रेलवे / सबसे कमाऊ टिकट चेकर, एक साल में 22 हजार बेटिकट यात्रियों से डेढ़ करोड़ रुपए वसूले

साल 2018 में 34.09 लाख बेटिकट यात्रियों से  168.30 करोड़ रुपए का जुर्माना लिया था। (फोटो प्रतीकात्मक) साल 2018 में 34.09 लाख बेटिकट यात्रियों से 168.30 करोड़ रुपए का जुर्माना लिया था। (फोटो प्रतीकात्मक)
X
साल 2018 में 34.09 लाख बेटिकट यात्रियों से  168.30 करोड़ रुपए का जुर्माना लिया था। (फोटो प्रतीकात्मक)साल 2018 में 34.09 लाख बेटिकट यात्रियों से 168.30 करोड़ रुपए का जुर्माना लिया था। (फोटो प्रतीकात्मक)

  • ट्रैवलिंग टिकट इंस्पेक्टर लंबी दूरी की और लोकल ट्रेन में बेटिकट यात्रियों से जुर्माना वसूलते हैं
  • टिकट चेकर एसबी गलांडे ने 2019 में 22680 यात्रियों से 1.51 करोड़ रुपए एकत्रित किए

Dainik Bhaskar

Jan 24, 2020, 02:48 PM IST

नई दिल्ली. रेलवे के एक टिकट चेकर ने 22 हजार से ज्यादा बेटिकट यात्रियों से डेढ़ करोड़ रुपए फाइन वसूलकर रिकॉर्ड बनाया है। रेलवे के अफसरों के मुताबिक, ट्रैवलिंग टिकट इंस्पेक्टर एसबी गलांडे व्यक्तिगत तौर पर सबसे ज्यादा रेवेन्यू कमाने वाले कर्मचारी बन गए हैं। यह कलेक्शन पिछले साल का है। वे सेंट्रल रेलवे (सीआर) फ्लाइंग़ स्क्वाड में पदस्थ हैं।

रेलवे के मुताबिक, तीन अन्य टिकट चेकर ने भी 2019 में एक-एक करोड़ रुपए बेटिकट यात्रियों से कलेक्ट किए। इनमें एमएम शिंदे और डी कुमार (ये गलांडे के साथ कार्यरत हैं), वहीं, मुंबई डिवीजन में चीफ टिकट इंस्पेक्टर रवि कुमार का नाम शामिल है।

12 से 13 घंटे ट्रेन में बिताते हैं
रेलवे अफसरों के मुताबिक, एसबी गलांडे ने 22680 यात्रियों से 1.51 करोड़ रुपए वसूले। वहीं, एमएम शिंदे ने 16035 यात्रियों से 1.07 करोड़ रुपए और डी कुमार ने 15264 यात्रियों से 1.02 करोड़ रुपए का जुर्माना लिया। गलांडे ने बताया कि वह औसतन दिन के 12-13 घंटे ट्रेनों में बिताते हैं। 

टिकट जांचने का काम मुश्किल भरा है 

  • भारत में टिकट चेकर्स को काफी कठिन परिस्थितयों में काम करना पड़ता है। कई बार गुस्साए यात्रियों से झगड़ा या मारपीट तक हो जाती है। अप्रैल से लेकर दिसंबर 2019 तक मध्य रेलवे के उपनगरीय सेक्शन में टिकट चेकर्स के साथ हाथापाई के 6 मामले दर्ज किए गए। 2018 में 3 ऐसे ही मामले दर्ज किए गए जबकि 2017 में आरजी कदम नाम के टीसी को बेटिकट यात्रियों ने रबाले स्टेशन पर सीढ़ियों से धक्का दे दिया था जिससे उनकी मौत हो गई थी। 
  • सेंट्रल रेलवे के चीफ पब्लिक रिलेशन ऑफिसर  शिवाजी सुतार ने बताया कि सेंट्रल रेलवे ने 2019 में 37.64 लाख बेटिकट और अनियमित ट्रेवल एजेंट से 192.51 करोड़ रुपए वसूले। इससे पहले 2018 में 34.09 से 168.30 करोड़ रुपए का जुर्माना लिया था। 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना