• Hindi News
  • Interesting
  • MP, Khandwa government empress Lakshmibai Kanya School, the students, first tell the news, congratulate their colleagues

मध्य प्रदेश / स्कूल में छात्राएं पहले समाचार सुनातीं हैं, साथियों को जन्मदिन की बधाई देती हैं; फिर होती प्रार्थना



समाचार वाचन के बाद शपथ लेतीं छात्राएं। समाचार वाचन के बाद शपथ लेतीं छात्राएं।
X
समाचार वाचन के बाद शपथ लेतीं छात्राएं।समाचार वाचन के बाद शपथ लेतीं छात्राएं।

  • खंडवा के शासकीय महारानी लक्ष्मीबाई कन्या स्कूल में इस प्रयोग के लिए 20 मिनट का अतिरिक्त समय तय किया है
  • देश-विदेश के समाचार, गीत संगीत के साथ राष्ट्रगान, राष्ट्रगीत, ईश वंदना और पंचांग, सुविचार रोज का हिस्सा है

Dainik Bhaskar

Nov 13, 2019, 12:09 PM IST

खंडवा (शरद भावसार). नमस्कार, पेश हैं आज के मुख्य समाचार... अयोध्या फैसले के बाद शहर में अमन-चैन कायम है। स्कूल खुल गए हैं, सभी बच्चे स्कूल जाएं। अगला समाचार... महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर रस्साकशी राष्ट्रपति शासन लगते ही खत्म हो गई है। यह किसी टेलीविजन की समाचार वाचिका के शब्द नहीं बल्कि खंडवा के शासकीय महारानी लक्ष्मीबाई कन्या विद्यालय की स्कूली छात्राओं के हैं। यहां रोज सुबह स्कूल खुलते ही प्रार्थना से पहले छात्राएं शिक्षक और साथी विद्यार्थियों का शहर और देश-विदेश के ताजा समाचार पढ़कर सुनाती हैं। इससे सामान्य ज्ञान की तैयारी भी हो जाती है। इसके अलावा स्कूल में जिसका भी जन्मदिन है, उसे बधाई भी देती हैं। 

 

विद्यालय में इस नवाचार के लिए 20 मिनट का अतिरिक्त समय निकाला जाता है। इस दौरान स्कूल की छात्राएं, शिक्षिकाएं व अन्य स्टाफ सामूहिक रूप से गीत संगीत के साथ राष्ट्रगान, राष्ट्रगीत, ईश वंदना में भाग लेती हैं। प्राचार्य, शिक्षक, शिक्षिकाएं भी हर दिन एक प्रेरक प्रसंग छात्राओं को सुनाते हैं, जो उनके भविष्य के लिए प्रेरणादायी बनें। इसके अलावा, उस दिन का पंचांग, सुविचार भी छात्राओं द्वारा पढ़े और बोर्ड पर लिखे जाते हैं। छात्राएं हर दिन एक प्रतिज्ञा लेकर 'हम सब भारतीय हैं' प्रेरणा गीत प्रस्तुत करती हैं।


हर दिन एक छात्रा को मौका मिलता है 
प्रभारी प्राचार्य संध्या दुबे ने बताया कि यह प्रयोग दो महीने से चल रहा है। छात्राओं ने ही यह शेड्यूल तैयार किया है। कक्षा 11वीं की छात्रा सालेहा खान और करीना तिरोले ने बताया कि हर दिन एक छात्रा को मंच से बोलने का मौका मिलता है। इसके लिए 20 मिनट का शेड्यूल बनाया है। मंच से संबोधन से एक तो छात्राओं की हिचकिचाहट दूर हो रही है, दूसरी ओर उनका सामान्य ज्ञान भी बढ़ता है।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना