थे तो रोबोट जापान के वृद्ध समाज को भावनात्मक और शारीरिक सहायता प्रदान कर सकते हैं।

वैज्ञानिक इस रोबोट में सहानुभूति और नैतिकता भी लाने का प्रयास कर रहे हैं। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना