मप्र / लकड़बग्घे से आधा घंटे तक लड़ती रही महिला, साड़ी से लपेटकर उसे मार डाला



Samandbai fought with a scary wanderer to save the cattle
Samandbai fought with a scary wanderer to save the cattle
X
Samandbai fought with a scary wanderer to save the cattle
Samandbai fought with a scary wanderer to save the cattle

  • मवेशी चराने के लिए खेत पर गई थी महिला, तभी लकड़बग्घे ने किया हमला
  • मवेशियों को बचाने के लिए लकड़बग्घे से निहत्थे ही भिड़ गई, मंदसौर के कुरावन गांव का मामला

Dainik Bhaskar

Jun 19, 2019, 01:09 PM IST

मंदसौर/शामगढ़. यहां शामगढ़ क्षेत्र के गांव कुरावन में रहने वाली समंदबाई ने साहस की मिसाल पेश की। अपने मवेशियों को बचाने के लिए वह खूंखार लकड़बग्घे से निहत्थे ही भिड़ गई। आधे घंटे तक चले संघर्ष में लकड़बग्घे ने समंदबाई काे अपने नुकीले पंजाें से कई बार घायल किया। फिर भी वे पीछे नहीं हटीं और आखिर में अपनी साड़ी में लपेटकर उसे मार डाला।

 

समंदबाई का अस्पताल में इलाज चल रहा है। डॉक्टरों के मुताबिक, समंदबाई को एंटी रैबीज के इंजेक्शन लगाए गए हैं। उनकी हालत में सुधार है।

 

'लकड़बग्घे ने आंख पर वार किया तो मैंने उसका गला घोंट दिया'

समंदबाई ने बताया, "मैं सोमवार शाम 5 बजे खेत में मवेशियाें काे चराने के लिए गई थी। अचानक एक लकड़बग्घा आया और उसने मवेशियों पर हमला कर दिया। इससे मैं घबरा गई, लेकिन मैंने तुरंत अपने आपकाे संभाला और मवेशियाें काे बचाने के लिए लकड़बग्घे से भिड़ गई। झूमाझटकी के बीच जब लकड़बग्घे ने आंख पर वार किया तो गुस्से में आकर मैंने साड़ी से लपेटकर उसका गला घाेंट दिया। फिर भी वह पैरों से नोंचने लगा तो साड़ी से बांधकर जमीन पर पटक दिया। एक घंटे बाद लकड़बग्घे ने दम तोड़ दिया। इस दौरान मैं भी थककर जमीन पर गिर गई थी। इसके बाद जैसे-तैसे अपना मोबाइल खोजकर पति कन्हैयालाल को सूचना दी। वे पड़ोसियों और परिजन को लेकर खेत पहुंचे और मुझे अस्पताल लेकर आए।"

 

क्षेत्र में 40 से अधिक लकड़बग्घे, वन विभाग नहीं करता कार्रवाई : गांव के ईश्वरलाल, प्रभुलाल, गोविंदराम  ने बताया कि गांव के आसपास 40 से अधिक लकड़बग्घे घूम रहे हैं। वन विभाग को कई बार शिकायतें की, लेकिन वे ध्यान नहीं देते। उधर, वन विभाग के अफसर आरएस रावत ने बताया कि कुरावन क्षेत्र में लकड़बग्घों की संख्या ज्यादा है, वे चालाक होते हैं। पिंजरा रखने के बाद भी उन्हें पकड़ पाना मुश्किल होता है। इसलिए लोगों काे सतर्क रहना जरूरी है। वे छोटे पशुओं को बाहर न बांधें।

 

aa

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना