इटली / लोग शेक्सपियर की प्रेमिका जूलियट को पत्र भेजते हैं, उन्हें जवाब भी मिलते हैं

जूलियट क्लब में पत्रों के बीच टीम के सदस्य। जूलियट क्लब में पत्रों के बीच टीम के सदस्य।
X
जूलियट क्लब में पत्रों के बीच टीम के सदस्य।जूलियट क्लब में पत्रों के बीच टीम के सदस्य।

  • वेरोना शेक्सपियर की प्रेमिका जूलियट का शहर, यह खूबसूरती के लिए भी प्रसिद्ध है
  • जूलियट क्लब के सैकड़ों मेंबर्स की टीम जूलियट की ओर से खतों के जवाब देती है
  • टीम में कई भाषाओं के अनुवादक, मनोविज्ञानी, डॉक्टर, लेखक, उच्च शिक्षित व्यक्ति शामिल हैं
  • ऐसी मान्यता है कि जूलियट के नाम खत लिखने पर आपको अपना प्यार मिल जाता है

दैनिक भास्कर

Nov 07, 2019, 12:08 PM IST

वेरोना. इटली का खूबसूरत शहर वेरोना इसलिए भी प्रसिद्ध है, क्योंकि वहां विलियम शेक्सपियर की प्रेमिका जूलियट रहा करती थी। उनके नाम पर वहां एक 'जूलियट क्लब' है, जहां दुनियाभर से कई भाषाओं में लिखे खत आते हैं। ये खत उन लोगों के होते हैं जो प्रेम में असफल रहते हैं या जिसे प्रेम करते हैं, उसे जीवन साथी बनाना चाहते हैं। ऐसी मान्यता है कि जूलियट के नाम खत लिखने पर आपको अपना प्यार मिल जाता है। 

 

मजेदार बात यह है कि अधिकतर खत जूलियट के नाम आते हैं, शेक्सपियर के नाम कभी-कभार कोई खत आता है। इस क्लब में कई स्वयंसेवक हैं, जो प्यार की नायिका जूलियट की ओर से सैकड़ों खतों का जवाब देते हैं। खतों का जवाब देने वाली टीम में कई भाषाओं के अनुवादक, मनोविज्ञानी, डॉक्टर, उच्च कोटि के लेखक, उच्च शिक्षित, जहीन और सुलझे विचारों वाले लोग शामिल हैं।

'जूलियट, वेरोना, इटली' पते से भी खत पहुंचता है

क्लब के 41 साल के सदस्य मार्टिन होपले ने बताया, ‘‘इस क्लब की लोकप्रियता इतनी है कि एड्रेस पर 'जूलियट, वेरोना, इटली' भी लिखा हो तो आपका खत यहां पहुंच जाता है। उन्होंने बताया कि दुनियाभर से आने वाले इन खतों में प्यार के रास्ते में आने वाले संकटों से उबरने का उपाय पूछा जाता है।

होपले के मुताबिक, ‘‘लोग इसी विश्वास के साथ क्लब को खत भेजते हैं कि उन्हें जवाब जरूर मिलेगा। हम लोगों का फोकस होता है कि प्रेम में असफल ऐसे लोगों को मूल्यवान सलाह देने की कोशिश करना। अनुभव के आधार पर हम ऐसे जवाब देने का प्रयास करते हैं, जिससे वे संतुष्ट हो जाएं। क्लब में ऐसे लेखकों का एक बड़ा समूह है जो उम्दा किस्म के उत्तर देने के लिए प्रतिबद्ध है। खतों का जवाब देने का हमारा एक स्तर बना हुआ है।’’

डाकिया रोजाना खतों का पैकेट क्लब में दे जाता है। क्लब के सदस्य इन पत्रों को पढ़कर जवाब लिखने में जुट जाते हैं। वे जानते हैं कि जवाब लिखने से उन प्रेमियों की समस्याओं का समाधान नहीं होने वाला, लेकिन हम चाहते हैं कि जूलियट लोगों के दिलों में जिंदा है तो वह जिंदा ही रहे। होपले ने बताया, ‘‘एक व्यक्ति ने लिखा था- 'प्रिय जूलियट, तुम ही मेरी अंतिम आशा हो। वो लड़की जिसे मैं दुनिया में सबसे ज्यादा प्यार करता हूं, मुझे छोड़कर चली गई है, मैं टूट चुका हूं। बताओ मैं क्या करूं...?' हमें ऐसे खतों का जवाब बहुत सोच-समझकर देना होता है।’’

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना