ब्रुनेई / वैज्ञानिकों ने घोंघे की एक नई प्रजाति खोजी, ग्रेटा थनबर्ग का नाम दिया

नई प्रजाति के घोंघे ब्रूनेई के कुआला बेलालॉन्ग फील्ड स्टबडीज सेंटर के करीब पाए गए।  नई प्रजाति के घोंघे ब्रूनेई के कुआला बेलालॉन्ग फील्ड स्टबडीज सेंटर के करीब पाए गए। 
X
नई प्रजाति के घोंघे ब्रूनेई के कुआला बेलालॉन्ग फील्ड स्टबडीज सेंटर के करीब पाए गए। नई प्रजाति के घोंघे ब्रूनेई के कुआला बेलालॉन्ग फील्ड स्टबडीज सेंटर के करीब पाए गए। 

  • घेंघा की नई प्रजाति तापमान के प्रति संवेदनशील है, यह दो मिमी लंबा और एक मिमी चौड़ा है 
  • वैज्ञानिकों ने बताया- जलवायु परिवर्तन के प्रति जागरुकता फैलाने में ग्रेटा थनबर्ग के प्रयासों के लिए उन्हें यह सम्मान दिया गया

दैनिक भास्कर

Feb 22, 2020, 09:32 AM IST

बंदर सेरी बेगावन. ब्रुनेई में वैज्ञानिकों ने घोंघे की एक नई प्रजाति की खोज की है। तापमान के प्रति संवेदनशील इस प्रजाति का नाम पर्यावरण एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग के नाम पर क्रास्पेडोट्रोपिस ग्रेटाथनबर्ग रखा गया है। ग्रेटा जलवायु परिवर्तन को लेकर दुनियाभर में जागरुकता फैलाने का काम कर रही हैं। यह सम्मान इन्हीं प्रयासों को देखते दिया गया है।

वैज्ञानिकों का कहना है कि ग्रेटा थनबर्ग के नाम पर इसका नामकरण करने के पीछे हमारा उद्देश्य यह बताना है कि थनबर्ग की पीढ़ी को उन समस्याओं का समाधान भी ढूंढना होगा, जिन्हें उन्होंने पैदा नहीं किया। यह घेंघा दो मिमी लंबा और एक मिमी चौड़ा है। 

शोध 10 दिन चला 

  • बायोडायवर्सिटी डाटा जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में बताया गया है कि घोंघों की यह प्रजाति केनोगैस्ट्रोपॉड्स समूह से संबंधित है। जमीन पर रहने वाली इस प्रजाति पर सूखा, तापमान में अत्यधिक उतार-चढ़ाव और जंगलों की कटाई का असर होता है। नीदरलैंड्स के नैचुरलिस बायोडायवर्सिटी सेंटर के मेनो शिल्थुईजेन सहित अन्य वैज्ञानिकों ने बताया कि नई प्रजाति के घोंघे ब्रूनेई के कुआला बेलालॉन्ग फील्ड स्टबडीज सेंटर के करीब पाए गए। 
  • वैज्ञानिकों ने बताया कि नई प्रजाति की खोज के लिए सारा काम ऐसी जगह पर किया गया, जहां केवल बुनियादी सुविधाएं ही मौजूद थीं। इंटरनेट तक उपलब्ध नहीं था। यह शोध 10 दिन तक चला।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना