• Hindi News
  • Interesting
  • Scientists in Minnesota studied and build a working dictionary of 1,500 dance moves that bees use to communicate with each other while flying in formation

शोध / वैज्ञानिकों ने मधुमक्खियों के 1500 मूव्स की डिक्शनरी बनाई, इसके जरिए वे एक दूसरे को संदेश देती हैं

जिन क्षेत्रों में फूलों की संख्या अधिक थी, वहां मधु मक्खियों की संख्या में बढ़ोतरी देखी गई। जिन क्षेत्रों में फूलों की संख्या अधिक थी, वहां मधु मक्खियों की संख्या में बढ़ोतरी देखी गई।
X
जिन क्षेत्रों में फूलों की संख्या अधिक थी, वहां मधु मक्खियों की संख्या में बढ़ोतरी देखी गई।जिन क्षेत्रों में फूलों की संख्या अधिक थी, वहां मधु मक्खियों की संख्या में बढ़ोतरी देखी गई।

  • मिनीसोटा यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने प्रेयरीलैंड में मधुमक्खियों की दो कॉलोनीज का अध्ययन किया
  • वैज्ञानिकों पाया मधुमक्खियां आपस में संचार के लिए वैंगल्स डांस कर युवा मक्खियों से संचार करती हैं

Dainik Bhaskar

Feb 15, 2020, 04:35 PM IST

मिनीसोटा. वैज्ञानिकों ने मधुमक्खियों के बीच आपसी संचार के 1500 से अधिक तरीकों का पता लगाया है। इनका इस्तेमाल नई मधुमक्खियों को फूलों की जगह, दूरी और दिशा बताने के लिए किया जाता है। अमेरिका की मिनीसोटा यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने प्रेयरीलैंड (घासभूमियों) में मधुमक्खियों की दो कॉलोनीज (छत्तों) का अध्ययन कर उनके वर्किंग मूव्स से जुड़ी एक डिक्शनरी तैयार की है। रिसर्चर मॉर्गन कार मर्केल के नेतृत्व में टीम ने मिनिसोटा की दो अलग-अलग जगहों पर अध्ययन किया। इनमें पहले से विकसित छत्ते वाली जगह (रहने के अनुकूल) और छत्ते की नई जगह (रहने के लिए प्रतिकूल) शामिल थी। टीम मूल रूप से जानना चाहती थी कि मधुमक्खियां युवा मधुमक्खियों को फूलों का स्रोत कैसे बताती हैं।

अध्ययनकर्ताओं ने पाया किसी भी स्थान से गुजरते समय मधुमक्खियों का व्यवहार बदलता है। वे अपने संचार के लिए वैंगल्स डांस करती हैं। यह अंग्रेजी के आठ आकार में होता है। मधुमक्खियों का उड़ते हुए आठ आकार बनाना दूसरी मधुमक्खी सदस्यों के लिए सूचना का दायरा बताता है। इसमें इनका मुड़ना परागकणों की उपलब्धता की दिशा और दूरी को बतलाता है।

1528 वैंगल्स डांसेस की सूची तैयार की 
टीम ने मधुमक्खियों के 1528 वैंगल्स डांसेस की सूची तैयार की है। इस अध्ययन का मकसद मधुमक्खियों के पालन में रूचि रखने वाले किसानों को जानकारी देना है, ताकि वे अपनी जमीन के आसपास पॉलीनेशन को बढ़ा सकें। इससे ज्यादा फसल का उत्पादन होगा और अधिक खाद्यान उत्पन्न होगा।

दुनियाभर में पॉलिनेशन का 80% काम मधुमक्खियां करती हैं 
ग्रीनपीस के मुताबिक, मधु मक्खियां घरेलु और जंगली दोनों तरह की होती हैं। दुनियाभर के पौधों के फूलों में होने वाले पॉलिनेशन का 80% काम यहीं करती हैं। इनके द्वारा की गई फूलों की पॉलिनेशन के बाद ही पौधों में फल लगने शुरू होते हैं। बीते कुछ सालों से इनकी कॉलोनियां तेजी से घटी हैं। इनमें किसानों द्वारा फसलों पर कीट नाशकों का इस्तेमाल, आवास का उजड़ना, सूखा, परागकणों की कमी और ग्लोबल वार्मिंग जैसे प्रमुख कारण हैं। इन कारणों में से कीटनाशकों को इस्तेमाल और आवासों का उजड़ना मानव जनित हैं। 

ऐसे रुकेगी मधु मक्खियों की घटती आबादी

  • मधु मक्खियों के आवास की रक्षा की जाए।
  • इनके पारिस्थितिक तंत्र के अनुकूल खेती की जाए।
  • इन्हें नुकसान पहुंचाने वाले कीटनाशकों को प्रयोग बंद किया जाए।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना