पाकिस्तान / हिमस्खलन के बाद बर्फ में 18 घंटे दबी रही 12 साल की लड़की जिंदा मिली

हिमस्खलन में समीना की मां बच गई है, लेकिन बहन और भाई की मौत हो गई। हिमस्खलन में समीना की मां बच गई है, लेकिन बहन और भाई की मौत हो गई।
X
हिमस्खलन में समीना की मां बच गई है, लेकिन बहन और भाई की मौत हो गई।हिमस्खलन में समीना की मां बच गई है, लेकिन बहन और भाई की मौत हो गई।

  • यह मामला पीओके की नीलम वैली का है, यहां सोमवार को आए हिमस्खलन में 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई
  • समीना बीबी ने बताया कि बर्फ में दबे रहने के दौरान वह सोई नहीं, उसका पैर फ्रैक्चर हो गया था

Dainik Bhaskar

Jan 16, 2020, 07:58 PM IST

मुज्जफराबाद.  पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) में हिमस्खलन के बाद करीब 18 घंटे तक बर्फ में दबी 12 साल की लड़की जिंदा मिली। इस आपदा में उसका एक पैर फ्रैक्चर हुआ है। खुशकिस्मत समीना बीबी ने बताया, 'मुझे लगा कि मैं वहां मर जाऊंगी, लेकिन ऊपरवाले ने मुझे नई जिदंगी दी।' स्थानीय मीडिया के मुताबिक, पीओके की नीलम वैली में सोमवार को हुए हिमस्खलन से अब तक करीब 100 लोग मारे जा चुके हैं। इनमें से 74 शव मिल गए हैं।

समीना बीबी ने बताया, 'एवलांच आने के बाद मैं मदद के लिए काफी चिल्लाई। मुझे याद है कि मैं बर्फ के नीचे दब गई थी।' इस आपदा में समीना की मां बच गई है, लेकिन बहन और भाई की मौत हो गई। मां और बेटी को हेलिकॉप्टर से एयरलिफ्ट किया गया। इस हिमस्खलन में 24 से ज्यादा लोग जख्मी हुए हैं। इन सबका इलाज मुज्जफराबाद के अस्पताल में चल रहा है।

जब तक रेस्क्यू नहीं हुआ तब तक मैं सोई नहीं
समीना ने बताया कि बर्फ में दबने के बाद मैं जागती रही। मेरा पैर फ्रैक्चर हो चुका था। बर्फ में दबने और गिरने की वजह से मुंह से खून आ रहा था। समीना की मां ने बताया कि हमारा तीन मंजिला मकान था। भारी बर्फबारी की वजह से हमने परिवार के साथ गांव के दूसरे लोगों को भी शरण दी थी। इसमें 18 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना